200 cancer patients stranded with relatives in Mumbai due to lockdown, said – forced to stay on the road | लॉकडाउन से मुंबई में रिश्तेदारों संग फंसे 200 कैंसर पीड़ित, बोले- सड़क पर रहने को मजबूर

200 cancer patients stranded with relatives in Mumbai due to lockdown, said – forced to stay on the road | लॉकडाउन से मुंबई में रिश्तेदारों संग फंसे 200 कैंसर पीड़ित, बोले- सड़क पर रहने को मजबूर


  • विभिन्न राज्यों से इलाज करने मुंबई आए मरीजों ने कहा-मुंबई में रहने का खर्च नहीं उठा सकते
  • ये मरीज और उनके रिश्तेदार स्थानीय लोगों द्वारा किए गए रहने-खाने के इंतजामों पर जिंदा हैं

दैनिक भास्कर

Mar 29, 2020, 11:42 AM IST

मुंबई. कैंसर के इलाज के लिए विभिन्न राज्यों से मुंबई आए 200 मरीज लॉकडाउन में फंसे हैं। सभी सड़क किनारे रहने को मजबूर हैं। साधन नहीं होने के कारण ये अपने घर भी नहीं जा सकते हैं। रुपए की कमी होने से मुंबई में कमरे का किराया दे नहीं सकते। ऐसे में सभी स्थानीय लोगों की कृपा पर जिंदा हैं। लॉकडाउन के बीच इनके रहने और खाने पीने का इंतजाम स्थानीय लोग ही कर रहे हैं। 

झारखंड के कैंसर पीड़ित रजिथ ने बताया, ‘‘मेरे जैसे यहां 200 से ज्यादा लोग हैं। मेरी 23 मार्च को मुंबई से लौटने की टिकट थी, लेकिन सबकुछ बंद होने से यहां फंस गया हूं।’’

महाराष्ट्र में कोरोनावायरस के आज सबसे ज्यादा 7 नए मामले सामने आए हैं

दिल्ली से हजारों मजदूर लौटने को मजबूर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनावायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश में 21 दिन का लॉकडाउन किया है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से हजारों की संख्या में मजदूर उत्तर प्रदेश और बिहार समेत दूसरों राज्यों में अपने घरों को पैदल लौटने को मजबूर हैं। हालांकि, मजदूरों की संख्या अधिक होने पर स्थानीय प्रशासन ने बसों का इंतजाम किया था।
 
देश में संक्रमितों की संख्या एक हजार ज्यादा 
देश में कोरोनावायरस से संक्रमितों की संख्या रविवार सुबह तक covid19india.org वेबसाइट के अनुसार 1040 है। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा आज 7 नए मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना से संक्रमितों के इलाज के लिए महात्मा फुले जन आरोग्य योजना शुरू की है। यह 1 अप्रैल से लागू होगी। सरकार के आंकड़ों में अभी संक्रमितों की संख्या 979 है। बताया जा रहा है कि इनमें से 86 ठीक हो चुके हैं, जबकि 25 की मौत हो चुकी है।

Leave a Reply