september 2020; Pranab Mukherjee passes away, JEE exam starts and sushant case CBI probe, corona vaccine trial and big news updates with Dainik Bhaskar Morning Briefing Today | गणपति बप्पा और प्रणब दा के साथ अगस्त की गमगीन विदाई, पितृ पक्ष के साथ अनलॉक की आजादी लिए आया है 2020 का 9वां महीना


  • Hindi News
  • National
  • September 2020; Pranab Mukherjee Passes Away, JEE Exam Starts And Sushant Case CBI Probe, Corona Vaccine Trial And Big News Updates With Dainik Bhaskar Morning Briefing Today

24 मिनट पहलेलेखक: कमलेश माहेश्वरी

1 सितंबर, साल का 245वां दिन। भारी मन से गणपति बप्पा की विदाई हो रही है और नम आंखों के साथ प्रणब दा को अलविदा कहना पड़ रहा है। फैसलों से लग रहा है कि ये 9वां महीना कई मायनों में कोरोना काल की लगभग समाप्ति का महीना रहेगा। ऐसे में आज पहले दिन थोड़े से बदले अंदाज के साथ मॉर्निंग न्यूज ब्रीफ ताकि आपका दिन बेहतर हो और दिमाग स्मार्ट तरीके से सोचे-

आज इन 10 बड़े इवेंट्स और खबरों पर रहेगी नजर

  • पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को आज अंतिम विदाई दी जाएगी। गृह नगर प.बंगाल की जगह नई दिल्ली में पूरे राजकीय सम्मान के साथ प्रणब दा का अंतिम संस्कार होगा।
  • देशभर में आज से कोरोना अनलॉक-4 शुरू हो रहा है। इसके तहत सबसे पहले टेकअवे बार खुलेंगे। 7 सितंबर से मेट्रो चलेंगी और 21 से थिएटर खुलने लगेंगे।
  • आज से ज्वॉइंट एंट्रेस एग्जाम JEE मेन शुरू हो रही है। तमाम विवादों के बीच इस इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा में करीब 10 लाख बच्चे बैठेंगे।
  • आज अनंत चतुर्दशी है,और देशभर में 10 दिन के गणेश उत्सव का समापन हो जाएगा। कोरोना संकट के कारण इस बार भव्य विसर्जन पर पाबंदी है।
  • आज से वंदे भारत मिशन का छठवां चरण शुरू होगा। कनाडा के टोरंटो, वैंकुवर और चीन के शंघाई से एयर इंडिया की 31 फ्लाइट्स से भारतीय स्वदेश लौटेंगे।
  • आज से पुराने दरों के हिसाब से ही EMI चुकानी होगी, क्योंकि मार्च में दी गई छूट खत्म हो गई है। एलपीजी रेट्स रिवाइज होंगे और हवाई यात्रा महंगी हो जाएगी।
  • आज से GST के भुगतान में देरी पर कुल टैक्स देनदारी पर 18% ब्याज लगेगा। GST काउंसिल की बैठक में यह निर्णय लिया गया था।
  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर आज से कमोडिटी डेरिवेटिव्स में सिल्वर ऑप्शन में ट्रेडिंग की सुविधा लॉन्च की जाएगी।
  • आज से विदेशी खिलौने के लिए क्वॉलिटी कंट्रोल स्टैंडर्ड (QCS) लागू होंगे। अब अनिवार्य जांच के बाद ही खिलौनों को भारत में एंट्री मिलेगी।
  • आज वेस्पा अपना नया स्कूटर रेसिंग सिस्सटीज लॉन्च करेगी। सैमसंग फोल्डेबल फोन गैलेक्सी Z-फोल्ड 2 और हॉन्गकॉन्ग की टेक्नो स्पार्क गो 2020 उतारेगी।

कल की महत्वपूर्ण खबरें जो आप जानना चाहेंगे –

1. प्रणब दा के साथ एक युग का अंत

पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणब मुखर्जी हमें छोड़कर चले गए… 84 साल के प्रणब मुखर्जी की हालत 10 अगस्त के बाद से ही गंभीर थी। यूपीए के तारणहार और पीएम मोदी समेत संघ प्रिय प्रणब दा का जाना वाकई एक युग का अंत है। देश में 7 दिन का राष्ट्रीय शोक है और प्रणब दा को अंतिम विदाई के साथ उनकी हर उस बात को याद कर रहे हैं, जो दलों से ज्यादा दिलों को जोड़ती थी।

  • पढ़ें, प्रणब दा के जाने की खबर

2. इकॉनमी को 40 साल में सबसे बड़ा झटका

बस इसी खबर का डर कई महीनों से था, जीडीपी के मोर्चे पर भारत को 40 साल में पहली बार इतना बड़ा झटका लगा है ... देश में पहली तिमाही में जीडीपी की ग्रोथ रेट -23.9% रही है। भारत की अर्थव्यवस्था कहां है, इसे इस तरह से समझा जा सकता है कि जी-20 इकॉनमी वाले देशों में जीडीपी के मामले में सबसे खराब परफॉर्मेंस भारत की है।

3. लद्दाख में 75 दिन बाद फिर तनातनी

चीन चाहता क्या है? एक तरफ सुलह है, तो दूसरी तरफ सुलगाने वाली हरकतें … दो दिन पहले चीन ने फिर से पूर्वी लद्दाख के भारतीय इलाके में घुसपैठ की कोशिश की थी। भारतीय जवानों ने इसे नाकाम कर दिया। घुसपैठ को लेकर रक्षा मंत्रालय ने सोमवार को एक नोट जारी करके बताया है। चीन ने सीमा पर जे-20 फाइटर प्लेन भी तैनात किए हैं।

4. सिर्फ 1 रुपए में छूट गए प्रशांत भूषण

अहं और न्याय के टकराव के बीच, न्यायपालिका के गलियारों का दिलचस्प केस 1 रुपए में सुलट गया…सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने कन्टेम्प्ट ऑफ कोर्ट मामले में सीनियर एडवोकेट प्रशांत भूषण पर सिर्फ एक रुपए का जुर्माना लगाया। भूषण माफी न मांगने पर अड़े थे और कोर्ट माफी न देने पर डटी थी। अब इस फैसले पर कहा जा रहा कि कोर्ट के सामने भूषण की हैसियत 1 रुपए के बराबर ही तो है।

5. सुशांत केस में सीबीआई के 11 दिन

जून से सितंबर आ गया, सुशांत केस जाने कौन सी थ्योरी पर जाकर क्रैक होगा….अब इस मामले में सक्षम कही जाने वाले सीबीआई को भी कुछ सूझ नहीं रहा। सोमवार को इस मामले में सीबीआई जांच 11वां दिन था और रिया को घेरने का चौथा दिन। कुल 35 घंटे की दिल-दिमाग हिला देने वाली पूछताछ के बाद भी अभी सब कुछ उलझा हुआ है। नजर बनी रहेगी कि कौन सी थ्योरी सच साबित होती है।

6. कोरोना LIC का कुछ नहीं बिगाड़ पाया

65वें बर्थडे पर देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी LIC से जुड़ी ये खबर एक टॉकिंग पाइंट है… कोरोना काल के बावजूद आज अपने 64 साल पूरे कर रही इस सरकारी कंपनी पर निवेशकों का भरोसा कायम है और बढ़ भी रहा है। आंकड़े कहते हैं कि 2019-20 में LIC ने 2.19 करोड़ नई पॉलिसी बेची हैं, जो 6 साल में रिकॉर्ड है। क्लेम सेटलमेंट में 159,770.32 करोड़ रुपए का भुगतान किया और 215.98 लाख दावे निपटाए गए।

7. वायरस के लिए एक डोज काफी नहीं

थोड़ा परेशान करने वाली खबर क्योंकि कोरोना की एक वैक्सीन लगवाने से कुछ नहीं होगा… ये बात अमेरिकी विशेषज्ञ कह रहे हैं कि आने वाले दिनों में जब वैक्सीन आएगी तो उसके केवल एक डोज से काम नहीं चलेगा। लोगों को दो डोज की जरूरत पड़ेगी। मौजूदा समय में ही टेस्टिंग किट, पीपीई किट और दूसरी जरूरी चीजों की कमी है। ऐसे में दो बार वैक्सीनेशन का प्रोग्राम चलाना बड़ा मुश्किल होगा।

अब जान लेते हैं कि 1 सितंबर के इतिहास में क्या खास रहा …

दूसरे विश्वयुद्ध के समय की तस्वीर जिसमें तानाशाह हिटलर सेना को मार्च करते देख रहा।

दूसरे विश्वयुद्ध के समय की तस्वीर जिसमें तानाशाह हिटलर सेना को मार्च करते देख रहा।

  • 01 सितंबर 1939 को 15 लाख सैनिकों के साथ हिटलर की जर्मन सेना ने पोलैंड पर हमला बोला था और इसी के साथ शुरू हुआ था दूसरा विश्व युद्ध। इसमें करीब 5 करोड़ लोगों की जान गई थी।
  • 1947 में आज ही के दिन इंडियन स्टैंडर्ड टाइम (IST) अस्तित्व में आया था। हमारा IST इंग्लैंड के ग्रीनविच के स्टैंडर्ड टाइम से साढ़े पांच घंटे आगे है ! मतलब इंग्लैंड में जब दोपहर के 12 बजते हैं, तब भारत में शाम के 5:30 बजे का समय होता है।
  • आज ही के दिन 1933 में उत्तरप्रदेश के बिजनौर में मशहूर कवि और गज़ल लेखक दुष्यंत कुमार का जन्म हुआ था। सिर्फ 42 साल की उम्र में बहुत धारदार रचनाओं की विरासत छोड़ दुष्यंत कुमार दुनिया से रुखसत हो गए थे।
  • आखिर में दुष्यंत कुमार की गजल ‘ये जो शहतीर है पलकों पे उठा लो यारो’ की चार पंक्तियां जो कहती हैं कि चाहो तो सब संभव है

रहनुमाओं की अदाओं पे फ़िदा है दुनिया

इस बहकती हुई दुनिया को संभालो यारो

कैसे आकाश में सुराख़ नहीं हो सकता

एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो

0

China redeploys J-20 fighter jets near Ladakh: report – चीन ने लद्दाख के पास जे -20 फाइटर जेट्स को फिर से तैनात किया: रिपोर्ट


चीन ने लद्दाख के पास जे -20 फाइटर जेट्स को फिर से तैनात किया: रिपोर्ट

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है. सूत्रों के हवाले से जानकारी आई थी कि पैंगौन्ग झील के दक्षिणी किनारे (Pangong Lake) पर रातभर में चीनी सेना की ओर से आक्रामक सैन्य गतिविधि करते हुए यथास्थिति में बदलाव करने की कोशिश की गई थी. जिसके बाद भारतीय सेना ने उनके प्रयास को विफल कर दिया था. इधर इस घटना के बाद एक पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के वायु सेना ने एक बार फिर से J-20 लड़ाकू विमान को सीमा पर तैनात कर दिया है. 

यह भी पढ़ें

सरकारी सूत्रों के हवाले से ANI ने  बताया है कि जे -20 को पीएलएएएफ द्वारा हॉटन एयर बेस पर तैनात किया गया है और वे लद्दाख और आस-पास के इलाकों में भारतीय क्षेत्र के करीब उड़ान भर रहे हैं. बमवर्षक विमानों की तैनाती अभी भी चीन द्वारा की जा रही है. बताते चले कि सूत्रों के मुताबिक, 10 सितंबर को राफेल लड़ाकू विमान की आधिकारिक तौर पर इंडक्शन सेरेमनी हो सकती है. भारत की तैयारी को देखते हुए चीन की तरफ से अपने सबसे मजबूत लड़ाकू विमान को तैनाती हुयी है. 

गौरतलब है कि 15 जून को पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद बाद तेजी से कार्रवाई करते हुए, भारतीय नौसेना ने दक्षिण चीन सागर में तैनाती के लिए अपने युद्धपोत भेज दिए थे, जिससे नाराज चीन ने इस मुद्दे को दोनों पक्षों के बीच वार्ता के दौरान भी उठाया और भारत के इस कदम पर आपत्ति जताई थी. 

VIDEO: लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों का बड़ा जमावड़ा

Prashant Bhushan Fined One Rupee Explained | All You Need To Know Advocate Prashant Bhushan Contempt Case | प्रशांत भूषण 1 रुपया जुर्माना देकर बच गए; लेकिन जानिए कोर्ट पर कोई भी टिप्पणी आपको कैसे जेल पहुंचा सकती है


9 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

सुप्रीम कोर्ट ने कन्टेम्प्ट ऑफ कोर्ट मामले में सीनियर एडवोकेट प्रशांत भूषण पर एक रुपए का जुर्माना लगाया है। यदि 15 सितंबर तक जुर्माना नहीं भरा तो तीन महीने की जेल होगी। तीन साल के लिए वकालत छूट जाएगी, वो अलग।

प्रशांत भूषण देश के नामी वकील हैं। सोशल मीडिया पर कोर्ट या जजों पर टिप्पणी करने का क्या नतीजा निकल सकता है, जानते-समझते हैं। उन्होंने केस लड़ भी लिया। लेकिन आपको पता होना चाहिए कि कोर्ट, खासकर सुप्रीम कोर्ट या किसी भी हाईकोर्ट के किसी फैसले की आलोचना या विरोध आपको जेल पहुंचा सकता है।

चलिए, बात करते हैं क्या होता है कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट और इसकी प्रक्रिया क्या होती है? और, हमें कोर्ट के किसी भी फैसले पर बिना सोचे-समझे सवाल क्यों नहीं उठाने चाहिए?

सबसे पहले, क्या है कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट?

  • कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट को यदि सरल भाषा में कहें तो आपने कोर्ट का अपमान किया है। उसके फैसले की आलोचना कर या ठुकराकर उसके सम्मान को ठेस पहुंचाई है।
  • सदियों पहले, इंग्लैंड में यह कंसेप्ट आया था। उस समय राजा या उसकी ओर से नियुक्त जजों का सम्मान जरूरी था। जजों के फैसले की अवहेलना को राजा का अपमान माना जाता था।
  • बात सिर्फ फैसलों तक सीमित नहीं थी, बल्कि कोर्ट के आदेश का पालन न करना भी कंटेम्प्ट माना जाता था। इस पर जजों को दंडित करने का अधिकार दिया गया था।
  • भारत में आजादी के पहले से ऐसे कानून रहे हैं। जब संविधान बना तो उसके आर्टिकल 129 में सुप्रीम कोर्ट को उसका अपमान करने वालों को दंडित करने का अधिकार दिया गया।
  • हाईकोर्टों को यह अधिकार आर्टिकल 215 में दिया है। 1971 में कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट्स एक्ट बना, जिसमें इसे विस्तार से समझाया गया।

…तो भारत में कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट किसे माना जाएगा?

  • जब इस संबंध में कानून बना तो सबकुछ उसके आधार पर ही चलने लगा। कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट्स एक्ट 1971 के तहत दो तरह का कंटेम्प्ट होता है- सिविल और क्रिमिनल।
  • जब कोर्ट की ओर से कोई आदेश जारी होता है तो उसका पालन आवश्यक होता है। यदि अदालत के आदेश का जान-बूझकर पालन नहीं हुआ है तो केस सिविल कंटेम्प्ट का बनता है।
  • क्रिमिनल कंटेम्प्ट कॉम्प्लेक्स है। यह तीन तरह का होता है। बोले गए या लिखे गए शब्द जो किसी कोर्ट के अधिकारों को स्कैंडेलाइज करते हैं।
  • इसके अलावा किसी न्यायिक कार्यवाही के प्रति पूर्वाग्रह व्यक्त करना या उसमें हस्तक्षेप करना। और, न्याय प्रक्रिया को रोकना या उसमें हस्तक्षेप करना भी क्रिमिनल कंटेम्प्ट है।
  • ज्युडिशियरी या किसी जज पर आरोप लगाना, जजमेंट और ज्युडिशियरी की मंशा पर सवाल उठाना और जजों के आचरण पर शाब्दिक हमलों को ज्युडिशियरी को स्कैंडेलाइज करना।
  • इस प्रावधान के पीछे तर्क यह है कि अदालतों का सम्मान कायम रहे, उसके फैसलों पर कोई सवाल न उठा सके। उसकी छवि खराब न की जा सके। लोगों का उस पर भरोसा बना रहे।
  • कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट के मामले में दोष साबित होने पर छह महीने तक की सजा और/या 2,000 रुपए तक का जुर्माना होता है। अक्सर कंटेम्प्ट करने वाले की माफी भी काफी होती है।

क्या करना कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट में नहीं आता?

  • ज्युडिशियल प्रोसीडिंग की निष्पक्षता के साथ सटीक रिपोर्टिंग और किसी ज्युडिशियल आदेश की तर्कों के आधार पर आलोचना को कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट नहीं है।
  • ऐसी छवि बन रही थी कि ज्युडिशियरी सिर्फ अपनी संस्था की छवि बचाए रखने और जजों के कदाचार को छिपाने के लिए कंटेम्प्ट की कार्रवाई कर रही है।
  • तब 2006 में कानून में संशोधन किया गया और सच को बचाव के तौर पर स्वीकार किया गया। उसका जनहित में होना आवश्यक है।

0

Boat capsized with people going to attend the funeral of a relative, one dead – रिश्तेदार के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने जा रहे लोगों से भरी नाव पलटी, एक की मौत


रिश्तेदार के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने जा रहे लोगों से भरी नाव पलटी, एक की मौत

प्रतीकात्मक तस्वीर

रंगिया:

असम के कामरूप जिले में सोमवार को एक नाव के पलट जाने से एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि छह अन्य ने तैर कर अपनी जान बचा ली.पुलिस ने बताया कि यह नाव सुआलकुची शहर के पास बमुंडी पर ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी को पार करने के दौरान पलट गई. उन्होंने बताया कि मृतक की पहचान अश्विनी नाथ के तौर पर हुई है. वह नलबाड़ी जिले का रहने वाला था. स्थानीय लोगों ने उनके शव को निकाला और अस्पताल ले जाने पर उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

यह भी पढ़ें

अधिकारियों ने बताया कि नाथ और छह अन्य एक रिश्तेदार के अंतिम संस्कार में भाग लेने के लिए जा रहे थे जो नदी के सामने वाले तट पर हो रहा था. गौरतलब है कि असम में बाढ़ का भी कहर देखने को मिल रहा है. हालांकि कई क्षेत्रों में जलस्तर में गिरावट आयी है.

VIDEO: बिहार बाढ़: तीन नदियों से घिरे गांव के लोगों को नाव भी नसीब नहीं

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Pranab Mukherjee Death News; Political Journey Updates In Photos (1935-2020) | Remarkable Journey Of Former President Of India Pranab Mukherjee In Pictures | करियर की शुरुआत क्लर्क के तौर पर की थी, 1969 में राजनीति में आए और राष्ट्रपति बनने तक का सफर तय किया


  • Hindi News
  • National
  • Pranab Mukherjee Death News; Political Journey Updates In Photos (1935 2020) | Remarkable Journey Of Former President Of India Pranab Mukherjee In Pictures

नई दिल्ली8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • प्रणब मुखर्जी 5 बार राज्यसभा के सदस्य चुने गए। 2 बार लोकसभा सांसद बने। 77 साल की उम्र में राष्ट्रपति बने
  • राजनीति में आने से पहले प्रणब दा देशर डाक (मातृभूमि की पुकार) मैगजीन में पत्रकार रहे

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी हमारे बीच नहीं रहे। उनका 84 साल की उम्र में निधन हो गया। 60 साल के राजनीतिक जीवन में प्रणब दा ने कई सारी जिम्मेदारियां निभाईं। उन्होंने विदेश, रक्षा, वाणिज्य और वित्त मंत्रालय का काम देखा। वे 5 बार राज्यसभा के सदस्य चुने गए। 2 बार लोकसभा सांसद बने। 77 साल की उम्र में राष्ट्रपति बने।

उन्होंने 1963 में कलकत्ता के पोस्ट और टेलीग्राफ ऑफिस में एक अपर डिवीजन क्लर्क के रूप में करियर की शुरुआत की। इसके बाद उन्होंने विद्यानगर कॉलेज में राजनीतिक विज्ञान के असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर पढ़ाया भी। राजनीति में आने से पहले देशर डाक (मातृभूमि की पुकार) मैगजीन में पत्रकार रहे। उनके राजनीतिक जीवन की चुनिंदा और चर्चित तस्वीरें…

इंदिरा गांधी की मदद से राज्यसभा सांसद बने

1969 में इंदिरा गांधी ने प्रणब मुखर्जी को कांग्रेस ज्वाइन करने का ऑफर दिया। प्रणब दा ने इसे स्वीकार कर लिया था।

1969 में इंदिरा गांधी ने प्रणब मुखर्जी को कांग्रेस ज्वाइन करने का ऑफर दिया। प्रणब दा ने इसे स्वीकार कर लिया था।

1969 में इंदिरा गांधी ने प्रणब मुखर्जी की काबिलियत को पहचाना और कांग्रेस ज्वाइन करने का ऑफर दिया। प्रणब इसे ठुकरा नहीं पाए। इसी साल इंदिरा गांधी की मदद से वे राज्यसभा सदस्य बने। इसके बाद वे 1975, 1981, 1993 और 1999 में राज्यसभा के लिए चुने गए।

1973 में पहली बार मंत्री बने

यह फोटो 15 मार्च, 1976 की है। प्रणब दा तब के वित्त मंत्री चिदंबरम सुब्रमण्यम (बीच में) के साथ नजर आ रहे हैं। वे 1973 में इंदिरा गांधी की कैबिनेट में पहली बार मंत्री बने। उन्हें राजस्व और बैंकिंग मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार दिया गया था।

1982 में पहली बार वित्त मंत्री बने, 7 बार बजट पेश किया

प्रणब दा की यह फोटो 1982 की है, जब वे बजट को फाइनल टच दे रहे थे। प्रणब पहली बार इंदिरा गांधी की सरकार में 15 जनवरी 1982 से 31 दिसंबर 1884 तक वित्त मंत्री रहे। तीन बार बजट पेश किया। इसके बाद मनमोहन सिंह की सरकार में 24 जनवरी 2009 से 26 जून 2012 तक वित्त मंत्री रहे। चार बार बजट पेश किया।

1986 में कांग्रेस छोड़ दी, अलग पार्टी भी बनाई

इंदिरा गांधी की हत्या के बाद प्रणब दा के राजीव गांधी के साथ मतभेद बढ़ गए। उन्हें पार्टी से 6 साल के लिए निकाल दिया गया। इसके बाद प्रणब ने पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय समाजवादी कांग्रेस का गठन किया। हालांकि, 1989 में पार्टी का कांग्रेस में विलय कर दिया।

दो बार विदेश मंत्री बने

राजीव गांधी की हत्या के बाद पीवी नरसिम्हा राव प्रधानमंत्री बने। उन्होंने प्रणब मुखर्जी को योजना आयोग का उपाध्यक्ष बनाया। बाद में उन्हें विदेश मंत्री की जिम्मेदारी भी दी। उन्होंने 10 फरवरी 1995 से 16 मई 1996 तक विदेश मंत्री की जिम्मेदारी संभाली। इसके बाद 24 अक्टूबर 2006 से 22 मई 2009 तक मनमोहन सरकार में विदेश मंत्री रहे।

सोनिया ने किया था प्रणब को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाने का ऐलान

सोनिया गांधी ने 15 जून 2015 को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाया। इसका ऐलान सोनिया गांधी ने किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, शरद पवार और पी चिदंबरम मौजूद थे।

77 साल की उम्र में राष्ट्रपति बने

प्रणब मुखर्जी ने 25 जुलाई को 13वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। तब चीफ जस्टिस रहे एसएच कपाड़िया ने मुखर्जी को शपथ दिलाई। वे 25 जुलाई 2017 तक इस पद पर रहे।

बहन ने कहा था- तुम इसी जन्म में राष्ट्रपति बनोगे

जब 1969 में प्रणब राज्यसभा के सदस्य बने, तो उनका आवास राष्ट्रपति भवन के पास था। एक दिन उन्होंने राष्ट्रपति की घोड़े वाली बग्घी को देखकर अपनी बहन अन्नापूर्णा बनर्जी से कहा था कि इस आलीशान राष्ट्रपति भवन का आनंद उठाने के लिए वो अगले जन्म में घोड़ा बनना पसंद करेंगे। तब उनकी बहन ने कहा था कि इसके लिए तुम्हें अगले जन्म तक रुकना नहीं पड़ेगा, बल्कि इसी जन्म में मौका मिलेगा।

संघ के कार्यक्रम में शामिल होकर सबको चौंकाया था

प्रणब दा अपने फैसले पर कायम रहने वाले लोगों में से एक थे। उनकी यह झलक 7 जून 2019 में संघ के समारोह में शामिल होने पर दिखी थी। अलग विचारधारा के होने के बाद भी उन्होंने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। उनके इस फैसले पर कांग्रेस नेताओं ने भी सवाल उठाए थे।

मोदी को अपने हाथों से मिठाई खिलाई

2019 के लोकसभा चुनाव में एनडीए ने वापसी की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शपथ लेने के पहले 28 मई को प्रणब मुखर्जी से आशीर्वाद लेने पहुंचे। मुखर्जी ने मोदी का गर्मजोशी से स्वागत किया और उन्हें अपने हाथों से मिठाई खिलाई।

भारत रत्न भी मिला

फोटो 8 अगस्त की है, जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया था। प्रणब की बेटी शमिष्‍ठा मुखर्जी ने 12 अगस्त को लिखा कि पिछले साल 8 अगस्‍त मेरी जिंदगी का सबसे खुशी भरा दिन था, जब मेरे पिता को भारत रत्‍न मिला था। ठीक एक साल बाद वे बीमार हो गए।

प्रणबदा के जीवन से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1. प्रणब का 84 साल की उम्र में निधन; 21 दिन पहले कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, ब्रेन सर्जरी भी हुई थी

2. प्रणब दा का राजनीतिक सफर:कैसे 3 बार प्रधानमंत्री बनते-बनते रह गए थे प्रणब? यूपीए सरकार में हमेशा ट्रबल शूटर रहे; फिर राष्ट्रपति बने और भारत रत्न से नवाजे गए

3. दो प्रधानमंत्रियों से प्रभावित थे प्रणब:अटलजी को असरदार और मोदी को तेजी से सीखने वाला पीएम मानते थे; मोदी ने कहा था- जब दिल्ली आया, तब प्रणब दा ने उंगली पकड़कर सिखाया

0

PDP leaders seek permission from officials to meet Mehbooba Mufti – PDP नेताओं ने महबूबा मुफ्ती से मिलने की अधिकारियों से मांगी इजाजत


PDP नेताओं ने महबूबा मुफ्ती से मिलने की अधिकारियों से मांगी इजाजत

महबूबा मुफ्ती (फाइल फोटो)

श्रीनगर:

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के चार वरिष्ठ नेताओं ने सोमवार को अधिकारियों से अनुरोध किया कि उन्हें पार्टी अध्यक्ष और जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से मिलने दिया जाए. पिछले साल राज्य में अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को रद्द किये जाने के बाद से महबूबा लोक सुरक्षा अधिनियम के तहत जेल में हैं. श्रीनगर के जिलाधिकारी शाहिद इकबाल चौधरी को लिखे एक पत्र में पीडीपी नेताओं ने कहा कि देश के लोकतंत्र के तहत महबूबा को आगंतुकों से मिलने का अधिकार है.

यह भी पढ़ें

गुलाम नबी लोन, अब्दुल रहमान वीरी, खुर्शीद आलम और एजाज मीर ने अपने पत्र में कहा, “पीडीपी प्रमुख और जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती अनुच्छेद 370 को अवैध रूप से रद्द किये जाने और बाद में राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेश में बांटने के बाद अगस्त 2019 से ही जेल में हैं. दुर्भाग्य से हमारे कई प्रयासों के बावजूद राज्य प्रशासन ने हमें तबसे ही उनसे मिलने की इजाजत नहीं दी है.” महबूबा को उनके फेयरब्यू आवास पर हिरासत में रखा गया है जिसे सहायक जेल घोषित किया जा चुका है. नेताओं ने कहा कि राजनीतिक बंदी के तौर पर पीडीपी अध्यक्ष के कुछ अधिकार हैं जो छीने नहीं जा सकते. उन्होंने पत्र में कहा, “कानूनी सहायता और पर्याप्त चिकित्सा सुविधा के अलावा इनमें हफ्ते में कम से कम दो बार आगंतुकों से मुलाकात शामिल है और मुझे विश्वास है कि संविधान के मुताबिक महबूबा मुफ्ती को भी ये हक पाने का अधिकार है.”

महबूबा मुफ्ती की हिरासत पर राहुल गांधी ने किया Tweet, कहा- उनकी रिहाई के लिए यह…

पीडीपी नेताओं ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री को हिरासत में लिये जाने के बाद से ही पार्टी के किसी सदस्य से मिलने की इजाजत नहीं दी गई. ऐसे में उन्होंने एक बार फिर जिलाधिकारी से उन्हें अपनी नेता से मिलने की इजाजत देने का अनुरोध किया है. महबूबा की बेटी इल्तिजा ने अपनी मां के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया था कि “अवैध हिरासत के दौरान मुफ्ती को परिवार के करीबी सदस्यों के अलावा किसी से मिलने की इजाजत नहीं दी गई.”

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Terrorists lobbed a grenade on an Indian Army vehicle in Baramulla Jammu & Kashmir | बारामूला में आतंकियों ने सेना की गाड़ी पर ग्रेनेड फेंका; निशाना चूकने से सड़क पर धमाका हुआ, 6 लोग घायल


  • Hindi News
  • National
  • Terrorists Lobbed A Grenade On An Indian Army Vehicle In Baramulla Jammu & Kashmir

श्रीनगर7 घंटे पहले

बारामुला आतंकी हमले में घायल लोगों को इलाज के लिए स्थानीय हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

  • जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताया कि घायलों का स्थानीय हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है
  • 29 अगस्त को पुलिस और सीआरपीएफ जवानों पर आतंकियों ने किया था हमला

जम्मू-कश्मीर के बारामूला में आतंकियों ने सोमवार को सेना की गाड़ी पर ग्रेनेड से हमला करने की कोशिश की। घटना बारामूला के आजादगंज इलाके की है। निशाना चूकने की वजह से ग्रेनेड सड़क पर ब्लास्ट हो गया, जिससे वहां मौजूद 6 लोग घायल हो गए।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताया कि इलाके की घेराबंदी कर दी गई। आतंकियों की तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। घायलों को इलाज के लिए स्थानीय हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

अस्पताल में मौजूद सुरक्षा बल के जवान।

अस्पताल में मौजूद सुरक्षा बल के जवान।

शनिवार को पुलिस और सीआरपीएफ जवानों पर किया था हमला
श्रीनगर स्थित पंथ चौक स्थित नाके पर 29 अगस्त को देर शाम आतंकवादियों ने पुलिस और सीआरपीएफ जवानों को निशाना बनाया था। हमला उस वक्त किया गया, जब जवान नाके से गुजरने वाली गाड़ियों को चेक कर रहे थे। जवाबी कार्रवाई में तीन आतंकी ढेर हो गए थे। जम्मू कश्मीर पुलिस के एएसआई बाबू राम शहीद हो गए थे।

पिछले 2 हफ्तों में कब कितने आतंकी ढेर

  • 17 और 18 अगस्त को बारामूला के करीरी इलाके में मुठभेड़ हुई थी। इस दौरान 3 आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने ढेर किया था। इनमें लश्कर के दो कमांडर सज्जाद उर्फ हैदर और उस्मान शामिल थे। हैदर बांदीपोरा हत्याओं का मुख्य साजिशकर्ता था। वह युवाओं को आतंकी संगठन में भर्ती करता था। विदेशी आतंकी उस्मान ने भाजपा नेता वसीम बारी, उसके पिता और भाई की हत्या की थी।
  • 19 अगस्त को दक्षिण कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच दो मुठभेड़ हुई थीं। इस दौरान एक आतंकवादी मारा गया था। इसी दिन हंदवाड़ा के गनीपोरा में दो आतंकी मारे गए थे।
  • 28 अगस्त को शोपियां के किलूरा इलाके में सुरक्षाबलों ने चार आतंकवादियों को मार गिराया। एक को गिरफ्तार किया गया। ये अल बद्र आतंकी संगठन से जुड़े थे। दो एके-47 और तीन पिस्टल बरामद की गईं।

0

Candidates are allowed to travel by suburban trains in Mumbai on the day of NEET and JEE examination – NEET और JEE परीक्षा के दिन मुम्बई में परीक्षार्थियों को उपनगरीय ट्रेनों से यात्रा की अनुमति


NEET और JEE परीक्षा के दिन मुम्बई में परीक्षार्थियों को उपनगरीय ट्रेनों से यात्रा की अनुमति

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर दी जानकारी

मुंबई:

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को कहा कि रेलवे नीट और जेईई की परीक्षाओं में शामिल होने जा रहे विद्यार्थियों एवं उनके अभिभावकों को परीक्षा के दिन मुम्बई में विशेष उपनगरीय सेवाओं से यात्रा करने की अनुमति देगा. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ नीट और जेईई परीक्षाओं में शामिल होने जा रहे विद्यार्थियों का सहयोग करते हुए रेलवे ने उन्हें और उनके अभिभावकों को परीक्षा के दिन मुम्बई में विशेष उपनगरीय सेवाओं से यात्रा करने की अनुमति दी है. सामान्य यात्रियों से यात्रा नहीं करने का अनुरोध किया जाता है.”

यह भी पढ़ें

राष्ट्रीय अर्हता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) 13 सितंबर को होने जा रही है जबकि अभियांत्रिकी प्रवेश परीक्षा जेईई मुख्य एक से छह सितंबर तक कराने की योजना बनायी गयी है. करीब 8.58 लाख विद्यार्थियों ने जेईई मुख्य के लिए तथा 15.97 लाख विद्यार्थियों ने नीट के लिए पंजीकरण कराया है. कोरोना वायरस महामारी के चलते ये परीक्षाएं दो बार टाली जा चुकी हैं.

 

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : NEET JEE, SSC, Railway के परीक्षार्थियों का आंदोलन

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Hrithik Roshan Earns Approx 100 crore rupees from one movie that is War | रिपोर्ट्स में दावा- ऋतिक रोशन ने फिल्म ‘वॉर’ से की थी 100 करोड़ से ज्यादा की कमाई, 48 करोड़ तो सिर्फ फीस के रूप में लिए


3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

‘वॉर’ ऋतिक रोशन के अब तक के कॅरियर की हाईएस्ट ग्रॉसर फिल्म है।

  • ऋतिक रोशन इस फिल्म से हुए प्रॉफिट में यशराज फिल्म्स के साथ 40% के हिस्सेदार थे
  • यह 2019 की हाइएस्ट ग्रॉसर बॉलीवुड फिल्म थी, पहले दिन की कमाई में अब तक की नंबर वन

अभिनेता ऋतिक रोशन अपनी पिछली फिल्म ‘वॉर’ की फीस को लेकर चर्चा में हैं। दावा किया जा रहा है कि पिछले साल 2 अक्टूबर को रिलीज हुई इस फिल्म से अकेले उन्होंने 100 करोड़ रुपए से ज्यादा की कमाई की थी। इसमें से 48 करोड़ रुपए उनकी फीस थी और बाकी रकम उन्होंने प्रॉफिट के शेयर रूप में कमाई थी।

कितने परसेंट प्रॉफिट के पार्टनर थे ऋतिक

रिपोर्ट्स की मानें तो फिल्म के प्रॉफिट में ऋतिक रोशन की 40% की हिस्सेदारी थी। बॉक्स ऑफिस पर फिल्म ने करीब 318 करोड़ रुपए की कमाई की थी। फिल्म का कुल बजट 170 करोड़ रुपए बताया जाता है, जिसमें से 150 करोड़ रुपए निर्माण और 20 करोड़ रुपए पब्लिसिटी पर खर्च किए गए। यानी कि फिल्म को करीब 148 करोड़ रुपए का प्रॉफिट हुआ था। इस हिसाब से ऋतिक की हिस्सेदारी लगभग 59 करोड़ होती है। 48 करोड़ साइनिंग अमाउंट को जोड़कर अभिनेता ने फिल्म से करीब 107 (48+59) करोड़ रुपए की कमाई की।

2019 की हाईएस्ट ग्रॉसर बॉलीवुड फिल्म

सिद्धार्थ आनंद के निर्देशन में बनी ‘वॉर’ 2019 की हाइएस्ट ग्रॉसर फिल्म थी। हालांकि, सभी भाषाओं के हिंदी वर्जनों को भी इसमें शामिल किया जाए, तो यह दूसरे नंबर पर आती है। पहले पायदान पर हॉलीवुड फिल्म ‘एवेंजर्स : एंडगेम’ है, जिसने भारत में करीब 373 करोड़ रुपए की कमाई की थी।

बॉक्स ऑफिस पर तोड़े थे कई रिकॉर्ड

‘वॉर’ ने बॉक्स ऑफिस पर कई रिकॉर्ड भी कायम किए थे। यह पहले दिन 51.60 करोड़ रुपए का कलेक्शन कर बॉलीवुड की अब तक की सबसे बड़ी ओपनर साबित हुई थी। इसके अलावा यह ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ के कॅरियर की अब तक की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म बनी। यशराज के बैनर और सिद्धार्थ आनंद के निर्देशन में बनी यह अब तक की हाइएस्ट ग्रॉसर फिल्म है।

0

Ministry of Defense signs agreement with domestic companies to prepare Pinaka Regiment – रक्षा मंत्रालय ने पिनाका रेजिमेंट तैयार करने के लिए घरेलू कंपनियों के साथ किया करार


रक्षा मंत्रालय ने पिनाका रेजिमेंट तैयार करने के लिए घरेलू कंपनियों के साथ किया करार

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

रक्षा मंत्रालय ने भारतीय सेना के लिए पिनाका रेजिमेंट तैयार करने के लिए घरेलू कंपनियों के साथ करार किया है. मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए 2850 करोड़ रुपये का समझौता किया गया है. इस समझौते के तहत घरेलू रक्षा क्षेत्र की कंपनियां सेना के आर्टिलरी रेजिमेंट को 6 पिनाका रेजिमेंट की सप्लाई करेंगी. सरकार ने यह करार भारत अर्थ मूवर्स (बीईएमएल), टाटा पावर कंपनी और एलएनटी के साथ किया है. इन 6 पिनाका रेजिमेंट में ऑटोमेड गन एमिंग पोज़िशनिंग सिस्टम युक्त 114 राकेट लॉन्चर्स, 45 कमांड पोस्ट और 330 गाड़ियां होंगी.

यह भी पढ़ें

इन 6 पिनाका रेजिमेंट को उत्तरी और पूर्वी सीमा यानी चीन से लगी सीमा पर तैनात किया जाएगा. इससे आर्मी की ऑपरेशनल तैयारियां बढ़ेंगी. 2024 तक पिनाका रेजिमेंट की तैनाती का है लक्ष्य है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और वित मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस खरीदारी को मंजूरी दी. पिनाका मल्टीपल लांच राकेट सिस्टम को डीआरडीओ ने तैयार किया है.

VIDEO: चीन के लद्दाख में अतिक्रमण करने से जुड़ा दस्तावेज रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट से हटाया गया