Amitabh Bachchan reveals he is a pledged Organ donor and wears the green ribbon of its sanctity | अपना शरीर दान करेंगे अमिताभ बच्चन, ट्विटर पर हरे रंग का रिबन लगा फोटो शेयर कर लिखा -‘मैं अंगदान का संकल्प ले चुका हूं’


16 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

अमिताभ ने मंगलवार रात ट्वीट कर यह फोटो शेयर की।

  • प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए भी आगे आए थे अमिताभ बच्चन
  • पुलवामा हमले में शहीद जवानों के परिवारों को भी 2.5 करोड़ दिए थे

अमिताभ बच्चन ने 77 साल की उम्र में एक नेक पहल करते हुए अंगदान करने का संकल्प लिया है। इस बात की जानकारी उन्होंने मंगलवार देर रात ट्वीट कर दी। उन्होंने एक फोटो भी शेयर किया है, उनके कोट पर हरे रंग का रिबन लगा है, जो कि अंगदान के संकल्प का प्रतीक है।

बच्चन ने अपने ट्वीट में लिखा, “मैं अंगदान का संकल्प ले चुका हूं…इसकी पवित्रता दिखाने के लिए हरे रंग का रिबन लगाया है।”

रोजाना 15 घंटे काम कर रहे
अमिताभ ने बुधवार सुबह एक दूसरे ट्वीट में बताया कि वे पेंगोलिन मास्क पहनकर काम पर जा रहे हैं और रोजाना 15 घंटे काम कर रहे हैं। इस ट्वीट के साथ भी उन्होंने अपना एक फोटो शेयर किया। अमिताभ इन दिनों केबीसी के नए सीजन में नजर आ रहे हैं।

एक दिन 4 फिल्मों की शूटिंग की थी
अमिताभ भले ही 77 साल हो गए हों, लेकिन इस उम्र और कोरोना दौर के बावजूद वे बेहद सक्रिय हैं। 13 सितंबर को लिखे अपने ब्लॉग में उन्होंने लिखा था, “काम के लिए सबसे अच्छे दिन वे होते हैं, जब बाकी सब आराम कर रहे होते हैं। रविवार। 4 फिल्में, 3 शॉर्ट फिल्में, 6 क्रोमा शूट, स्टिल के 2 सेट। जी हां।”

सोशल मीडिया पर तारीफ हो रही
अमिताभ के अंगदान करने के फैसले के बारे में जानकारी मिलने पर सोशल मीडिया यूजर्स ने उनकी जमकर तारीफ की। कई लोगों ने अपना सर्टिफिकेट शेयर करते हुए बताया कि वे भी अंगदान का संकल्प ले चुके हैं।


World Coronavirus update: 2.5 Lakh new cases of Covid-19 worldwide – World Coronavirus Update: दुनिया भर में कोविड-19 के ढाई लाख नए मामले


World Coronavirus Update: दुनिया भर में कोविड-19 के ढाई लाख नए मामले

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

World Coronavirus Update: दुनिया में कोरोना के 2,42,189 नए मामले सामने आए हैं. सबसे ज़्यादा 80,472 केस भारत में आए हैं. विश्व में अब तक कुल 3,35,02,430 मामले सामने आए हैं. बीते 24 घंटों 4240 लोगों की मौत हुई जिसमें से सबसे ज़्यादा 1179 भारत में हुईं. दुनिया में अब तक कुल 10,04,421 लोगों की मौत हुई.

यह भी पढ़ें

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक संक्रमण के मामले में दुनिया में अमेरिका पहले नंबर पर है लेकिन अब भारत और अमेरिका में संक्रमण के मामलों में केवल 8.5 लाख मामलों का अंतर रह गया है.

टॉप 5 सबसे ज़्यादा कोरोना संक्रमित देशों में  अमेरिका में 70,77, 015 (32,688 नए मामले),  भारत में 62,25,763 ( 80,472 नए मामले),  ब्राजील में 47,45,464 ( 13,155 नए मामले),  रूस में 11,76,286 ( 8481 नए मामले) और कोलंबिया में 8,18,203 (5147 नए मामले) केस हैं.

SC refuses to postpone UPSC prelims examination scheduled to be held on October 4 in view of COVID-19 pandemic and asks Centre to consider granting one more chance to UPSC aspirants who may not appear in their last attempt for exam due to pandemic.   | 4 अक्टूबर को होने वाली UPSC प्रिलिम्स परीक्षाएं नहीं टलेंगी, सरकार को लास्ट अटेम्प्ट वाले कैंडिडेट्स को एक और मौका देने को कहा


  • Hindi News
  • Career
  • SC Refuses To Postpone UPSC Prelims Examination Scheduled To Be Held On October 4 In View Of COVID 19 Pandemic And Asks Centre To Consider Granting One More Chance To UPSC Aspirants Who May Not Appear In Their Last Attempt For Exam Due To Pandemic.  

10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

UPSC की प्रिलिम्स परीक्षा टालने के लिए देशभर के 20 कैंडिडेट्स ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाई थी। (फाइल फोटो)

  • 2020 की परीक्षाओं को 2021 की परीक्षाओं के साथ मिलाकर करवाने की याचिका भी खारिज कर दी
  • 4 अक्टूबर को 72 शहरों में आयोजित होने वाली 7 घंटे की ऑफलाइन परीक्षा में लगभग छह लाख कैंडिडेट्स बैठेंगे

सुप्रीम कोर्ट ने सिविल सेवा (प्रिलिम्स) परीक्षा 2020 पर बुधवार को बड़ा फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा कि 4 अक्टूबर को होने वाले ये परीक्षाएं कोविड महामारी के कारण नहीं टाली जा सकतीं।कोर्ट ने केंद्र सरकार को इस बात पर विचार करने को कहा है कि ऐसे कैंडिडेट़्स को एक और मौका दिया जा सकता है जिनके पास अपना आखिरी अटेम्प्ट बचा है और जो कोरोना के कारण परीक्षा में नहीं बैठ पाएंगे।

जस्टिस एएम खानविल्कर की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने UPSC सिविल सेवा 2020 की परीक्षाओं को 2021 की परीक्षाओं के साथ मिलाकर करवाने की याचिका भी खारिज कर दी। देश के 72 शहरों में होने वाली 7 घंटे की ऑफलाइन परीक्षा में लगभग छह लाख उम्मीदवारों के शामिल होने की उम्मीद है।

UPSC ने भी किया था विरोध

इस मामले अर्जी लगाने वाले कैंडिडेट्स ने मौजूदा हालात के चलते परीक्षाएं टालने की मांग की थी। इस पर सुनवाई के दौरान सोमवार को UPSC ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि सिविल सेवा की परीक्षाओं को टालना असंभव है। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने UPSC को इस हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया था।

UPSC के हलफनामा और सुप्रीम कोर्ट के फैसले की बड़ी बातें

  • आखिरी प्रयास करने वाले उम्मीदवारों को परीक्षा में न बैठ पाने की स्थिति में एक और मौका मिलेगा।
  • आयु सीमा के लिहाज से इस साल परीक्षा में न बैठ पाने वाले कैंडिडेट्स को आयु सीमा में छूट मिलेगी।
  • UPSC को स्वास्थ्य मंत्रालय के SOP के हिसाब से जरूरी उपाय करने होंगे और सभी को उसकी सूचना देनी होगी।
  • खांसी और जुकाम वाले उम्मीदवारों को परीक्षा में अलग कमरों में बैठाने की व्यवस्था करनी होगी।
  • अलग-अलग राज्यों में वहां के हालात को देखते हुए अलग-अलग SOP लागू किए जाएं।
  • कैंडिडेट्स को उनके एडमिट कार्ड के आधार पर होटलों में प्रवेश की अनुमति मिलेगी।
  • अन्य उम्मीदवारों को खतरा न हो इसके लिए कोरोना से संक्रमित रोगी को परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं होगी।

इससे पहले कोर्ट ने 24 सितंबर को याचिकाकर्ताओं की ओर से पक्ष रख रहे वकील अलख आलोक श्रीवास्तव से कहा था कि वे याचिका की एक कॉपी UPSC और केंद्र को दें। देश के अलग-अलग हिस्सों के 20 याचिकाकर्ताओं ने अदालत से कहा कि मौजूदा हालात में परीक्षा आयोजित करने से उम्मीदवारों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को खतरा होगा।

याचिकाकर्ताओं ​​​​​​ की दलील

याचिकाकर्ताओं ने यह भी कहा कि कोरोना के तेजी से फैल रहे मामलों के बाद भी UPSC ने परीक्षा केंद्रों की संख्या नहीं बढ़ाई। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों के कई कैंडिडेट्स को करीब 300-400 किलोमीटर का सफर करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। याचिका में कहा गया था कि परीक्षा केंद्रों तक पहुंचने के लिए ऐसे कैंडिडेट्स पब्लिक ट्रांसपोर्ट की इस्तेमाल करेंगे, जिससे उनके संक्रमित होने की ज्यादा आशंका है।

In Maharashtra, the ruling coalition opposed the agricultural laws, withdrew the order issued – महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ गठबंधन ने कृषि कानूनों का किया विरोध, जारी किए गए आदेश को लिया वापिस


महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ गठबंधन ने कृषि कानूनों का किया विरोध, जारी किए गए आदेश को लिया वापिस

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो).

मुंबई:

महाराष्ट्र सरकार ने बुधवार को विवादास्पद कृषि कानूनों को लागू करने के लिए अगस्त में जारी अपने आदेश को वापस ले लिया है. बता दें कि कई राज्यों में इन कानूनों का जमकर विरोध किया जा रहा है. राज्य में सत्तारूढ़ गठबंधन कृषि कानूनों को लेकर दुविधा में रहा है. हालांकि कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने इन कानूनों का मजबूती से विरोध किया है.

यह भी पढ़ें

यह भी पढ़ें:कृषि कानून : कपिल सिब्बल का निर्मला सीतारमण पर तंज, आप कहती हैं – सदन में लड़ो, लेकिन PM जवाब तक नहीं देते

पंजाब और हरियाणा में किसानों के विरोध का समर्थन कर रही कांग्रेस कानून के सख्त खिलाफ है तो वहीं शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने संसद में कृषि कानूनों को “किसान विरोधी” करार दिया था. महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोरात ने पहले दावा किया था कि तीनों सत्ताधारी दलों ने कानून का विरोध किया है. पिछले सप्ताह, महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री और राकांपा नेता अजीत पवार ने घोषणा की थी कि राज्य सरकार कृषि सुधार कानूनों को लागू नहीं करेगी. यह मुद्दा आज कैबिनेट की बैठक में उठाया गया और आदेश वापस लेने का निर्णय लिया गया.

यह भी पढ़ें:किसान कानून बनने के अगले दिन ही फसल बेचने हरियाणा जा रहे यूपी के किसान बॉर्डर पर रोके गए

फार्म बिलों को संसद के मानसून सत्र में लाया गया था. हंगामे के बीच, राज्यसभा से बिल को पारित करा लिया गया था. बाद में राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने मामले में आठ विपक्षी सदस्यों को निलंबित कर दिया था. तब से, भारत भर में विपक्षी दल और कई किसान समूह कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

सरकार ने कहा है कि कानून किसानों को उनकी आय बढ़ाने और बिचौलियों के हस्तक्षेप से मुक्त करने में मदद करेंगे. वे किसानों को देश में कहीं भी उपज बेचने और बड़े कॉरपोरेशन से सीधे फसल बेचने में सक्षम बनाएंगे. हालांकि, किसान सीधे कॉर्पोरेट्स को फसल बेचने के लिए आशंकित हैं. उन्हें डर है कि सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्य का भी उन्हें भुगतान नहीं किया जाएगा. नई प्रणाली को “किसान विरोधी” बताते हुए उन्होंने मांग की है कि कानूनों को निरस्त किया जाए. 

 

कृषि कानून: महाराष्ट्र में सरकार कर रही है विरोध, अधिकारी कर रहे हैं लागू

Intoxication affects mind more than any body organ, here are some tips that can help you get rid of addiction | सबसे ज्यादा दिमाग को नुकसान पहुंचाता है नशा, लत धीरे-धीरे नहीं एकदम छोड़ें; 8 तरीके जो कर सकते हैं आपकी मदद


9 घंटे पहलेलेखक: निसर्ग दीक्षित

  • कॉपी लिंक
  • एक्सपर्ट्स के मुताबिक, नशे की लत छोड़ने से पहले इस बात का पता करें कि आपने नशा शुरू क्यों किया था
  • अगर किसी ऐसी जगह पर हैं जहां नशा ज्यादा है, तो इससे बचने के लिए विकल्प तलाशें, शराब की जगह सॉफ्ट ड्रिंक लें

मनोरंजन के लिए मशहूर बॉलीवुड आज ड्रग्स की वजह से दुनियाभर में चर्चा में है। इंडस्ट्री के कई बड़े सितारे नशे की लत से जूझ रहे हैं। वर्ल्ड ड्रग रिपोर्ट 2020 के अनुसार, ड्रग्स के बढ़ते उपयोग के तार बढ़ती हुई दौलत से जुड़े हैं। रिपोर्ट बताती है कि विकासशील देशों के मुकाबले विकसित देशों में ड्रग्स का उपयोग ज्यादा है। कोकेन जैसे ड्रग्स का इस्तेमाल दुनिया के कई अमीर हिस्सों में किया जा रहा है।

किसी भी अंग से ज्यादा दिमाग को नुकसान पहुंचाती है नशे की लत
राजस्थान के कोटा में न्यूरो साइकेट्रिस्ट और काउंसलर डॉक्टर नीना विजयवर्गीय कहती हैं, ‘नशा आपको हमेशा एडिक्शन यानी लत की ओर ले जाता है। कोई भी नशा नहीं करना चाहिए।’ उनका कहना है कि सिगरेट की लत वालों को लगता है कि उनका केवल फेफड़ा कमजोर हो रहा है या शराब पीने वालों को लगता है कि इस नशे का असर उनके लिवर पर हो रहा है, जबकि ऐसा नहीं है। कोई भी नशा हो वो लिवर, किडनी, फेफड़ों से ज्यादा दिमाग को नुकसान पहुंचाता है।

क्या है एडिक्शन?

  • अमेरिकन साइकेट्रिक एसोसिएशन के अनुसार, एडिक्शन एक मानसिक बीमारी जो किसी एक चीज (शराब, ड्रग्स) के लगातार उपयोग के कारण होती है। व्यक्ति जानता है कि इसका हेल्थ पर काफी बुरा असर पड़ सकता है, लेकिन इसके बावजूद वह इसका इस्तेमाल करता रहता है।
  • यह चीजें दिमाग के काम करने के तरीकों को प्रभावित करती हैं। नशे की लत से जूझ रहे लोगों में टोलरेंस विकसित हो जाता है, यानी धीरे-धीरे नशे की मात्रा बढ़ने लगती है, क्योंकि जितना नशा वे पहले करते थे, वह अब उन्हें कम लगने लगा है। उदाहरण के लिए पहले एक गिलास शराब पीने वाला व्यक्ति तीन-चार गिलास पीने लगा है। यह संख्या बढ़ती जाती है। ड्रग्स लोग कई कारणों से लेते हैं, इसमें बेहतर महसूस करना, बेहतर काम करना या दबाव जैसी चीजें शामिल होती हैं।

कैसे पहचानें कि आप किसी नशे की लत का शिकार हो गए हैं
डॉक्टर विजयवर्गीय के मुताबिक, नशे कई तरह के होते हैं और हर तरीके के नशे की लत के स्तर को पता करने का तरीका अलग है। उनके अनुसार, अपने अंदर आए इन तरीकों से आप नशे की लत का पता लगा सकते हैं।

  • न चाहते हुए भी नशा करना: लत इसी को कहते हैं। गंभीर मामलों में व्यक्ति को पता होता है कि नशा करने से कई तरह से उनका नुकसान हो रहा है, जैसे- सामाजिक, आर्थिक, पारिवारिक, सम्मान। इसके बावजूद नशा करने की तलब होती है।
  • काम या पढ़ाई का लॉस: नशे की लत से जूझ रहे व्यक्ति का सबसे ज्यादा ध्यान नशा करने पर ही होता है। ऐसे में अगर छात्र इससे जूझ रहा हैं, तो उनकी पढ़ाई प्रभावित होगी और कोई काम करने वाला लत का शिकार है, तो उनकी प्रोडक्टिविटी पर असर पड़ेगा।
  • नशे पर खर्च बढ़ना: लत की तरफ जा रहे लोग जरूरत से ज्यादा पैसा नशे पर खर्च करने लगते हैं। ऐसे में उनपर आर्थिक दबाव बढ़ता है और इसकी वजह से लत में भी इजाफा होता है। अगर आप पहले से ज्यादा पैसा नशे पर खर्च करने लगते हैं, तो यह लत का शुरुआती संकेत हो सकता है।

आइए जानते हैं नशे की लत से कैसे निपटें?

  1. धीरे-धीरे नहीं एकदम से नशा छोड़ें: ज्यादातर लोग धीरे-धीरे नशा छोड़ने के बारे में सोचते हैं। हालांकि, एक्सपर्ट्स इससे विपरीत सलाह देते हैं। डॉक्टर विजयवर्गीय के अनुसार, अगर आप लत छोड़ना चाहते हैं, तो एकदम से नशे की चीजों से दूरी बना लें।
  2. आत्मविश्वास बढ़ाना होगा: नशा छोड़ने में सबसे बड़ी भूमिका मजबूत मन और इरादा निभाता है। अगर आपने फैसला कर लिया है कि आप दोबारा नशे को हाथ नहीं लगाएंगे, तो पहले मन में आत्मविश्वास बढ़ाएं। खुद पर भरोसा करना शुरू करें कि इस काम को फिर से नहीं दोहराएंगे।
  3. घर वालों का सपोर्ट: एक्सपर्ट्स के मुताबिक, इस दौरान सबसे जरूरी चीज घर का सपोर्ट होता है। अगर रिश्तेदार लगातार लत से जूझ रहे व्यक्ति को ताना देते रहेंगे तो उनका शराब या किसी भी तरह के नशे को छोड़ना मुश्किल हो जाएगा। ऐसे में परिवार इस बात को तय करें कि उनका समर्थन करें, न कि कम समझें।
  4. पुरानी बीमारी का इलाज करें: कई बार कोई व्यक्ति किसी बीमारी के कारण ही नशा करना शुरू कर देता है। एक बीमारी को भुलाने के लिए नशे का सहारा लेता है और बाद में इसकी लत स्वास्थ्य पर और बुरा असर डालती है। ऐसे में नशे का कारण जानें और अगर वह कारण एक बीमारी है, तो पहले उसका इलाज कराएं।
  5. बुरी चीजों से दूरी: नशा करने के कई कारण होते हैं। कई बार व्यक्ति किसी दबाव में, दोस्ती के कारण नशा करना शुरू कर देता है। ऐसे में अगर आप नशा छोड़ने के लिए तैयार हो चुके हैं, तो इस तरह की हर चीज से दूरी बना लें। एक्सपर्ट के अनुसार, कोई दोस्त अगर आपको शराब पीने के लिए कह रहा है, तो वह असल में आपका दुश्मन है।
  6. नया प्लान तैयार करें: लत छोड़ने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है कि आपने नशा करना शुरू क्यों किया था। क्योंकि अगर आप यह कारण जानते हैं, तो आपको भविष्य के लिए रणनीति तैयार करने में मदद मिलेगी। कारण जानने के बाद प्लान बनाएं कि अगर पुरानी स्थिति दोबारा आपके सामने आती है, तो आप क्या करेंगे।
  7. विकल्प तलाशें: लत छोड़ने की कोशिश के दौरान कई बार आप खुद को नशे वाली जगहों पर पाएंगे, जैसे- पार्टी। ऐसे में अपने मन को मजबूत रखें और यह तय करें कि आप यहां केवल शामिल होने आएं हैं, नशा करने नहीं। उदाहरण के लिए अगर पार्टी में शराब चल रही है, तो सॉफ्ट ड्रिंक के विकल्प को चुनें।
  8. लाइफस्टाइल में बदलाव: एक्सपर्ट ने बताया कि नशा छोड़ने के लिए आपको मानसिक ही नहीं शारीरिक तौर पर भी तैयार होना होगा। नशा छोड़ने की प्रक्रिया के दौरान अपनी फिजिकल हेल्थ का ख्याल रखें। संतुलित डाइट लें, रात में अच्छी नींद लें और एक्सरसाइज को रुटीन में शामिल करें। डॉक्टर विजयवर्गीय ने बताया कि एक्सरसाइज से मिलने वाला प्लेजर लंबे समय का होता है और लती नहीं होता है।

Unlock 5: Hotels to reopen, Lockdown extended till 31 Oct in Maharashtra – महाराष्ट्र में खुलेंगे होटल और चलेंगी ट्रेनें, 31 अक्टूबर तक के लिए बढ़ा लॉकडाउन


महाराष्ट्र में खुलेंगे होटल और चलेंगी ट्रेनें, 31 अक्टूबर तक के लिए बढ़ा लॉकडाउन

प्रतीकात्मक तस्वीर

मुंबई:

Unlock 5: महाराष्ट्र (Maharashtra) सरकार ने राज्य में कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण लगाए गए लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) को बुधवार को 31 अक्टूबर तक के लिए बढ़ा दिया लेकिन कहा है कि पांच अक्टूबर से होटल, रेस्तरां एवं बारों को सीमित क्षमता के साथ खोलने की इजाजत होगी. नए निदेशा-निर्देशों के मुताबिक, राज्य से बन कर राज्य के ही भीतर चलने वाली सभी ट्रेनें तत्काल प्रभाव से चलेंगी और कोविड-19 के लिए स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का ध्यान रखा जाएगा. होटल, भोजनालय, रेस्तरां एवं बार राज्य में पांच अक्टूबर से खुल सकेंगे लेकिन वे एक वक्त में अपनी क्षमता के 50 फीसदी से ज्यादा ग्राहकों नहीं बैठा सकते हैं या स्थानीय अधिकारी जितनी लोगों की सीमा को निर्धारित करेंगे, उतने ग्राहकों को अपने यहां आने की अनुमति देंगे.

यह भी पढ़ें

सरकारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि इन प्रतिष्ठानों के संचालन के दौरान एहतियात बरतने को लेकर पर्यटन विभाग अलग से मानक संचालन प्रक्रिया जारी करेगा. मुंबई महानगर क्षेत्र (एमएमआर) में गैर जरूरी सामानों का उत्पादन करने वाली सभी औद्योगिक एवं विनिर्माण इकाइयों को भी खुलने की इजाजत होगी. रेलवे एमएमआर में स्थानीय ट्रेनों की संख्या बढ़ाएगा। पुणे क्षेत्र में स्थानीय ट्रेनें एमएमआर में अपनाए गए प्रोटोकॉल एवं प्रक्रिया के साथ चलेंगी. डब्बावालों को एमएमआर में स्थानीय ट्रेनों में सफर की इजाजत होगी, लेकिन इसके लिए उन्हें मुंबई पुलिस आयुक्त के दफ्तर से क्यूआर कोड लेना होगा.

कोविड-19: महाराष्ट्र सरकार ने नवरात्रि, दशहरा के लिए दिशानिर्देश जारी किए

राज्य के अंदर या राज्य के बाहर ऑक्सीजन ले जा रहे वाहनों की आवाजाही पर कोई रोक और समय सीमा की कोई पाबंदी नहीं होगी. स्कूल, कॉलेज और अन्य शिक्षण और कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे. सिनेमा हॉल, स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, मॉल में थिएटर, बाजार, सभागार आदि बंद रहेंगे. दिशा-निर्देशों के मुताबिक, सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक, धार्मिक और अन्य बड़ी सभाओं पर रोक रहेगी.

VIDEO:महाराष्ट्र में फिर जीवन रक्षक दवा रेमडेसिवीर की क़िल्लत

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Coronavirus Novel Corona Covid 19 30 Sept | Coronavirus Novel Corona Covid 19 News World Cases Novel Corona Covid 19 | अमेरिकी वैक्सीन मॉडर्ना युवाओं के साथ बुजुर्गों के लिए भी असरकारी, स्टडी में इसका कोई साइड इफेक्ट न होने का भी पता चला; दुनिया में 2.53 करोड़ से ज्यादा लोग अब स्वस्थ


  • Hindi News
  • International
  • Coronavirus Novel Corona Covid 19 30 Sept | Coronavirus Novel Corona Covid 19 News World Cases Novel Corona Covid 19

वॉशिंगटन2 घंटे पहले

अमेरिकी वैक्सीन कंपनी मॉडर्ना के लैब में रिसर्च में जुटी एक रिसर्चर। कंपनी का दावा है कि दो से तीन महीनों में वैक्सीन बनकर तैयार हो जाएगी।- फाइल फोटो

  • दुनिया में 10.16 लाख से ज्यादा लोगों की मौत, अब तक 3.40 करोड़ लोग संक्रमित
  • अमेरिका में 74.20 लाख लोग संक्रमित, 2.11 लाख से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं

अमेरिका की बायोटेक कंपनी मॉडर्ना की कोरोनावायरस वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर सामने आई है। एक स्टडी में पता चला है कि मॉडर्ना की वैक्सीन बुजुर्गों में भी एंटीबॉडीज तैयार करने में कामयाब हो रही है। स्टडी के मुताबिक बुजुर्गों में भी तकरीबन वैसी ही एटीबॉडीज तैयार हुईं जैसी युवाओं में हुई थीं। शोधकर्ताओं का कहना है कि बुजुर्गों में मॉडर्ना की वैक्सीन से एंटीबॉडीज तैयार होती हैं और इसके साइड इफेक्ट अधिक खुराक वाली फ्लू वैक्सीन की तरह हैं।

अमेरिका की इमोरी यूनिवर्सिटी ने यह स्टडी की है। इसमें 56 से 70 और 71 साल से अधिक उम्र के कुल 40 लोगों को शामिल किया गया था। लोगों को 25 एमजी और 100 एमजी की दो खुराक दी गईं। दूसरे डोज के एक महीने बाद भी कोई गंभीर साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिले।

दुनिया में संक्रमितों का आंकड़ा 3.40 करोड़ से ज्यादा हो गया है। वहीं, राहत की बात है कि ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 2 करोड़ 53 लाख 07 हजार 911 से ज्यादा हो चुकी है। मरने वालों का आंकड़ा 10.16 लाख के पार हो चुका है। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

इन 10 देशों में कोरोना का असर सबसे ज्यादा

देश

संक्रमित मौतें ठीक हुए
अमेरिका 74,31,458 2,11,393 46,77,570
भारत 63,05,643 98,616 52,63,685
ब्राजील 47,87,637 1,43,243 41,35,088
रूस 11,76,286 20,722 9,58,257
कोलंबिया 8,24,042 25,828 7,34,154
पेरू 8,11,768 32,396 6,76,925
स्पेन 7,69,188 31,791 उपलब्ध नहीं
मैक्सिको 7,38,163 77,163 5,30,945
अर्जेंटीना 7,36,609 16,519 5,85,857
साउथ अफ्रीका 6,72,572 16,667 6,06,520

इटली: दो सीनेट मेम्बर संक्रमित

इटली में सीनेट के दो सदस्य बुधवार को संक्रमित पाए गए। इसके बाद सीनेट के सभी तरह के काम रोक दिए गए हैं। दोनों सांसद रूलिंग पार्टी 5 स्टार मूवमेंट के मेम्बर हैं। मार्को क्रोएट्‌टी और फ्रांसेस्को मोलेम ने फेसबुक पोस्ट कर इसकी जानकारी दी। दोनों सीनेट मेम्बर पॉजिटिव मिलने के बाद सेल्फ क्वारैंटाइन हो गए हैं। अब 5 स्टार मूवमेंट पार्टी के सभी सदस्यों का टेस्ट कराया जा रहा है। इटली में अब तक 3 लाख 14 हजार 861 लोग संक्रमित मिले हैं और 35 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है।

इटली की राजधानी रोम में एक संक्रमित को अस्पताल ले जाते मेडिकल स्टाफ। देश में अब तक 3 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित मिले हैं। (फाइल फोटो)

इटली की राजधानी रोम में एक संक्रमित को अस्पताल ले जाते मेडिकल स्टाफ। देश में अब तक 3 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित मिले हैं। (फाइल फोटो)

वॉल्ट डिज्नी ने क्या कहा
द गार्डियन के मुताबिक, वॉल्ट डिज्नी कंपनी थीम पार्क बिजनेस सेक्टर में 28 हजार कर्मचारियों की छंटनी करने जा रही है। कंपनी के मुताबिक, उसके थीम पार्क में आने वाले लोगों की संख्या काफी कम हुई है। इसकी वजह महामारी है। लिहाजा, कंपनी को यह मुश्किल फैसला लेना पड़ रहा है। कंपनी के एक अफसर जोस डीएमरो ने कहा- आप सोच सकते हैं कि एक कंपनी के तौर पर यह फैसला हमारे लिए कितना मुश्किल होगा। कई महीनों से हमारा मैनेजमेंट इस बारे में कोशिश कर रहा था कि लोगों की नौकरी बचाई जाए। हमने कई कदम भी उठाए। लेकिन, अब ये फैसला भी लेना ही होगा। फ्लोरिडा, पेरिस, शंघाई, जापान और हॉन्गकॉन्ग में कंपनी के थीम पार्क खोले तो जा चुके हैं, लेकिन यहां आने वाले लोगों की संख्या बहुत कम है। कैलिफोर्निया में इसके दोनों पार्क अब भी बंद हैं।

स्पेन : हर कीमत पर संक्रमण रोकेंगे
स्पेन सरकार ने साफ कर दिया है कि देश में संक्रमण की लहर को रोकने के लिए वो हर मुमकिन कदम उठाएगी। सरकार का यह सख्त बयान मैड्रिड लोकल एडमिनिस्ट्रेशन के एक दिन पहले दिए गए उसे बयान के बाद आया है, जिसमें कहा गया था कि केंद्र सरकार के कदमों से पटरी पर आ रहे कारोबार को फिर नुकसान हो सकता है। हेल्थ मिनिस्ट्री ने सोमवार को कहा था- यूरोपीय देशों और खासकर पड़ोसी देश फ्रांस में संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। लिहाजा, सरकार को कठोर कदम उठाने होंगे। कुछ खबरों में कहा गया कि स्पेन सरकार सीमाएं बंद करने पर भी विचार कर रही है। हालांकि, सरकार ने इन खबरों का खंडन कर दिया है।

मैड्रिड की एक सड़क से गुजरती महिला। यहां लोकल एडमिनिस्ट्रेशन किसी भी तरह के प्रतिबंधों का विरोध कर रहा है। वहीं, केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि संक्रमण की दूसरी लहर को रोकने के लिए सभी कदम उठाए जाएंगे। (फाइल)

मैड्रिड की एक सड़क से गुजरती महिला। यहां लोकल एडमिनिस्ट्रेशन किसी भी तरह के प्रतिबंधों का विरोध कर रहा है। वहीं, केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि संक्रमण की दूसरी लहर को रोकने के लिए सभी कदम उठाए जाएंगे। (फाइल)

साउथ कोरिया: सरकार ने कहा- सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी
साउथ कोरिया में सोमवार को 39 नए केस सामने आए। हालांकि केसों में हल्की गिरावट भी देखी गई है। इसके बावजूद सरकार ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन किया जाए। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, छुट्टियों में लाखों लोग घूमने का प्लान बना चुके हैं। इससे महामारी फैलने का खतरा हो सकता है। देश में 23 हजार 699 केस हैं, 407 मौतें हुई हैं।

चेक गणराज्य: एक महीने के लिए इमरजेंसी का ऐलान

चेक गणराज्य ने बुधवार को देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए इमरजेंसी का ऐलान कर दिया। इमरजेंसी सोमवार से शुरू होगा और अगले 30 दिन तक जारी रहेगा। नई पाबंदियों के तहत घर के बाहर होने वाले किसी भी प्रोग्राम में 20 से ज्यादा लोग और घर के अंदर होने वाले प्रोग्राम में 10 से ज्यादा लोगों के जुटने पर रोक है। हालांकि, थियेटर परफॉर्मेंस और मूवी थियेटर को इन पाबंदियों से राहत दी गई है। देश में अब तक 67 हजार 843 संक्रमित मिले हैं और 636 मौतें हुई हैं।

18,317 new cases of coronavirus infection were reported in Maharashtra, 19,163 were cured, 481 died


विभाग ने कहा कि 481 मौतों में से 237 लोगों की मौत पिछले 48 घंटो के दौरान हुयी है जबकि 115 संक्रमितों ने एक हफ्ता पहले दम तोड़ा है. विभाग ने बताया कि 129 अन्य लोगों की मौत इससे पहले हुयी है. इसमें कहा गया है कि आज दिन में इलाज के बाद कुल 19,163 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी दी गयी जिससे संक्रमणमुक्त होने वाले मरीजों की कुल संख्या 10,88,322 हो गयी है.

यह भी पढ़ें:महाराष्ट्र में खुलेंगे होटल और चलेंगी ट्रेनें, 31 अक्टूबर तक के लिए बढ़ा लॉकडाउन

विभाग ने बताया कि प्रदेश में फिलहाल 2,59,033 मरीजों का उपचार चल रहा है. विभाग के अधिकारियों ने बताया कि मुंबई में कोविड—19 के 2,654 नये मामले सामने आये जिससे यहां संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 2,05,268 हो गयी है जबकि 46 और लोगों की मौत होने के साथ ही मुंबई में अब तक मरने वालों की संख्या 8,929 पर पहुंच गयी है.

स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि इसी तरह मुंबई संभाग में कुल 5,743 नये मामले सामने आये जिससे संक्रमितों की कुल संख्या 4,81,103 हो गयी है. क्षेत्र में अब तक 15,851 संक्रमितों की मौत हो गयी है. पुणे शहर में आज कोरोना वायरस संक्रमण के 1,370 नये मामले सामने आये जिससे जिले में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़ कर 1,55,714 हो गयी है जबकि 28 संक्रमितों की मौत के साथ मरने वालों की कुल संख्या 3,528 हो गयी है.

यह भी पढ़ें:दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 3,390 नए मामले सामने आए, कुल मामलों की संख्या 2,79,715 हुई

अधिकारियों ने बताया कि विभाग की जानकारी के अनुसार पुणे संभाग में संक्रमितों की संख्या 366,092 जबकि मरने वालों की तादाद 7,893 हो गयी है. अधिकारियों ने बताया कि इसी तरह नासिक संभाग में संक्रमितों एवं मरने वालों की संख्या क्रमश: 1,83,736 और 3,678 है.

उन्होंने बताया कि कोल्हापुर संभाग में 93,875 मामले सामने आ चुके हैं जबकि 2,878 लोगों की मौत हो चुकी है. इसी प्रकार औरंगाबाद संभाग में 52,303 लोग संक्रमित हुये हैं और मरने वालों का आंकड़ा 1,327 है. विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश में अब तक 67,85,205 नमूनों की जांच की जा चुकी है.

अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में 21,61,448 लोग वर्तमान में अपने घर में पृथक—वास में हैं जबकि 29,178 अन्य संस्थागत पृथक—वास में हैं.

कोरोना के रैपिड टेस्ट को लेकर WHO की मेगा प्लानिंग

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Shahrukh Khan Family IPL 2020 UAE KKR vs RR Photos Gallery Robin Uthappa Saliva use on Ball in IPL News Updates | शाहरुख खान परिवार के साथ दुबई में मैच देखने पहुंचे, उथप्पा ने बॉल पर लार लगाकर लीग में पहली बार कोरोना नियम तोड़ा


27 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

शाहरुख खान पत्नी गौरी और बेटे आर्यन के साथ दुबई में कोलकाता नाइट राइडर्स का मैच देखने पहुंचे।

आईपीएल के 13वें सीजन के 12वां मैच काफी स्लो रहा। इसमें सिर्फ गेंदबाजों का जलवा देखने को मिला। मैच को देखने के लिए कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के मालिक शाहरुख खान अपने परिवार के साथ दुबई पहुंचे थे। उनकी मौजूदगी में केकेआर ने राजस्थान रॉयल्स को 37 रन से शिकस्त दी। मैच में टीवी दर्शकों ने कोरोना नियम भी टूटते हुए देखा।

रॉयल्स टीम के फील्डर रॉबिन उथप्पा ने बॉल पर गलती से लार लगाई। कोरोना के कारण ने आईसीसी ने बॉल पर लार लगाना बैन किया है। हर पारी में टीम को लार लगाने पर दो बार वार्निंग दी जाती है। तीसरी बार में जुर्माने के तौर पर विपक्षी टीम के खाते में 5 रन जोड़ दिए जाते हैं।

उथप्पा ने पहली पारी के तीसरे ओवर में सुनील नरेन का कैच छोड़ने के बाद बॉल पर लार लगाई। इस तरह उथप्पा कोरोना नियम तोड़ने वाले आईपीएल के पहले खिलाड़ी बन गए हैं।

उथप्पा ने पहली पारी के तीसरे ओवर में सुनील नरेन का कैच छोड़ने के बाद बॉल पर लार लगाई। इस तरह उथप्पा कोरोना नियम तोड़ने वाले आईपीएल के पहले खिलाड़ी बन गए हैं।

दुबई क्रिकेट स्टेडियम में एंट्री करते हुए शाहरुख खान।

दुबई क्रिकेट स्टेडियम में एंट्री करते हुए शाहरुख खान।

केकेआर के जीतने के बाद शाहरुख खान सेलिब्रेट करने के लिए केबिन से बाहर आए।

केकेआर के जीतने के बाद शाहरुख खान सेलिब्रेट करने के लिए केबिन से बाहर आए।

शाहरुख खान बेटे आर्यन के साथ। बॉलीवुड स्टार किंग खान मास्क हाथ में लिए नजर आए।

शाहरुख खान बेटे आर्यन के साथ। बॉलीवुड स्टार किंग खान मास्क हाथ में लिए नजर आए।

जीत के हीरो रहे कोलकाता के गेंदबाज कमलेश नागरकोटी और शिवम मावी (दाएं)। दोनों ने 2-2 विकेट लिए। बीच में कप्तान दिनेश कार्तिक।

जीत के हीरो रहे कोलकाता के गेंदबाज कमलेश नागरकोटी और शिवम मावी (दाएं)। दोनों ने 2-2 विकेट लिए। बीच में कप्तान दिनेश कार्तिक।

कोलकाता के ओपनर शुभमन गिल ने सबसे ज्यादा 47 रन की पारी खेली।

कोलकाता के ओपनर शुभमन गिल ने सबसे ज्यादा 47 रन की पारी खेली।

राजस्थान रॉयल्स के संजू सैमसन ने पैट कमिंस का बाउंड्री पर शानदार कैच लिया।

राजस्थान रॉयल्स के संजू सैमसन ने पैट कमिंस का बाउंड्री पर शानदार कैच लिया।

कोलकाता के कमलेश नागरकोटी ने भी बाउंड्री पर जयदेव उनादकट का शानदार कैच लिया।

कोलकाता के कमलेश नागरकोटी ने भी बाउंड्री पर जयदेव उनादकट का शानदार कैच लिया।

राजस्थान के टॉम करन ने नाबाद 54 रन की पारी खेली। उन्होंने दूसरी बार 8वें नंबर पर खेलते हुए फिफ्टी लगाई। वे टी-20 में इस नंबर पर दो बार 50+ स्कोर बनाने वाले अकेले खिलाड़ी हैं।

राजस्थान के टॉम करन ने नाबाद 54 रन की पारी खेली। उन्होंने दूसरी बार 8वें नंबर पर खेलते हुए फिफ्टी लगाई। वे टी-20 में इस नंबर पर दो बार 50+ स्कोर बनाने वाले अकेले खिलाड़ी हैं।

मैच जीतने के बाद कोलकाता के कप्तान दिनेश कार्तिक और ऑलराउंडर आंद्रे रसेल।

मैच जीतने के बाद कोलकाता के कप्तान दिनेश कार्तिक और ऑलराउंडर आंद्रे रसेल।

फिश आई लेंस से ली गई दुबई क्रिकेट स्टेडियम की फोटो।

फिश आई लेंस से ली गई दुबई क्रिकेट स्टेडियम की फोटो।

UP: Bulandshahar district, a miscreant tried to rape a 13-year-old girl – यूपी के बुलंदशहर जिले में 13 साल की लड़की से रेप की कोशिश


यूपी के बुलंदशहर जिले में 13 साल की लड़की से रेप की कोशिश

प्रतीकात्मक फोटो.

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश (UP) के बुलंदशहर (Bulandshahar) जिले में एक नाबालिग बच्ची के साथ रेप (Rape) की कोशिश किए जाने का मामला सामने आया है. बुलंदशहर के थाना ककोड़ क्षेत्र में आरोपी एक नाबालिग बच्ची को रात में सोते समय घर से उठाकर ले गया और उससे रेप का प्रयास किया. 

यह भी पढ़ें

बच्ची के पिता का आरोप है कि पकोड़ी नाम के बदमाश ने 13 साल की बच्ची को घर से उठाकर रेप का प्रयास किया. नाबालिग को आरोपी घर के पास में ही ले गया था और उसे बेहोश करके उससे रेप का प्रयास कर रहा था. जैसे ही लड़की को होश आया, आरोपी ने उसे तेज़ाब से जलाने की धमकी दे डाली. 

लड़की के घर से गायब होने की जानकारी मिलने पर उसका पिता जब घर से बाहर भागा और उसने शोर मचाया. इसके बाद आरोपी लड़की को छोड़कर भाग गया.

अब यूपी के बलरामपुर में गैंगरेप की शिकार लड़की की मौत, आरोपियों ने कमर और पैर तोड़े

उत्तर प्रदेश (UP) के हाथरस (Hathras) में गैंगरेप (Gang Rape) की घटना की आग अभी ठंडी भी नहीं हुई थी कि बलरामपुर (Balrampur) जिले के अंतर्गत आने वाले थाना कोतवाली गैसड़ी के एक गांव में भी इसी तरह की घटना सामने आई है. 29 सितम्बर को सुबह करीब आठ बजे एक लड़की अपने घर से निकली और एक कॉलेज में एडमिशन के लिए गई. इसी दौरान उसका अपहरण कर लिया गया और उसके साथ गैंगरेप किया गया. लड़की शाम को तकरीबन सात बजे बेहोशी की हालत में घर पहुंची. परिजन उसे अस्पताल ले गए. अस्पताल में डॉक्टर ने उसे अन्य अस्पताल में रेफर कर दिया. रास्ते में उसकी मौत हो गई. कथित रूप से बलरामपुर जिले में आला अधिकारी इस घटना को दबाने का प्रयास कर रहे हैं. लड़की के परिजनों का आरोप है कि उसको नशीला पदार्थ खिलाकर उससे गैंगरेप किया गया है.