actress deepika padukones message to parents for child education | टॉपर बनाने के लिए बच्चों पर न डालें प्रेशर, उनके साथ समय बिताएं, ऑलराउंड डेवलपमेंट पर ही करें फोकस

actress deepika padukones message to parents for child education | टॉपर बनाने के लिए बच्चों पर न डालें प्रेशर, उनके साथ समय बिताएं, ऑलराउंड डेवलपमेंट पर ही करें फोकस


  • दीपिका पादुकोण का इस साल परीक्षा में बैठने वाले बच्चों के माता-पिता को संदेश
  • कहा- माना कि एजुकेशन बहुत जरूरी है, लेकिन सिर्फ एजुकेशन ही जिंदगी नहीं

Dainik Bhaskar

Dec 22, 2019, 01:49 PM IST

एजुकेशन डेस्क/प्रेरणा साहनी. ‘देशभर के बच्चे कुछ महीनों में सालाना परीक्षाएं देने वाले हैं। यह बच्चों के लिए चुनौती से कम नहीं है। आज मैं बच्चों से नहीं, बल्कि अभिभावकों से कुछ कहना चाहती हूं। सभी पैरेंट्स, प्लीज…प्लीज…प्लीज, बच्चों पर टॉपर बनने या बहुत अच्छे मार्क्स लाने का प्रेशर मत डालिए। माना कि एजुकेशन बहुत जरूरी है लेकिन यह भी उतना ही सच है कि सिर्फ एजुकेशन ही जिंदगी नहीं है। मैंने 12वीं के बाद ग्रेजुएशन नहीं किया। फिर भी मुझे लगता है कि मैंने जीवन में कुछ तो ठीक किया है। पढ़ाई के साथ-साथ ऑलराउंड डेवलपमेंट, खेलना, परिवार व दोस्तों के साथ वक्त गुजारना भी जिंदगी में बहुत जरूरी हैं। फर्स्ट आना ही काफी नहीं है। मैं पीछे मुड़कर जब भी बचपन की यादों की गुल्लक खोलती हूं, तो टेक्स्ट बुक के कॉन्सेप्ट के कुछ सिक्के इधर-उधर मिल जाते हैं, लेकिन मेरे जेहन में जो बहुमूल्य यादें अशर्फियों सी चमकती हैं, वे बचपन की हैं।

हर शाम दोस्तों संग खेलना, उनके साथ वक्त बिताना, मम्मी-पापा के साथ अपने ख्वाबों को लेकर बातें करना, प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर स्पोर्ट्स खेलना। इन सबने मेरी बुनियाद मजबूत की है। सच कहूं तो मैं पढ़ाई में औसत थी। फेल भी हो जाती थी। जब मैंने यह तय कर लिया कि मुझे एक्ट्रेस बनना है तो काम करते-करते ही सीखा। आप बच्चों में शिक्षा के साथ फोकस बनाए रखने, सच्चाई की राह पर चलने, कठिन परिश्रम करने और दृढ़ संकल्प जैसे मूल्यों की नींव रखें। उन पर भरोसा करें। प्रेशर तो कतई न डालें। ‘आप बच्चों को बेवजह की जंजीरों से जकड़ते हैं तो उनकी छिपी चाहत और अरमान टूटते हैं। बिखरने की यह गूंज भले बचपन में सुनाई न दे, पर उम्र के साथ इसके नुकसान उनके आत्मविश्वास और शख्सियत पर साफ झलकते हैं।

सीबीएसई ने भी बच्चों को परेशानी से बचाने के लिए की तैयार

  • राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1800 11 8002
  • हर राज्य और शहर के लिए भी विशेष हेल्पलाइन नंबर जारी।
  • शैक्षिक-मानसिक जिज्ञासाओं के समाधान के लिए विशेषज्ञों की टीम मौजूद।
  • बच्चे ही नहीं, अभिभावक भी इन पर संपर्क कर सकते हैं।
  • परिजन चाहें तो वीडियो के जरिये भी काउंसलर से रूबरू हो सकते हैं।
  • सीबीएसई की वेबसाइट https://cbseportal.com/alert/cbse-helpline पर तत्काल पूछे जाने वाले सवाल, काउंसिलिंग प्वाइंट के जरिये भी तनाव दूर किया जा सकता है।

Leave a Reply