Ashok Gehlot | Ashok Gehlot Rajasthan Cabinet Expansion Afer Sachin Pilot Sacked As Deputy Chief Minister By Congress | 16 जुलाई को हो सकता है मंत्रिमंडल का विस्तार, 3 मंत्रियों की बर्खास्तगी के बाद 8 पद खाली


  • चर्चा है कि सरकार में टूट न हो इसके लिए गहलोत कुछ नाराज विधायकों को मंत्री बना सकते हैं
  • गहलोत कुछ मंत्रियों को इस्तीफा दिलाकर पायलट खेमे के विधायकों को मंत्री बना सकते हैं

दैनिक भास्कर

Jul 14, 2020, 06:36 PM IST

जयपुर. सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री पद से बर्खास्त करने के बाद अब अशोक गहलोत नाराज विधायकों को साधने में जुट गए हैं। सूत्रों के अनुसार, नए घटनाक्रम में अशोक गहलोत अब 16 जुलाई को मंत्रिमंडल का विस्तार कर सकते हैं। इसमें उन विधायकों को जगह मिल सकती है, जो नाराज हैं। 

गहलोत ने आज शाम 7.30 बजे मुख्यमंत्री आवास में कैबिनेट मंत्रियों की बैठक बुलाई है। चर्चा है कि इस दौरान सभी मंत्री सामूहिक तौर पर इस्तीफा दे सकते हैं। इसके बाद नए सिरे से कैबिनेट का गठन किया जा सकता है। इसमें उन विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है, जिनके बागी होने की आशंका है।

अब मंत्रिमंडल में 8 नए मंत्री बना सकते हैं

राजस्थान में अब तक 15 कैबिनेट मिनिस्टर और 10 स्टेट मिनिस्टर थे। सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह, रमेश मीणा की बर्खास्तगी के बाद तीन जगहें खाली हुई हैं। राजस्थान में कुल 30 मंत्री बनाए जा सकते हैं। तीन बर्खस्तागियों के बाद मंत्रियों की संख्या फिलहाल 22 है। ऐसे में गहलोत 8 नए मंत्री बना सकते हैं। यानी आठ विधायकों को गहलोत अपने खेमे में मजबूती से कर सकते हैं।

पायलट खेमे के विधायक बन सकते हैं मंत्री 

चर्चा है कि इससे ज्यादा विधायकों को मंत्री बनाने के लिए गहलोत अपने विश्वास पात्र कुछ मंत्रियों को इस्तीफा दिलाकर पायलट खेमे के विधायकों को मंत्री बना सकते हैं ताकि सदन में बहुमत परीक्षण के हालात में सरकार आसानी से बहुमत साबित कर ले।   

गहलोत बोले- मैंने सभी के काम किए हैं
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मैंने सभी के काम किए है, जो मांगा सभी को देने की कोशिश की है। उसके बाद भी बीजेपी के साथ हॉर्स ट्रेडिंग की बात आई। पार्टी तोड़ने के लिए दो तिहाई बहुमत की जरूरत होती है। जो गए हैं, उन पर बहुत बड़ा प्रेशर है, जो फैसला जनता द्वारा दिया गया है, वह हमारे लिए शिरोधार्य है।