Ashok Gehlot Sachin Pilot | Rajasthan Political Crisis LIVE Updates: Chief Minister Ashok Gehlot loyal Congress MLAs In Jaisalmer, Sachin Pilot Latest News Today | गहलोत गुट के 4 विधायकों के आज जैसलमेर पहुंचने के आसार, 88 पहले ही शिफ्ट हो चुके; हॉर्स ट्रेडिंग के डर से जयपुर से 570 किमी दूर किले में बाड़ेबंदी

Ashok Gehlot Sachin Pilot | Rajasthan Political Crisis LIVE Updates: Chief Minister Ashok Gehlot loyal Congress MLAs In Jaisalmer, Sachin Pilot Latest News Today | गहलोत गुट के 4 विधायकों के आज जैसलमेर पहुंचने के आसार, 88 पहले ही शिफ्ट हो चुके; हॉर्स ट्रेडिंग के डर से जयपुर से 570 किमी दूर किले में बाड़ेबंदी


  • Hindi News
  • National
  • Ashok Gehlot Sachin Pilot | Rajasthan Political Crisis LIVE Updates: Chief Minister Ashok Gehlot Loyal Congress MLAs In Jaisalmer, Sachin Pilot Latest News Today

जयपुर/जैसलमेर28 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

गहलोत गुट के 6 विधायक जैसलमेर के सूर्यगढ़ पैलेस होटल में ईद की नमाज अदा करते हुए।

  • जयपुर के फेयरमॉन्ट होटल में 18 दिन बाड़ेबंदी के बाद विधायक जैसलमेर शिफ्ट किए गए
  • जयपुर में केंद्रीय जांच एजेंसी की बड़ी कार्रवाई की आशंका समेत 5 वजहों से जैसलमेर चुना

सियासी उठापटक के बची राजस्थान सरकार जयपुर से जैसलमेर शिफ्ट हो गई है। हॉर्स ट्रेडिंग का खतरा बढ़ने की वजह से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने गुट के विधायकों को राजधानी जयपुर से 570 किलोमीटर दूर जैसलमेर के सूर्यगढ़ पैलेस होटल में पहुंचा दिया है। खुद गहलोत 15 मंत्री और 73 विधायकों समेत कुल 88 विधायक शुक्रवार को शिफ्ट हो गए। 4 विधायकों के आज जैसलमेर पहुंचने और गहलोत के जयपुर लौट आने के आसार हैं।

विधायक संयम लोढ़ा होटल सूर्यगढ़ पैलेस में।

विधानसभा सत्र 14 अगस्त से, विधायक उसी दिन लौटेंगे
गहलोत के 6 मंत्रियों समेत 14 विधायक अभी बाहर हैं। इनमें बीमार चल रहे 3 विधायक- परसराम मोरदिया, मास्टर भंवरलाल मेघवाल और बाबूलाल बैरवा हैं। 6 मंत्रियों, 3 बीमार विधायकों और स्पीकर को छोड़ गहलोत गुट के बाकी बचे 4 विधायकों के आज जैसलमेर पहुंचने के आसार हैं। विधानसभा का सत्र 14 अगस्त को शुरू होगा। तब तक विधायकों के जैसलमेर में ही रहने की उम्मीद है।

जयपुर क्यों छोड़ा, जैसलमेर ही क्यों चुना: 5 वजह
1.
केंद्रीय एजेंसियां जयपुर में ज्यादा सक्रिय हो रही थीं। बताया जा रहा है कि सरकार को फेयरमॉन्ट होटल- जहां गहलोत गुट के विधायक 18 दिन रहे, उस होटल में बड़ी कार्रवाई होने का शक था।
2. जयपुर में बाड़ेबंदी वाली जगह धरने-प्रदर्शन शुरू हो गए थे। सरकार ऐसी जगह चाहती थी, जहां आवाजाही कम हो।
3. जयपुर में विधायकों के घरवाले और रिश्तेदार भी आने-जाने लगे थे। सरकार ऐसा नहीं चाहती थी।
4. जयपुर से बाड़ेबंदी को सवाई माधोपुर और दूसरी जगहों पर शिफ्ट करने पर भी विचार हुआ, लेकिन बॉर्डर का इलाका होने और बाहरी लोगों की पहुंच आसान नहीं होने की वजह से जैसलमेर को चुना।
5. बताया जा रहा है कि जैसलमेर की तनोट माता में गहलोत की आस्था है। विधायकों को माता के दर्शन करवाने की तैयारी है।

सरकार जैसलमेर में तो…क्या जनता के कामों पर असर पड़ेगा?
इस बारे में मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा- ‘मैं जयपुर में रहूंगा। मंत्री भी यहीं रहेंगे। ज्यादातर लोग आते-जाते रहेंगे। गवर्नेंस में कोई कॉम्प्रोमाइज नहीं होगा। कोरोना को लेकर रोज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर रहा हूं। कानून व्यवस्था संभाल रखी है, लेकिन सरकार बचाना भी जरूरी है।’

अपडेट्स

  • गहलोत और सचिन पायलट गुट के जो विधायक होटलों में रुके हैं, उनके वेतन-भत्ते रोकने के लिए राजस्थान हाईकोर्ट में जनहित याचिका (पीआईएल) लगाई गई है। पिटीशन लगाने वाले विवेक सिंह जादौन का कहना है कि कोरोना की वजह से राज्य की फाइनेंशियल हालत ठीक नहीं है, लेकिन विधायक अपने इलाकों में जाने की बजाय होटलों में रुके हुए हैं।
  • विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह के वॉइस सैंपल लेने के लिए एसओजी ने शुक्रवार को सीएमएम कोर्ट में अर्जी लगाई। विधायक भंवरलाल शर्मा के वॉइस सैंपल भी लिए जाएंगे। एसओजी ने कहा है कि विधायकों की खरीद-फरोख्त के वायरल ऑडियो की एफएसएल रिपोर्ट आ गई है। अभी तक की जांच के आधार पर मंत्री और विधायक के वॉइस सैंपल लेना सही होगा।

राजस्थान की राजनीति से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1. राजस्थान का रण: गहलोत ने रणभूमि बदली, लेकिन सदन से पहले कोर्ट में टूट सकता है जादूगर का तिलिस्म

2. पायलट गुट के विधायक विश्वेंद्र सिंह बोले- अगर मुख्यमंत्री जनता के लिए काम करते तो सरकार अल्पमत में नहीं होती

0

Leave a Reply