Bhilai Raipur Coronavirus Lockdown Live | Read Corona Virus Lockdown {Curfew} In Chhattisgarh Raipur Bhilai Durg Bilaspur Raigad Rajnandgaon (COVID-19) Cases Latest News and Updates | रामनवमीं पर न शोभायात्रा, न कन्याभोज; विदेश से एक मार्च के बाद आए सभी लोगों का कोरोना टेस्ट


  • नवमीं पर कन्याओं को खिलाने के लिए बच्चों की जान जोखिम में डाल रहे पढ़े-लिखे लोग
  • मंदिरों में भी लोगों के आने पर लगाई गई रोक, पंडित बोले- अपने घरों में ही करें पूजा

दैनिक भास्कर

Apr 02, 2020, 12:56 PM IST

छत्तीसगढ़. लॉकडाउन के कारण रामनवमीं पर गुरुवार को न तो कन्याभोज होगा और न ही कोई शोभायात्रा निकलेगी। मंदिरों में भी लोगों के आने और पूजा करने पर रोक लगा दी गई है। ब्राह्मणों ने भी लोगों से अपील की है कि वह अपने घरों में ही पूजा-अर्चना करें। दूसरी ओर संक्रमण के खतरे को देखते हुए सरकार ने विदेश से एक मार्च के बाद आए सभी लोगों के लिए कोरोना टेस्ट अनिवार्य कर दिया है।
डाटा जुटाकर संपर्क करेगी हेल्थ टीम, लोगों से भी खुद सामने आने की अपील
स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक ने बताया कि कोविड-19 से बचाव के लिए एक मार्च के बाद विदेश से आने वाले सभी लोगों की पहचान कर कोरोना टेस्ट किया जाएगा। यूके के अलावा जो भी व्यक्ति अन्य देश से आए हैं, उनके लिए जांच का दायरा एक महीने तय किया गया है। अब ऐसे लोगों से संपर्क कर उनकी जांच कराई जाएगी। इसके अलावा कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर फरवरी में भी अन्य देशों से लौटे लोग अपनी जांच कराएं।
कन्या भोज के नाम पर मासूमों की जान डाल रहे जोखिम में
रायपुर के डीडीनगर के जिस घर में लंदन से आई छात्रा कोरोना पॉजिटिव पाई गई, वहां से महज 3 मकान दूर रहने वाले एक पढ़े-लिखे परिवार ने कन्याभोज के नाम पर 2 किमी दूर कुकुरबेड़ा बस्ती से छोटी-छोटी लड़कियों को बुलवा लिया। बच्चियां तैयार होकर बिना मास्क लगाए घर से पैदल निकल गईं। एक साथ पैदल जातीं इन बच्चियों को पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय परिसर के अंदर सीआईएसएफ के जवान ने देखा, तो वह रुक गए। इसके बाद अन्य लोग भी आ गए और उन्होंने बच्चियों को मास्क पहनाए। इसके बाद सीआरपीएफ जवान ने उन्हें घर छोड़ा। 
जुआ खेलते वक्त पुलिस पहुंची, भागने के चक्कर में पैर में फ्रैक्चर
रायपुर में शंकर नगर के सेक्टर 1 के एक घर में जुआ चल रहा था। पुलिस ने दबिश दी तो बचने के लिए भाग रहा एक व्यक्ति पहली मंजिल से कूद गया। इसके चलते उसके पैर में फ्रैक्चर हो गया। पुलिस ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया। पुलिस ने 13 व्यापारियों को गिरफ्तार किया। आरोपियों के पास से पुलिस ने 11 लाख रुपए से ज्यादा बरामद किए। खास बात यह है कि मकान किराए पर लेकर यहां जुआ खिलाया जा रहा था। 
बालोद: दामाद ने कहा- ससुर को घर पहुंचाना है, एसडीएम का जवाब- 14 अप्रैल तक सेवा करो
बालौद के एसडीएम कार्यालय में आमापारा के एक व्यक्ति ने अर्जी लगाई। इसमें कहा कि उसके ससुर कई दिनों से घर पर हैं। उन्हें राजनांदगांव स्थित घर पहुंचाना है। इस पर एसडीएम शिल्ली थॉमस ने उनकी तबीयत पूछी, तो दामाद ने कहा- ठीक हैं। एसडीएम ने कहा तो फिर 14 अप्रैल तक उनकी सेवा करो। अभी हम कोई अनुमति नहीं देंगे।

रायपुर में भाई की मौत हुई, लाश लाने की अर्जी लगानी पड़ी

बालोद एसडीएम कार्यालय में शव लेने के लिए अर्जी लगाने पहुंचे परिजन।

शिकारीपारा के चुरामन लाल राव एसडीएम के पास अर्जी लगाने पहुंचे। उनका कहना था कि रायपुर में उनके भाई यशवंत की मौत हो गई। उनका अंतिम संस्कार करने के लिए शव घर लाना है। एसडीएम ने कहा कि अनुमति तो दे देंगे लेकिन उन्हें घर नहीं लाना, सीधे मुक्तिधाम ले जाएं। उन्हें इसके लिए लिखित आवेदन देने को कहा। तब उन्हें लाश जिले में लाने की अनुमति मिली। यशवंत राव (50) रायपुर सिविल कोर्ट में भृत्य थे। कुछ दिनों से बीमार थे। 

मां के लिए दवाई लेने जाना है, अधिकारी बोले- दवाई मंगवा देंगे
एक युवती ने अपनी मां के लिए दवाई लेने रायपुर जाने के लिए अर्जी लगाने आई थी। तहसीलदार रश्मि वर्मा ने कहा कि हम दवाई लेने जाने की अनुमति नहीं दे सकते। आप कहेंगे तो हम संबंधित मेडिकल से आप तक दवाई भिजवा कर जरूर दे देंगे। ऐसे और भी कई कारणों से लोग एसडीएम दफ्तर में दूसरे जिले जाने या घर में फंसे रिश्तेदारों को पहुंचाने के लिए आवेदन करने आ रहे हैं।

छत्तीसगढ़ बॉर्डर पर महाराष्ट्र से आने वाले लोगाें को शरण, 5 गांवों के सरपंच ने विरोध किया

छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र सीमा पर 4 दिन से फंसे लोगों की मुश्किलें और बढ़ गईं। प्रशासन ने महाराष्ट्र से आने वाले लोगों को ठहराने का इंतजाम गांवों में किया है। ऐसे में इसके विरोध में पांच गांवों के सरपंच आ गए। सरपंचों ने इस संबंध में कलेक्टर को लिखित में शिकायत की। उनका कहना है कि महाराष्ट्र से आए लोग खुले में शौच जा रहे हैं। ऐसे में महामारी फैलने की आशंका बढ़ गई हैं।