Body building coach said- 14 days restrictions are nothing to protect ourselves and society, facilities of government quarantine center are better than home | बॉडी बिल्डिंग कोच ने कहा- खुद और समाज को सुरक्षित रखने के लिए 14 दिन की बंदिशें कुछ नहीं, सरकारी क्वारैंटाइन सेंटर की सुविधाएं घर से भी अच्छी

Body building coach said- 14 days restrictions are nothing to protect ourselves and society, facilities of government quarantine center are better than home | बॉडी बिल्डिंग कोच ने कहा- खुद और समाज को सुरक्षित रखने के लिए 14 दिन की बंदिशें कुछ नहीं, सरकारी क्वारैंटाइन सेंटर की सुविधाएं घर से भी अच्छी


  • द्रोणाचार्य अवार्डी भारत के पॉवर लिफ्टिंग और बॉडी बिल्डिंग कोच भूपेंद्र धवन 15 मार्च को स्पेन से बेटे से मिलकर लौटे थे
  • पंजाब बिजली बोर्ड से रिटायर एस.एस. कोहली (67 साल) कनाडा से 22 मार्च को पत्नी परमजीत कौर के साथ दिल्ली लौटे थे

दैनिक भास्कर

Apr 03, 2020, 10:50 AM IST

दिल्ली. (अखिलेश कुमार) वैश्विक महामारी कोविड 19 या कोरोना वायरस से निपटने के लिए सरकार जो भी कदम उठा रही है, वो हमारी ही भलाई के लिए है। मैं और पत्नी बेटे के पास स्पेन गए थे। वहां से 14 मार्च की रात को लौटे। विदेश से लौटने वाले 60 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को 14 दिन के क्वारेंटाइन में रहने के लिए कहा गया। छतरपुर स्थित योगा सेंटर में क्वारेंटाइन होम में ले जाया गया। यहां सरकार ने बहुत अच्छा इंतजाम किया हुआ था। एक रूम में ही पति-पत्नी के रहने कहा गया। पानी, चाय, नाश्ता और डिनर बेस्ट क्वालिटी का दिया गया। यहां तक कि दिन में दो बार कर्मी हालचाल पूछने आते थे। बुखार चेक करने को थर्मामीटर दिया हुआ था। इतना तो ख्याल अपना बच्चा भी नहीं रखता। ये बाते भास्कर से भारतीय पॉवर लिफ्टिंग और बॉडी बिल्डिंग टीम के कोच व द्रोणाचार्य अवार्डी भूपेंद्र धवन ने कही।

‘चाय-बिस्किट, फल और लंच-डिनर के अलावा स्वास्थ्य का भी अच्छे से ख्याल रख रहे थे कर्मी’

भूपेंद्र धवन ने कहा कि सुबह जल्दी उठकर योगा करता था। फिर 6 बजे चाय-बिस्कुट, 9 बजे नाश्ता, 11 बजे फ्रूट, दोपहर 1 बजे लंच, शाम को 4 बजे चाय और रात को 8-9 बजे के बीच डिनर मिलता था। मैं सारी दुनिया घूमा लेकिन एक सरकारी सेंटर में इतनी बढ़िया सर्विस और सुविधाएं नहीं देखी। देश बुरे हालात से गुजर रहा है फिर भी इतना बढ़िया इंतजाम लोगों के लिए किए हैं। खाली टाइम पर न्यूजीलैंड और स्पेन में रह रहे अपने बच्चों से मोबाइल पर बात करते थे। विदेशों में इतनी मौत हो रही है लेकिन अभी मरकज की घटना छोड़ दें तो बहुत खराब स्थिति नहीं है। ऐसे में मैं यही कहूंगा कि खुद, समाज और देश की सुरक्षा के लिए अगर 14 दिन सरकार क्वारेंटाइन यानी एकांत में रखती है तो कोई बुराई नहीं है। जो घर में हैं वो भी क्वारेंटाइन और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करें।

रिटायर कोहली दंपती अंतिम दिन की फ्लाइट से दिल्ली पहुंचे, अब लुधियाना लौटने की चिंता, अभी तक टेस्ट नहीं हुआ

पंजाब बिजली बोर्ड से रिटायर एस.एस. कोहली एक होटल में क्वारेंटाइन में हैं

पंजाब बिजली बोर्ड से रिटायर एस.एस. कोहली (67 साल) एरोसिटी के सरकार की तरफ से तय किए गए एक होटल में क्वारेंटाइन में हैं। वो कनाडा से 22 मार्च को पत्नी परमजीत कौर के साथ दिल्ली लौटे थे। कोहली ने कहा, चूंकि अंतिम दिन की विदेशी फ्लाइट थी तो रात को एयरपोर्ट पर ही रोक लिया । 62 हजार रुपए सुविधा के लिए जमा करवाए गए। पहले कहा गया था कि 4 दिन में छूट जाएंगे लेकिन अब 4 अप्रैल तक के लिए रखा गया। आज 2 अप्रैल हो गए लेकिन अभी तक टेस्ट नहीं हुआ है। अब इन्हें चिंता सताने लगी है कि आखिर कब छूटेंगे। हां ये जरूर कहा कि सुरक्षा के लिए सरकार अलग रख रही है तो इसका पालन करना चाहिए। कोहली से क्वारेंटाइन में दिक्कत को लेकर पूछा तो बोले कोई दिक्कत नहीं। लेकिन पेंशन से ज्यादा पैसे खर्च हो चुके। दिन कैसे गुजरता है? इस पर एस. एस. कोहली ने कहा कि सुबह जल्दी उठ जाते हैं। फिर दिन में टीवी देखते हुए गुजरता है। 

Leave a Reply