CBI registers new case against yes bank founder Rana Kapoor, wife Bindu and three, raids on several locations in Delhi-Mumbai | राणा कपूर, पत्नी बिंदू समेत तीन के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज किया नया मामला, दिल्ली-मुंबई के कई ठिकानों पर छापेमारी

CBI registers new case against yes bank founder Rana Kapoor, wife Bindu and three, raids on several locations in Delhi-Mumbai | राणा कपूर, पत्नी बिंदू समेत तीन के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज किया नया मामला, दिल्ली-मुंबई के कई ठिकानों पर छापेमारी


  • अमृता शेरगिल बंग्ला डील और थापर के दो हजार करोड़ रुपये की कर्ज वसूली में छूट के लिए घूसखोरी का आरोप
  • राणा कपूर, बिंदू कपूर के दिल्ली और मुंबई स्थित कार्यालय और आवास पर सीबीआई की छापेमारी, करीबियों पर भी कसा शिकंजा

दैनिक भास्कर

Mar 13, 2020, 09:15 PM IST

नई दिल्ली. यस बैंक के फाउंडर राणा कपूर, उनकी पत्नी बिंदू और अवंता रियलटी के प्रमोटर गौतम थापर के खिलाफ सीबीआई ने शुक्रवार को नया मामला दर्ज किया। राणा और बिंदू पर अमृता शेरगिल के बंग्ले की डील और थापर कंपनी के 2000 करोड़ रुपये की कर्ज वसूली में छूट देने के लिए घूस लेने का आरोप है। एक सप्ताह के अंदर सीबीआई ने राणा और उनकी पत्नी के खिलाफ यह दूसरा मामला दर्ज किया है। वहीं दूसरी ओर सीबीआई की अलग-अलग टीमों ने शुक्रवार को राणा, बिंदू और थापर के दिल्ली-मुंबई स्थित कार्यालय और कई ठिकानों पर छापेमारी की। इनके कुछ करीबियों के यहां भी तलाशी ली गई। राणा कपूर 16 मार्च तक ईडी के हिरासत में हैं। 

यस बैंक के रिकंस्ट्रक्शन को मोदी कैबिनेट से मंजूरी
मोदी कैबिनेट की शुक्रवार को बैठक हुई। इसमें यस बैंक के रिकंस्ट्रक्शन को मंजूरी मिल गई। बैठक के बाद कैबिनेट मंत्री निर्मला सीतारमण और प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस वार्ता में इसकी जानकारी दी। सीतारमण ने कहा कि, ”यस बैंक की 49 प्रतिशत इक्विटी में भारतीय स्टेट बैंक निवेश करेगा। अन्य निवेशकों को भी निवेश के लिये कहा जा रहा है”। सरकार ने वित्तीय स्थिरता बनाए रखने के लिए यस बैंक पर एक महीने के मोराटोरियम का ऐलान किया था, जिसके बाद आरबीआई ने यस बैंक का रीकंस्ट्रक्शन प्लान पेश किया था। वित्तमंत्री ने कहा कि सरकार ने जो भी फैसले लिए हैं वह यस बैंक के खाताधारकों के हित में किए गए हैं।

तीन साल तक एसबीआई 26 फीसद हिस्सेदारी रखेगा
सीतारण ने बताया कि, एसबीआई तीन साल तक यस बैंक में कम से कम 26 फीसदी हिस्सेदारी रखेगा। यस बैंक ऑथराइज्ड कैपिटल 1100 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 6200 करोड़ रुपए कर दिया है। एसबीआई यस बैंक में 49 फीसदी हिस्सेदारी लेगा। एसबीआई के लिए यस बैंक में 26 प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी के लिये तीन साल की बंधक अवधि होगी। इसी प्रकार अन्य निवेशकों के मामले में 75 प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी के लिये भी इतने ही समय की बंधक अवधि होगी।

तीन और बैंकों ने निवेश करने का एलान किया   
यस बैंक को आर्थिक संकट से मुक्ति दिलाने के लिए आईसीआईसीआई, एक्सिस, कोटक बैंक ने भी निवेश करने का फैसला लिया है। शुक्रवार को एक्सिस बैंक के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की बैठक में इसपर मुहर लग गई। तय हुआ कि यस बैंक में 600 करोड़ रुपये निवेश होगा। वहीं कोटक बैंक की तरफ से 50 करोड़ इक्विटी 500 करोड़ रूपये में खरीदे जाएंगे। आईसीआईसीआई बैंक ने 1000 करोड़ रुपए निवेश करने का ऐलान किया है। आईसीआईसीआई बैंक 10 रुपए प्रति शेयर के हिसाब से 100 करोड़ इक्विटी शेयर खरीदेगी। बैंक ने कहा कि इस निवेश से आईसीआईसीआई की यस बैंक में 5 फीसदी हिस्सेदारी होगी।

Leave a Reply