Centres Warning To States On Tablighi Jamaat Members Over Corona virus Cases – कोरोनावायरस : तबलीगी जमात वालों पर केंद्र सख्त, राज्यों को चेतावनी- हर विदेशी मेंबर की जाए जांच, पहली फ्लाइट से भेजा जाए वापस


कोरोनावायरस : तबलीगी जमात वालों पर केंद्र सख्त, राज्यों को चेतावनी- हर विदेशी मेंबर की जाए जांच, पहली फ्लाइट से भेजा जाए वापस

निजामुद्दीन मरकज़ को आज सुबह कराया गया खाली

नई दिल्ली:

गृह मंत्रालय ने दिल्ली में तबलीगी जमात के सदस्यों को लेकर राज्य सरकारों को चेतावनी देते हुए कहा कि इनसे देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) फैलने का खतरा है. दिल्ली में निजामुद्दीन मरकज़ में हुए धार्मिक आयोजन के बाद देशभर में 128 कोरोनावायरस के मामले सामने आने आए हैं और सात लोगों की मौत हो गई है. कोरोनावायरस को लेकर सभी सावधानियों को दरकिनानर करते हुए तबलीगी जमात के मुख्यालय “मरकज़ निजामुद्दीन” में हजारों की संख्या में लोग एकत्र हुए. इनमें मलेशिया और इंडोनेशिया जैसे देशों के सदस्य भी शामिल हुए. निजामुद्दीन मरकज़ से आज सुबह सभी लोगों को बाहर निकाला गया. 

गृह मंत्रालय ने 28 मार्च को लिखे पत्र में कहा कि टूरिस्ट वीजा पर आए सभी विदेशी प्रतिनिधियों (जमात कार्यकर्ताओं की स्क्रीनिंग की जाए और इसका विवरण दिया जाए. राज्य के मुख्य सचिवों और पुलिस प्रमुखों को लिखे पत्र में कहा गया, “यह सलाह दी जाती है कि कोरोनावायरस के खतरे को ध्यान में रखते हुए किसी भी तबलीगी टीम के विदेशी सदस्य की जांच की जा सकती है और अगर जरूरत पड़े तो उन्हें क्वारंटाइन या अस्पताल भेजा जाए. यदि कोई विदेशी शख्स कोरोनावायरस से संक्रमित नहीं है तो उसे तुरंत पहली उपलब्ध फ्लाइट से वापस उसके देश भेजा जाना चाहिए.”

गृह मंत्रालय ने दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को मरकज़ निजामुद्दीन को लेकर चेताया था. गृह मंत्रालय ने कहा कि जमात के इन विदेशी कार्यकर्ताओं को पर्यटक वीजा पर मिशनरी काम में शामिल नहीं होना चाहिए. इस संबंध में सभी राज्य पुलिस इन सभी विदेशी जमात कार्यकर्ताओं के वीजा की श्रेणियों की जांच करेगी और वीजा शर्तों के उल्लंघन के मामले में आगे की कार्रवाई करेगी.

सरकारी अधिकारियों के मुताबिक, प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने विदेश मंत्रालय को निर्देश दिया है कि वह विदेशी मिशनों से संपर्क साधे और उनसे तबलीगी जमात गतिविधियों के पर्यटक वीजा देने पर रोक लगाने के लिए कहे. पीएमओ के वरिष्ठ अधिकारी ने एनडीटीवी को बताया, “विदेश मंत्रालय को विशेष निर्देश दिए गए हैं कि पर्यटक वीजा मंजूर करने से पहले आवेदनकर्ता के वित्तीय विवरण के साथ-साथ उसकी वापसी की टिकट और रहने के स्थान से जुड़ी जानकारियां भी सुनिश्चित की जाएं.”