Corona news updates: South Delhi DM says, Investigating how pizza delivery boy contracted coronavirus | दिल्ली में पिज्जा डिलीवरी बॉय संक्रमित पाया गया; जिन 72 घरों में पिज्जा दिया था, वहां के सभी सदस्य होम क्वारैंटाइन


  • जिस जगह पिज्जा डिलीवरी बॉय काम करता था, वहां सभी ऑपरेशन बंद किए गए
  • पिज्जा डिलीवरी बॉय के रूम मेट्स और साथियों का भी कोरोना टेस्ट करवाया गया

दैनिक भास्कर

Apr 17, 2020, 12:31 AM IST

नई दिल्ली. दक्षिण दिल्ली के मालवीय नगर इलाके में पिज्जा डिलीवरी करने वाले वाले युवक कोरोनावायरस से संक्रमित पाया गया। इस घटना के सामने आने के बाद ऑनडोर फूड सप्लाई पर सवाल खड़े हो गए हैं। दिल्ली में पिज्जा डिलीवरी बॉय जिन 72 घरों में पिज्जा देने के लिए गया था, उनके सभी सदस्यों को होम क्वारैंटाइन कर दिया गया है।

डिलीवरी बॉय के संपर्क में आने वाले सभी की पहचान हुई- दिल्ली प्रशासन
दक्षिण दिल्ली प्रशासन का कहना है कि पिछले 15 दिनों में इस पिज्जा डिलीवरी बॉय ने जिन-जिन घरों में संपर्क किया था, हमने सभी को खोज निकाला है। सभी लोगों को कहा गया है कि वे घरों में ही क्वारैंटाइन रहें। युवक के साथ रहने वाले लोगों का टेस्ट किया गया है और रिपोर्ट्स का इंतजार किया जा रहा है। हालांकि, इस युवक के संपर्क में आए किसी भी शख्स में कोरोना के लक्षण नहीं नजर आ रहे हैं। जिस जगह डिलीवरी बॉय काम करता था, वहां भी लोगों को क्वारैंटाइन किया गया है। ऐसे 17 लोगों को उसी संस्थान में क्वारैंटाइन कर दिया गया है।

हमने राइडर्स को मास्क पहनने के निर्देश दिए हैं- जोमैटो
ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटे में यह पिज्जा डिलीवरी बॉय काम करता था। जोमैटो ने कहा है कि हमने अपने सभी राइडर्स से मास्क पहनने और हाईजीन बरतने के सख्त निर्देश दिए हैं ताकि ऐसी किसी घटना से बचा जा सके। संक्रमित राइडर के साथ काम करने वाले सभी वर्कर्स का टेस्ट किया गया है, जो निगेटिव आया है। लेकिन, हमने ऐहतियातन सभी ऑपरेशन बंद कर दिए हैं।  

क्वारैंटाइन लोग घर में हैं, यह साबित करने के लिए सेल्फी भेजें- दिल्ली सरकार
होम क्वारैंटाइन किए गए सभी लोग घरों में ही रह रहे हैं, यह निश्चित करने के लिए दिल्ली सरकार जल्द ही नया नियम लागू करने जा रही है। सरकार ऐसे लोगों से कहेगी कि वे अपनी सेल्फी मोबाइल एप्लीकेशन के जरिए भेजे ताकि यह पक्का हो सके कि वे घर में हैं। यह ऐप्लीकेशन क्या होगी, वह भी सरकार ही क्वारैंटाइन किए गए लोगों को बताएगी। एक अधिकारी ने कहा कि हमें पता चला है कि क्वारैंटाइन किए गए कुछ लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। ऐसे लोगों का मूवमेंट ट्रैक करने के लिए यह ऐप फायदेमंद होगी।