Coronavirus Jharkhand Ranchi Case Live | Corona Cases In Ranchi Jamshedpur Dhanbad Hazaribagh Lockdown Latest Today News | राज्य के रेड जोन रांची के हिंदपीढ़ी के आठ हजार घरों के लिए खाद्यान की व्यवस्था, यहां मिले हैं सबसे ज्यादा 14 कोरोना संक्रमित


  • गुमला में 500 किमी पैदल चलकर आए 11 मजदूर क्वारैंटाइन, धनबाद में कोरोना संक्रमित के 5 परिजन की रिपोर्ट निगेटिव
  • धनबाद में मिले संक्रमित मरीज के घर से तीन किलोमीटर का क्षेत्र कंटेनमेंट जोन के रूप में चिन्हित, जरुरत की सामग्री के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी

दैनिक भास्कर

Apr 17, 2020, 06:09 PM IST

रांची/धनबाद/जमशेदपुर. राज्य के रेड जोन के रूप में चिन्हित रांची के हिंदपीढ़ी के आठ हजार घरों के लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के निर्देश पर शुक्रवार को आकस्मिक राहत खाद्यान सामग्री वितरण व्यवस्था शुरू की गई। राज्य में अब तक 29 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं जिनमें से 14 हिंदपीढ़ी के हैं। उधर, धनबाद में मिले कोरोना संक्रमित युवक के घर से तीन किलोमीटर का क्षेत्र कंटेनमेंट जोन के रूप में चिन्हित किया गया है। उपायुक्त अमित कुमार की ओर से अपील की गई है  कि इस जोन के लोग घरों में ही रहे। जरूरत की सामग्री के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी कर दी गई है उस नंबर पर फोन कर जरूरत की सामग्री प्राप्त करें । चिन्हित जगहों की निगरानी सीसीटीवी व ड्रोन से की जाएगी।

उधर, धनबाद में मिले कोरोना संक्रमित मरीज को कोविड-19 (सेंट्रल हॉस्पिटल, जगजीवन नगर) अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। राहत की बात यह है कि मरीज के परिजन में कोरोना का संक्रमण नहीं मिला है। उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। उधर, गुमला में बॉर्डर सील होने के बावजूद पटना से 11 मजदूर 500 किमी पैदल चलकर गुमला पहुंचे। प्रशासन को जानकारी मिलते ही सभी मजदूरों को क्वारैंटाइन सेंटर भेज दिया गया है।

लॉकडाउन का पालन कराने को सड़क पर उतरी पुलिस
लॉकडाउन फेज-1 के दौरान लापरवाही देखते हुए फेज-2 में लॉकडाउन का पालन कराने के लिए अब पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया है। धनबाद, जमशेदपुर, रांची सहित अन्य जिलों में सड़कों पर पुलिस उतरी। शुक्रवार को गुमला के थाना रोड, आजाद बस्ती, बाजार टांड, टावर चौक सहित अन्य क्षेत्रों में लोगों को एक जगह जमा नहीं रहने और जरूरी न होने पर घर से बाहर नहीं निकलने की हिदायत दी। 

पटना से गुमला पहुंचे मजदूरों ने कहा कि उन्हें 500 किमी चलते रहे, कहीं भी किसी ने नहीं रोका। इधर, मजदूरों के आने की सूचना के बाद जिला प्रशासन ने पतराटोली गांव पहुंचकर मजदूरों को क्वारैंटाइन सेंटर भेज दिया गया।

गुमला: 500 किमी पैदल चलकर आए 11 मजदूरों को किसी ने नहीं रोका
लॉकडाउन के बाद गुरुवार को 11 मजदूर पांच दिनों में करीब 500 किमी की दूरी तय कर पटना से पैदल चलकर गुमला पहुंचे। ये सभी मजदूर मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्य के विभिन्न जिलों के हैं। यहां से वे पैदल ही छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश निकलने वाले थे, लेकिन जिला मुख्यालय पहुंचने से पांच किमी दूर खोरा पतराटोली गांव के ग्रामीणों ने इन्हें मुख्य सड़क से गुजरने के दौरान रोक लिया। इसके बाद गांव की सुरक्षा में तैनात स्टैटिक बल के जवानों को इसकी सूचना दी। फिर जवानों ने सभी से एक-एक कर पूछताछ की। मजदूरों ने बताया कि उनके पास घर लौटने के लिए न तो पैसे थे, न ही कोई साधन। रास्ते मे कहीं भी सरकारी मदद मिलने की आस में वे चल पड़े थे। 500 किमी के रास्ते में कहीं भी किसी ने नहीं रोका।

धनबाद: संक्रमित मरीज के परिजन की रिपोर्ट निगेटिव
धनबाद जिले में पहला कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद राहत की बात है कि उसके 5 परिजन की रिपोर्ट निगेटिव आई है। बताया जा रहा है कि बंगाल से घर लौटने के बाद युवक ने स्थानीय बच्चों के साथ क्रिकेट खेला। वह खरीदारी के लिए सब्जी मंडी भी गया था। डिप्टी कमिश्नर अमित कुमार ने बताया कि पॉजिटिव पाए गए युवक की ट्रैवल हिस्ट्री खंगाली जा रही है। युवक के संपर्क में आने वाले हर व्यक्ति की जांच होगी। रिपोर्ट आने के बाद मरीज को देर रात कोविड-19 अस्पताल (सेंट्रल हॉस्पिटल, जगजीवन) में शिफ्ट किया गया है। उसके परिवार के शेष लोग पीएमसीएच के आइसोलेशन वार्ड में ही हैं।

बोकारो के सब्जी मंडी में प्रशासन ने शुक्रवार को निरीक्षण किया। सब्जी बाजार में विक्रेताओं और आम लोगों द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा रहा है।

5 प्रमंडलों में उत्तरी छोटा नागपुर सर्वाधिक प्रभावित

राज्य में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण के केस राजधानी रांची में मिले हैं। मगर प्रखंडवार बात करें तो उत्तरी छोटा नागपुर सर्वाधिक प्रभावित है। यहां 7 में से 5 जिलों में संक्रमण फैल चुका है। बोकारो हॉटस्पॉट जिला रेड जोन में शामिल है। अब तक पलामू, कोल्हान और संथाल परगना प्रखंड के जिले ग्रीन जोन में हैं।

बोकारो स्टील सिटी में शुक्रवार सुबह गैस एजेंसी के बाहर गैस लेने वालों को उचित दूरी पर खड़ा किया गया। इस दौरान वहां सिलेंडर लेने पहुंचे लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का बखूबी पालन किया।

मलेशियाई युवती का तीसरी बार जांच के लिए लिया सैंपल
पिछले 16 दिनों से रिम्स के कोविड-19 वार्ड में भर्ती मलेशियाई युवती का गुरुवार की शाम तीसरी बार जांच के लिए सैंपल लिया गया। इसकी रिपोर्ट शनिवार को आएगी। अगर रिपोर्ट निगेटिव आई तो 7 दिन के बाद उसका एक बार फिर से सैंपल लिया जाएगा। उस दौरान रिपोर्ट निगेटिव आ गई तो वह ठीक हो जाएगी। हिंदपीढ़ी की दूसरी संक्रमित महिला का बुधवार को ही डायलिसिस होना था, लेकिन कैथेटर पाइप के बाथरूम में गिर जाने के कारण एक दिन बाद हुआ।

रांची रेड जोन में: 28 दिन बाद आ सकता है ग्रीन में, बशर्ते एक भी नया पॉजिटिव केस रिपोर्ट न हो
केंद्र सरकार ने कोरोनावायरस के संक्रमण पर नियंत्रण करने के लिए जिलों को तीन भागों में बांटा है। झारखंड के दो जिले रांची और बोकारो को रेड जोन (हॉट स्पॉट) में शामिल किया गया है। राज्य के तीन जिले हजारीबाग, गिरिडीह और सिमडेगा ऑरेज जोन में है। इन जिलों को हॉट स्पॉट तो नहीं, लेकिन हॉट स्पॉट बनने की आशंका है। इसके बाद ग्रीन जोन यानी वो इलाके जहां कोरोना का एक भी केस नहीं हैं। ऐसे में अब रांची और हजारीबाग को रेड जोन से ऑरेज और फिर ऑरेज से ग्रीन जोन में लाने के लिए वृहद पैमाने पर कार्ययोजना तैयार की जा रही है। आईडीएसपी की ओर से रांची और बोकारो जिले के हॉट स्पॉट को नियंत्रित करने का प्लान तैयार किया जा रहा है।

जमशेदपुर में गुरुवार रात को एक मंदिर की दान पेटी चोरी हो जाने के बाद सुबह पुलिस को जानकारी देने के लिए मोहल्ले के लोग जुट गए। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल नहीं रखा गया।

इनफ्लुएंजा या सांस से संबंधित मरीजों का होगा कोरोना टेस्ट
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के निर्देशों के मुताबिक जिन रेड जोन इलाकों में 28 दिनों के भीतर कोई केस रिपोर्ट नहीं किया जाएगा, उन्हें ग्रीन जोन माना जाएगा। इसी तरह जिन ऑरेंज जोन में 14 दिनों तक कोई मामला सामने नहीं आएगा, उसे ग्रीन जोन में शामिल किया जाएगा। ग्रीन जोन में भी कोरोना पर नजर रखने का फैसला किया है। ग्रीन जोन वाले इनफ्लुएंजा या सांस से संबंधित बीमारी से गंभीर रूप से ग्रसित मरीजों का कोरोना टेस्ट किया जाएगा।

बफर जोन में चलेगा अभियान, लोगों का लिया जाएगा सैंपल
रेड जोन वाले इलाकों में घर-घर सर्वे कर कोरोना के संदिग्ध मरीजों की जांच की जाएगी। सर्वे के दौरान सर्दी-खांसी, जुकाम और बुखार वाले मरीजों का टेस्ट किया जाएगा। हॉट स्पॉट से सटे एरिया को बफर जोन घोषित किया गया है। यहां स्वास्थ्य विभाग की स्पेशल टीम अभियान चलाकर एक्टिव केस तलाशेगी। इस इलाके से लोगों का सैंपल लिया जाएगा और उनका टेस्ट किया जाएगा।

रांची के डकरा में पुलिस-प्रशासन की सख्ती के बाद शुक्रवार को लगने वाला साप्ताहिक सब्जी बाजार नहीं लगा। इसके चलते रास्ते सुनसान दिखे।

हिंदपीढ़ी के वॉलेंटियर्स का होगा कोरोना टेस्ट, होम क्वारैंटाइन भी
लॉकडाउन के दौरान हिंदपीढ़ी में लगातार ड्यूटी कर रहे 150 जवानों को मंगलवार को होम क्वारेंटाइन कर दिया गया है। अब यहां के वॉलेंटियर्स को भी होम क्वारैंटाइन किया जाएगा। दरअसल, कोरोनावायरस के संक्रमण से बचने के लिए एसएसपी ने सभी जवानों को 14 दिनों तक क्वारैंटाइन में रहने का आदेश दिया है। वहीं, जिला प्रशासन ने भी मुहल्ले के निवासी और वॉलेंटियर्स को संक्रमण से बचाने के लिए होम क्वारैंटाइन कराने की योजना बनाई है। क्योंकि, ये वॉलेंटियर्स मुहल्ले के लोगों को सामान पहुंचा रहे थे, इसलिए इनका कोरोना टेस्ट भी कराया जाएगा। यहां तैनात किए गए सिविल डिफेंस कर्मियों की भी जांच कराई जाएगी। इनकी जगह नए वॉलेंटियर्स लगाए जाएंगे।

झारखंड एकेडिमिक काउंसिल : मैट्रिक-इंटर की कॉपियों की जांच तीन मई के बाद
जैक द्वारा मैट्रिक और इंटर की उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन अब तीन मई के बाद से होगा। इस संबंध में जैक द्वारा गुरुवार को नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया। जैक सचिव महीप कुमार सिंह ने सभी आरडीडीई व डीईओ को पत्र लिखकर कहा है कि लॉकडाउन की अवधि तीन मई तक विस्तारित की गई है। ऐसे में अब मूल्यांकन कार्य तीन मई तक स्थगित किया जाता है।

जमशेदपुर: बाहर से आए 10511 लोगों का क्वारैंटाइन पूरा, मुसाबनी में रुके 11 चीनी मौलवी की दोबारा जांच
स्वास्थ्य विभाग ने 15 फरवरी से 15 अप्रैल तक बाहर से शहर आए 13029 लोगों की स्थिति की री-चैकिंग शुरू कर दी है। आंकड़ों के अनुसार अब तक 10511 लोगों का 14 दिन का क्वारैंटाइन पीरियड पूरा हो गया है। जबकि 2517 लोग अब भी होम क्वारैंटाइन और 797 लोग क्वारैंटाइन सेंटर में रखे गए हैं। इस अवधि में 497 संदिग्ध मरीजों के सैंपल की जांच की गई और सभी निगेटिव मिले हैं। वहीं, हॉट स्पॉट से जुड़े संदिग्ध मरीजों के सैंपल की दोबारा जांच की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। मुसाबनी क्वारैंटाइन सेंटर में रखे गए चीन के 11 मौलवियों के सैंपल की दोबारा जांच के लिए गुरुवार को एमजीएम के वायरोलॉजी लैब भेजा गया।

दिल्ली की घटना से लिया सबक: आज से डिलीवरी बॉय की थर्मल जांच
दिल्ली में डिलीवरी बॉय के संक्रमण के कारण 72 लोगों के कोरोना की चपेट में आने की घटना से जिला प्रशासन ने सबक लेते हुए सभी डिलीवरी बॉय की थर्मल जांच कराने का आदेश दिया है। डीसी रविशंकर शुक्ला ने गुरुवार को आदेश जारी किया है। जिस प्रतिष्ठान में होम डिलेवरी बॉय काम करते हैं उसके संचालक को थर्मल स्कैनर अनिवार्य रूप से रखना होगा। ऑपरेट करने के लिए सिविल सर्जन कार्यालय द्वारा प्रशिक्षण दिया जाएगा। अगर डिलीवरी बॉय प्रशिक्षण लेना चाहते हैं तो सिविल सर्जन कार्यालय में कोरोना से बचाव का प्रशिक्षण दिया जाएगा।