Coronavirus: Kids Donating Their Piggy Bank Savings For COVID-19 Relief


Coronavirus: COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में उतरे छोटे बच्‍चे, दान कर रहे हैं अपने गुल्‍लक के सारे पैसे

Coronavirus Donations: कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में बच्‍चे भी अपनी सेविंग्‍स दान कर रहे हैं

नई दिल्ली:

कोरोनावायरस (Coronavirus) के खिलाफ जंग लड़ने के लिए समाज का हर तबका योगदान दे रहा है. पिछले हफ्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ में इस महामारी से निपटने के लिए दान देने की अपील की थी. तभी से कई लोग संकट की इस घड़ी में आगे आए हैं और डोनेशन दे रहे हैं. बॉलीवुड सेलिब्रिटीज से लेकर क्रिकेट हस्तियां भी खुलकर दान कर रही हैं. यही नहीं आम नागरिक भी इस मुहिम में भाग लेते हुए दिखाई दे रहे हैं. दान में दी गई इस र‍कम का इस्‍तेमाल कोरोवायरस के मरीजों के इलाज, टेस्टिंग किट्स और जरूरी उपकरणें की खरीद में किया जाएगा. 

कोरोना के खिलाफ जारी इस जंग में 6 साल से लेकर 7 साल तक के बच्‍चे भी अपनी गुल्‍लक से पैसा निकालकर दान कर रहे हैं. 

इसी कड़ी में मिजोरम के एक सात वर्षीय बच्‍चे ने अपने गुल्‍लक में जमा कुल 333 रुपये दान कर दिए हैं.

ठीक इसी तरह एक छह साल के बच्‍चे के गुल्‍लक में जितने भी पैसे थे उसने वो सब लॉकडाउन प्रभावित लोगों के लिए दान कर दिए. इंटरनेट पर यह वीडियो बहुत वायरल हो रहा है.

वहीं, द न्‍यू इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर के मुताबिक, तमिलनाडु के रहने वाले सात साल के सैयद अनीस ने 845 रुपये दान किए हैं. इसी के साथ उसने राज्‍य के मुख्‍यमंत्री को पत्र भी लिखते हुए कहा है, “मैंने 845 रुपये बचाए हैं. हमारे तमिलनाडु में कोरोना से लड़ने के लिए अंकल मैं यह पैसे आपको दान देना चाहता हूं.”

यही नहीं बच्‍चे ने यह भी बताया कि वो अपने दोस्‍तों को दान देने के लिए प्रेरित कर रहा है. उसके मुताबिक, “मैं अपने दोस्‍तों से भी दान देने के बारे में बात कर रहा हूं. मेरे क्‍लास के दो बच्‍चों ने कहा है कि वे भी दान देने के इच्‍छुक हैं.”

इसके अलावा अरुणाचल प्रदेश के एक पुलिसवाले की बेटी लोगों से घरों में रहने की अपील कर रही है. बच्‍ची की हाथों में होर्डिंग पकड़े हुए एक तस्‍वीर वायरल हो रही है. होर्डिंग में लिखा है, “मेरे पिता पुलिसवाले हैं. वो आपकी मदद करने के लिए मुझसे दूर रह रहे है. क्‍या आप उनकी मदद करने के लिए घर में रह सकते हैं?”

कोरोनावायरस के खिलाफ इस जंग में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करा रहे इन बच्‍चों को हमारा सलाम.