Coronavirus: positive news comes in the rise of positive patients, first victim in Delhi healthy – Coronavirus: पॉजिटिव मरीजों के बढ़ने के दौर में आई पॉजिटिव खबर, ठीक होने वाले शख्‍स ने NDTV को सुनाई आपबीती


खास बातें

  1. फरवरी में रोहित दत्ता ने तीन देशों की यात्रा की थी
  2. एक मार्च को टेस्ट में कोरोना पॉजिटिव आया था
  3. कहा- आइसोलेशन से डरें नहीं, वह कोई जेल नहीं

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस (Coronavirus) के पॉजिटिव मरीजों की खबरों के बीच कोरोना को लेकर पॉजिटिव ख़बर आई जो कि डर और भय के बीच उम्मीद पैदा करती है. दिल्ली का पहला कोरोना पॉजिटिव मरीज़ ठीक होकर अस्पताल से घर जा चुका है. यह शख्स 45 साल का है और दिल्ली के मयूर विहार इलाके में रहता है. उनकी फरवरी के महीने की ट्रैवल हिस्ट्री विदेश की है. 16 फरवरी को दिल्ली से इटली, फिर बुडापेस्ट और विएना होते हुए 25 फरवरी को दिल्ली आए. उनके अनुभव को लेकर उनसे NDTV ने फ़ोन पर बात की.

उन्होंने बताया कि डर उन्हें भी लगा पर डरने की ज़रूरत नहीं है. आइसोलेशन से डरना नहीं चाहिए. आइसोलेशन कोई जेल नहीं है.

कोरोना संक्रमण पर विजय पाने वाले ने बताया कि दिन में तीन-चार बार डॉक्टरों की टीम आती थी. उन्होंने नंबर दिया और कहा 24 घंटे में कभी भी कॉल कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि मेरा पॉजिटिव एक मार्च को आया, पर बताया नहीं गया. सीधा सफदरजंग भेज दिया गया. उसी रात परिवार से टीम आकर मिली, फिर उनसे मिलकर स्क्रीनिंग की.

उन्होंने बताया कि सफदरजंग में दो मार्च को तीन डॉक्टर आये, बड़े अच्छे से समझाया. मेरा 14 दिनों में दो बार टेस्ट हुआ. सैंपल थ्रोट और नाक से लिया जाता है. 10 वें और 12वें दिन दो बार निगेटिव आया तो छुट्टी मिली. उन्होंने कहा कि घर पर 14 दिन के क्वारंटाइन में रहना है, अलग कमरा. पब्लिक प्लेस में जाने से परहेज़ करने को कहा गया है.

उन्होंने बताया कि होली के दिन डॉ हर्षवर्धन ने फोन पर बात की. सरकार का इंतज़ाम काफी अच्छा है. कम से कम सफदरजंग को लेकर मैं कह सकता हूं. वह आइसोलेशन के नाम से घर पर हैं. मरीज यदि इलाज नहीं करवा रहे तो प्लीज जाएं, इलाज करवाएंगे तो ठीक होंगे.