Coronavirus Tips: Do Not Take COVID-19 Symptoms Lightly, Follow These 6 Tips Given By Experts For Prevention | Coronavirus Death Toll Update


Coronavirus Tips: भारत में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है. भारत में कोरोनावायरस (Coronavirus In India) से अब तक 250से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. इस संख्या में भारत में अब तक हुई 4 मौतें शामिल हैं. शुक्रवार को गुजरात में इटली के एक व्यक्ति जान चली गई हालांकि व्यक्ति की रिपोर्ट नेगेटिव आ गई थी. कोरोनावायरस (Coronavirus) के अहतियातन स्कूलों, मॉल, जिम, सिनेमा हॉल, को शटडाउन कर दिया है. कई कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की अनुमति दी है. अभी, लोगों को सार्वजनिक स्थानों पर जाने और घर के अंदर रहने की सलाह दी गई है. ताकि वायरस के प्रसार (Sread Of Coronavirus) को रोका जा सके.

भारत इस समय कोरोनावायरस के प्रकोप (Coronavirus Outbreak) के दूसरे स्टेप पर है. स्टेप दो तब होता है जब संक्रमित व्यक्तियों से स्थानीय संचरण होता है. वायरस उन लोगों या रिश्तेदारों को प्रभावित करता है जो विदेश यात्रा करते हैं. स्थानीय प्रसारण के मामले में, कम लोग प्रभावित होते हैं. कोरोनावायरस (Coronavirus) को सफलतापूर्वक फैलने से रोकने के लिए, लोगों को घबराने और कोरोनावायरस के बारे में अपने तथ्यों, इसके सटीक लक्षणों और सही रोकथाम के सुझावों के बारे में जानकारी प्राप्त करना महत्वपूर्ण है.

हमने एसोसिएशन ऑफ सर्जन्स ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. पी. रघु राम से बात की, ताकि कोरोनोवायरस के लिए कुछ नो-पैनिक दिशानिर्देश के बारे में जाना जा सके.


Coronavirus Tips: कोरोनावायरस से बचाव के लिए इन टिप्स को करें फॉलो

डॉ. पी. रघु राम कहते हैं, “हमें देश में फैले कोरोनावायरस के मद्देनजर घबराने के बजाय सतर्क रहना चाहिए. हममें से प्रत्येक को दूसरों के साथ संपर्क से बचने के लिए व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होना चाहिए.”
k10vfj3g

 Coronavirus Outbreak: हाथों की नियमित रूप से सफाई करना जरूरी है

1. सोशल डिस्टेंसिंग/सेल्फ आइसोलेशन को गंभीरता से लिया जाना चाहिए

डॉक्टर पी. रघु राम सोशल डिस्टेंसिंग को गंभीरता से लिया जाना चाहिए क्योंकि इससे कोरोनोवायरस के सामुदायिक प्रसार को रोकने में काफी मदद मिलेगी. “हमारे पास बड़े पैमाने पर लोगों का परीक्षण करने की क्षमता नहीं है. इसलिए पर्याप्त परीक्षण किटों की कमी के कारण बहुत से लोग बिना जांच के हैं. इसका मतलब है कि हम नहीं जानते कि समुदाय में कोरोनोवायरस का प्रचलन क्या है.

इसका मतलब है कि रिपोर्ट किए गए मामलों की संख्या और वास्तविक मामलों की संख्या अलग-अलग होने वाली है. इसलिए, सोशल डिस्टेंसिंगग बहुत महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा, “सीओवीआईडी ​​-19 से संक्रमित लोगों में से अधिकांश संपर्क में आने वाले लोग हैं. संक्रमित लोगों में से 80% लोग केवल हल्के लक्षणों का अनुभव करते हैं. हमें यह मानना ​​होगा कि जिन लोगों के साथ हम संपर्क में आ सकते हैं, वे संक्रमित हो सकते हैं.”

2. कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए साफ-सफाई पर दें ध्यान

साबुन और पानी से हाथों को बार-बार धोना चाहिए. खांसी और छींक आने पर अपने मुंह को अपनी कोहनी से ढक लें. अगर आप किसी चीज का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उपयोग करने के बाद उसे फेंक दें. इसके अलावा, लोगों को सचेत रूप से अपने चेहरे, नाक और आंखों को छूने का प्रयास नहीं करना चाहिए.

l1li31eo

Do not panic the moment you get symptoms of sore throat or running nose

3. सूखी खांसी, बुखार और सांस फूलने के लक्षणों को नजरअंदाज न करें

डॉ. राम सलाह देते हैं, जिन लोगों में फ्लू जैसे लक्षण होते हैं उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है, “कई बार कोरोनोवायरस संक्रमण के कारण लक्षण हल्के होते हैं. अगर लक्षण आठवें दिन के बाद बदतर हो जाते हैं, जो आमतौर पर होता है, तो परीक्षण के लिए जाएं. डॉ. राम कहते हैं, जब कोरोनावायरस के लक्षण बिगड़ते हैं, तो यह बहुत तेज बुखार या निमोनिया जैसे लक्षण पैदा कर सकता है.

4. गले में खराश या बहती नाक जैसे लक्षणों से घबराएं नहीं

डॉ. राम कहते हैं कि जैसे ही आपको नाक या गले में खराश जैसे लक्षण मिलते हैं तुरंत अस्पताल जाना चाहिए. यह समझना महत्वपूर्ण है कि ये लक्षण कई अन्य कारकों के भी कारण हो सकते हैं. “हमारे पास वर्तमान में देश में कोरोनावायरस का परीक्षण करने के लिए सीमित किट हैं. अगर हर कोई खांसी और ठंड की रिपोर्ट के साथ COVID-19 हेल्पलाइन पर जाता है, तो इससे परेशानी हो सकती है और जो वास्तव में इससे संक्रमित हो सकते हैं, उनका टेस्ट होने से रह सकता है.”

dc20evmoCoronavirus Prevention: कोरोनावायरस से संक्रमित व्यक्ति के आसपास रहने पर ही मास्क का इस्तेमाल करें

5. भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें

डॉ. राम कहते हैं, “अब तक, हम सभी इस बात से अवगत हैं कि इस समय सभाओं में जाने से बचना कितना महत्वपूर्ण है. जिम, मॉल्स, सिनेमा हॉल, मार्केट जैसी जगहों से बचना चाहिए. जब तक यह पूरी तरह से जरूरी न हो यात्रा से बचें.”

6. फेस मास्क से सावधान रहें

फेस मास्क का उपयोग केवल तभी किया जाना चाहिए जब कोई संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आने की संभावना हो. फेस मास्क संक्रमण को पारित होने की संभावना को कम करते हैं. “यदि आप लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं तो टेस्ट करवाएं.

“अगर आफ COVID-19 के पॉजिटिव हैं तो फिर मास्क जरूर पहनें इसी समय, यह जानना जरूरी है कि स्वास्थ्य देखभाल करने वाले श्रमिकों के लिए मास्क बहुत महत्वपूर्ण हैं. जो कोरोनोवायरस रोगियों की देखभाल कर रहे हैं. हमें घबराकर मास्क नहीं पहनना चाहिए. इस बात का समर्थन करने के लिए कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि फेस मास्क संक्रमण को रोकने में मदद कर सकता है.”

(डॉ. पी. रघु राम द एसोसिएशन ऑफ़ सर्जन्स ऑफ़ इंडिया के अध्यक्ष हैं)

आम सर्दी-जुकाम, फ्लू और कोरोनावायरस के लक्षणों में कैसे करें फर्क