Covid 19: 860 people have been evacuated from Nizamuddin Markaz to different hospitals due to coronavirus – निजामुद्दीन मरकज़ से अब तक कुल 860 लोगों को निकालकर अलग-अलग अस्पतालों में पहुंचाया गया, अभी निकाले जा रहे 300 लोग और

Covid 19: 860 people have been evacuated from Nizamuddin Markaz to different hospitals due to coronavirus – निजामुद्दीन मरकज़ से अब तक कुल 860 लोगों को निकालकर अलग-अलग अस्पतालों में पहुंचाया गया, अभी निकाले जा रहे 300 लोग और


निजामुद्दीन मरकज़ से अब तक कुल 860 लोगों को निकालकर अलग-अलग अस्पतालों में पहुंचाया गया, अभी निकाले जा रहे 300 लोग और

2,000 से अधिक प्रतिनिधियों ने 1 से 15 मार्च तक तब्लीग-ए-जमात में हिस्सा लिया था- फाइल फोटो

नई दिल्ली:

दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्थित मरकज में मलेशिया, इंडोनेशिया, सऊदी अरब और किर्गिस्तान सहित 2,000 से अधिक प्रतिनिधियों ने 1 से 15 मार्च तक तब्लीग-ए-जमात में हिस्सा लिया था. कोरोनावायरस के चलते मरकज से अब तक कुल 860 लोगों को निकालकर अलग-अलग अस्पतालों में पहुंचाया जा चुका है. वहीं अभी 300 और लोगों को निकाल कर अस्पताल ले जाया जाएगा. एक मार्च और 14 मार्च के अवधि के बाद भी 1,400 लोग यहां रुके हुए थे. बीते दिन सोमवार को निजामुद्दीन स्थित मरकज में शामिल होने वाले छह लोगों की तेलंगाना में कोरोनावायरस से मौत हो गई. उधर, अंडमान में 10 लोगों की रिपोर्ट में कोरोनावायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है. इन 10 में 9 लोग वह हैं जो दिल्ली कि मरकज में शामिल हुए थे. 10वीं संक्रमित महिला भी इन्हीं में से एक पत्नी है जो दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज में शामिल हुए थे. 

तेलंगाना मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी बयान के अऩुसार, दो लोगों की मौत गांधी अस्पताल में हुई, एक-एक व्यक्ति की मौत दो निजी अस्पतालों में और एक व्यक्ति की मौत निजामाबाद और एक व्यक्ति की मौत गडवाल शहर में हुई. इसके बाद जिलाधिकारियों के नेतृत्व में विशेष दलों ने मृतकों के संपर्क में आए लोगों का पता लगा लिया है और उन्हें अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. ऐसा लगता है कि यहां इसका पालन नहीं किया जा रहा था. यहां कोरोना को लेकर जारी की गई गाइडलाइन का उल्लंघन किया गया है, जिसकी वजह से कई जिंदगियां खतरे में आ गई है. 

प्रबंधकों का यह कृत्य आपराधिक है. प्रशासकों ने इऩ शर्तों का उल्लंघन किया है. इसके प्रभारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. लॉकडाउन के दौरान इस तरह के जमावड़े से बचना हर नागरिक की जिम्मेदारी थी और यह एक आपराधिक कृत्य के अलावा और कुछ नहीं है. 

बता दें कि दुनिया के साथ-साथ भारत में भी कोरोनावायरस का कहर तेजी से बढ़ता जा रहा है. 180 से ज्यादा देशों में फैल चुका यह वायरस अब तक 33,000 से ज्यादा जानें ले चुका है. दुनियाभर में करीब 7 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं. भारत में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1251 हो गई है. बीते 24 घंटे में इसके 227 नए मामले सामने आए. देश में अभी तक 32 लोगों की मौत हो चुकी है, हालांकि 102 मरीज इस बीमारी को हराने में कामयाब भी हुए हैं. देश के सभी राज्यों से इसके मरीज सामने आ रहे हैं. केंद्र सरकार ने इससे बचाव के चलते ही देश में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की है.14 अप्रैल को यह लॉकडाउन खत्म होगा.


Leave a Reply