Fact Check : Did PM Modi allow Priyanka Vadra to stay in government accommodation for a few more days? The complete truth of this viral news | क्या पीएम मोदी ने प्रियंका वाड्रा को कुछ दिन और सरकारी आवास में रहने की मोहलत दे दी? इस वायरल खबर का पूरा सच


दैनिक भास्कर

Jul 14, 2020, 01:02 PM IST

क्या वायरल : दावा किया जा रहा है कि पीएम मोदी ने प्रियंका गांधी वाड्रा को कुछ दिन और सरकारी आवास में रहने की अनुमति दे दी है। दावा है कि प्रियंका ने सरकार से मोहलत मांगी थी। जिसे पीएम ने स्वीकार कर लिया है। 

  • 1 जुलाई को केंद्र सरकार में हाउसिंग और शहरी मामलों के मंत्रालय ने प्रियंका गांधी वाड्रा को उनका सरकारी बंगला खाली करने का नोटिस दिया था। दिल्ली में 35 लोधी एस्टेट स्थित इस सरकारी आवास को खाली करने के लिए प्रियंका को 1 अगस्त तक की मोहलत मिली है।
  • प्रियंका वाड्रा को नोटिस मिलने के 13 दिन बाद अचानक यह खबर आई कि उन्होंने कुछ दिन और सरकारी आवास में रहने की अपील की है। और उनकी इस अपील को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वीकार भी कर लिया है। 
  • आउटलुक वेबसाइट पर न्यूज एजेंसी IANS के हवाले से 13 जुलाई को यह खबर पब्लिश की गई है।
  • दैनिक जागरण की वेबसाइट पर भी 14 जुलाई को यह खबर पब्लिश की गई है।
  • सोशल मीडिया पर भी लोग यह दावा कर रहे हैं कि पीएम मोदी ने प्रियंका को कुछ दिन और सरकारी आवास में रहने की अनुमति दे दी है

फैक्ट चेक पड़ताल 

  • पिछले एक सप्ताह में प्रियंका के आवास से जुड़ी खबरों में उनका ऐसा कोई बयान नहीं है। जिसमें उन्होंने कहा हो कि वे सरकार से कुछ दिन की मोहलत मांग रही हैं।
  • 14 जुलाई को खुद प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर कहा कि उन्होंने सरकार से कोई अपील नहीं की है। प्रियंका ने ये भी कहा कि नोटिस के मुताबिक वे 1 अगस्त को आवास खाली कर देंगी।
  • प्रियंका वाड्रा का बयान आने के बाद आउटलुक वेबसाइट ने भी इस खबर को फेक बताया।
  • केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पूरी का दावा है कि वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने उनसे अपील की थी कि प्रियंका का बंगला किसी कांग्रेस सांसद को ही आवंटित कर दिया जाए। जिससे प्रियंका वाड्रा कुछ दिन और वहां रह सकें। लेकिन, हरदीप सिंह पूरी के बयान से भी ये पुष्टि नहीं होती कि खुद प्रियंका ने सरकार से कुछ दिन और सरकारी आवास में रहने की अनुमति मांगी है।

निष्कर्ष : खुद प्रियंका गांधी ने सरकारी आवास में कुछ दिन और रहने की मोहलत मांगने की बात को झूठ बताया है। इस दावे से जुड़ी खबरें फेक हैं।