Gujarat Congress sends 14 MLAs to Jaipur to save them from horse trading and 36 more to be sent | कांग्रेस के 5 विधायकों के इस्तीफे की चर्चा, सभी के मोबाइल बंद; पार्टी ने 14 विधायकों को जयपुर भेजा


  • कांग्रेस को आशंका- राज्यसभा चुनाव की वोटिंग में भाजपा कर सकती है तोड़फोड़, एक सीट के लिए 37 वोट जरूरी
  • 26 मार्च को राज्यसभा के लिए वोटिंग, भाजपा के 103 और कांग्रेस के 73 विधायक, कांग्रेस को जिग्नेश का भी समर्थन

दैनिक भास्कर

Mar 15, 2020, 12:19 PM IST

गांधीनगर/जयपुर. गुजरात में राज्यसभा की 4 सीटों के लिए होने वाले चुनाव में कांग्रेस को हॉर्स ट्रेडिंग की चिंता सता रही है। भाजपा ने अपने 3 उम्मीदवार मैदान में उतार दिए हैं। इस बीच  कांग्रेस के 5 विधायकों कनुभाई बारैया, चिरागभाई कारड़िया, हर्षदभाई रीबड़िया, जेवी काकड़िया और अक्षयभाई पटेल के पार्टी से इस्तीफा देने की चर्चा है। पांचों के मोबाइल बंद आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये पांचों विधायक भाजपा को समर्थन दे सकते हैं। 
 

कांग्रेस को डर है कि भाजपा तीसरी सीट जीतने के लिए हॉर्स ट्रेडिंग कर सकती है। इसलिए कांग्रेस के 14 विधायकों को जयपुर भेजा गया है। उम्मीद है कि 36 विधायकों को और भेजा जाएगा।सभी विधायकों को एक रिजॉर्ट में ले जाया गया है। विधायकों को मोबाइल न रखने की हिदायत दी गई। वे परिवार या परिचित से मुलाकात भी नहीं कर सकते।

राजस्थान में कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार को कांग्रेस हाईकमान सबसे सुरक्षित मानकर चल रही है। इसी कारण सभी विधायकों को राजस्थान लेकर आया जा रहा है। गुजरात में 26 मार्च को राज्यसभा के लिए मतदान होना है।

कांग्रेस: सभी 73 विधायकों को सुरक्षित रखने की यह प्लानिंग

  • 14 विधायक जयपुर भेजे। 36 को और भेजा जाएगा। संभव है ये विधायक उदयपुर शिफ्ट किए जाएंगे।
  • अन्य 5 विधायकों को गुजरात में ही एक रिजॉर्ट में ले जाया जाएगा।
  • 15 से 18 विधायक गुजरात में रहेंगे और विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेंगे।

ये 14 विधायक पहुंचे राजस्थान
लखाभाई भरवाड़ (वीरमगाम), पूनम परमार (सोजित्रा), जिनी बेन ठाकुर (वाव), चंदनजी ठाकुर (सिद्धपुर), रित्विक मकवाना (चोटिला), चिराग कालरिया (जामजोधपुर), बलदेव ठाकुर (कलोल), नाथाभाई पटेल (धनेरा), हिम्मतसिंह पटेल (बापूनगर), इंद्रजीत ठाकुर (महुधा), राजेश गोहिल (ढांढुका), हर्षद रिबदिया (विसावदर), अजीत सिंह चौहान (बालासिनोर) और कांति परमार (ठासरा) शामिल हैं।

भाजपा एक सीट खो सकती है
गुजरात विधानसभा में भाजपा के मौजूदा विधायकों की संख्या को देखते हुए राज्यसभा में उसके एक सीट खोने का डर है। ऐसे में कांग्रेस को क्रॉस वोटिंग का डर है। गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने शुक्रवार को कहा था कि कांग्रेस ने पाटीदार उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया और पार्टी में आपसी गुटबाजी भी है, इसका फायदा भाजपा को मिलेगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि भाजपा तीनों सीटें जीतेगी। उधर, कांग्रेस नेता भरत सिंह सोलंकी ने कहा है कि राज्यसभा चुनाव में भाजपा को मुंह की खानी पड़ेगी।

गुजरात में राज्यसभा सीट जीतने का गणित
180 सीटों वाली गुजरात विधानसभा में भाजपा के 103 विधायक हैं। उसे राकांपा के एक और भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) के 2 विधायकों का समर्थन है। ऐसे में उसके पास कुल 106 विधायकों का समर्थन है। कांग्रेस के पास 73 विधायक हैं। निर्दलीय जिग्नेश मेवाणी के समर्थन से उसका संख्याबल 74 का है। राज्य की एक राज्यसभा सीट जीतने के लिए 37 वोट की जरूरत होगी। ऐसे में भाजपा को 2 और कांग्रेस को एक सीट आसानी से मिल जाएगी। चौथी सीट पर का फैसला दूसरी वरीयता के वोट से होगा। भाजपा 3 सीट जीतने का दावा कर रही है। यही कारण है, जिसके चलते कांग्रेस को विधायकों के टूटने का डर सता रहा है।