In the Nirbhaya case the last maneuver of the culprits before hanging Akshay filed a petition before the President in the Supreme Court – निर्भया मामले में फांसी से पहले दोषियों का आखिरी पैंतरा, अक्षय ने राष्ट्रपति के आगे तो पवन ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिका


नई दिल्ली :

निर्भया मामले में फांसी से पहले दोषियों ने आखिरी पैंतरा चला है. दोषी अक्षय ने जहां राष्ट्रपति के आगे एक बार फिर दया याचिका लगाई है तो वहीं दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में सुधारात्मक याचिका दायर की है. निर्भया सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले के दोषी अक्षय ठाकुर ने 20 मार्च को तय फांसी से महज तीन दिन पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के समक्ष दूसरी दया याचिका दायर की है. 

तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने कहा कि कुमार ने मंगलवार की शाम को राष्ट्रपति को संबोधित याचिका दायर की. फांसी तिहाड़ जेल में ही दी जानी है. उन्होंने कहा, ‘‘इस याचिका को भी दिल्ली सरकार के मार्फत गृह मंत्रालय को भेजा जाएगा.”

वहीं, निर्भया मामले के दोषियों में से एक पवन गुप्ता ने आखिरी प्रयास के तहत उच्चतम न्यायालय में एक सुधारात्मक याचिका दायर की है. पवन गुप्ता ने यह सुधारात्मक याचिका उस पुनर्विचार याचिका को खारिज किये जाने के खिलाफ दायर की है जिसमें उसके किशोर होने का दावा खारिज किया गया था.

उच्चतम न्यायालय ने दोषी पवन गुप्ता की उस समीक्षा याचिका को 31 जनवरी को खारिज कर दिया था, जिसमें उसने अदालत के उस फैसले की समीक्षा करने की अपील की थी जिसमें उसके नाबालिग होने के दावे को 20 जनवरी को खारिज कर दिया गया था. 

पुनर्विचार याचिका न्यायमूर्ति आर भानुमति, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना ने चैंबर में सुनवायी करके खारिज कर दी थी. पवन के अधिवक्ता ए पी सिंह ने मंगलवार को सुधारात्मक याचिका दायर किये जाने की पुष्टि की.

(भाषा से इनपुट के साथ) 

निर्भया गैंगरेप के दोषी मुकेश को अदालत से झटका, 20 मार्च को ही होगी फांसी