JNU road named after VD Savarkar, JNUSU president Aishe Ghosh slams this move – JNU की सड़क को दिया सावरकर का नाम, छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष बोलीं


खास बातें

  1. JNU के हॉस्टल की सड़क को दिया गया नाम
  2. आइशी घोष ने ट्विटर पर शेयर की एक तस्वीर
  3. ‘ये जेएनयू की विरासत के लिए शर्म की बात’

नई दिल्ली:

पिछले साल दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) में विनायक दामोदर सावरकर (Vinayak Damodar Savarkar) की मूर्ति लगाए जाने को लेकर हंगामा हो गया था. तत्कालीन छात्रसंघ अध्यक्ष शक्ति सिंह ने बगैर अनुमति लिए नॉर्थ कैंपस स्थित आर्ट्स फैकल्टी के गेट पर वी.डी. सावरकर, सुभाष चंद्र बोस और भगत सिंह की प्रतिमाएं लगवा दी थीं. जिसके बाद कई छात्र संगठनों ने इसपर ऐतराज जताया था. कांग्रेस की छात्र इकाई NSUI ने सावरकर की मूर्ति पर काली स्याही पोत दी थी. भारी हंगामे के बाद आखिरकार मूर्तियों को वहां से हटाना पड़ा था. अब जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में एक सड़क को सावरकर का नाम दिया गया है. यह मामला तूल पकड़ता नजर आ रहा है. छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष ने (Aishe Ghosh) ने इसकी निंदा की है.

Coronavirus का बढ़ रहा खौफ, JNU में 31 मार्च तक बंद रहेंगी कक्षाएं

आइशी घोष ने अपने ट्विटर हैंडल से एक तस्वीर शेयर की है. इस तस्वीर में साफ दिख रहा है कि सुबनसीर हॉस्टल को जाने वाली सड़क को वीडी सावरकर मार्ग नाम दिया गया है. आइशी लिखती हैं, ‘ये जेएनयू की विरासत के लिए शर्म की बात है कि इस आदमी का नाम इस विश्वविद्यालय में रखा गया है. सावरकर और उनके लोगों के लिए विश्वविद्यालय के पास न कभी जगह थी और न ही कभी होगी.’

गौरतलब है कि इसी साल जनवरी में JNUSU प्रेसिडेंट आइशी घोष समेत कई छात्रों व शिक्षकों पर नकाबपोश बदमाशों ने लाठी-डंडों व धारदार हथियारों से हमला बोल दिया था. इस हमले में दर्जनों छात्र व टीचर्स जख्मी हुए थे. पीड़ितों का आरोप था कि ABVP कार्यकर्ताओं ने बाहरी लोगों के साथ मिलकर इस हमले को अंजाम दिया था. वक्त रहते पुलिस को इत्तला किया गया था लेकिन पुलिस की ओर से कोई खास पहल नहीं की गई. गौर करने वाली बात यह है कि इस मामले में आज तक एक भी गिरफ्तारी नहीं हुई है. कुछ नकाबपोशों पर शक जरूर जाहिर किया गया, लेकिन पुलिस ने इस मामले में बेहद नरम रुख बनाए रखा.

टिप्पणियां

VIDEO: कन्हैया कुमार पर चलेगा देशद्रोह का मुकदमा