Lucknow Varanasi Coronavirus Lockdown Live | Read Corona Virus Lockdown {Curfew} In Uttar Pradesh Lucknow Kanpur Agra Gorakhpur Ghaziabad (COVID-19) Cases News and Updates | देर रात तक मस्जिदों में चली छापेमारी; कई जगह मिले विदेशी जमातियों को क्वारैंटाइन किया गया


  • दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में हुए धार्मिक जलसे में शामिल हुए यूपी के 157 लोगों की सूची डीजीपी ने जारी की थी
  • पुलिस को प्रयागराज, बहराइच, मथुरा, आगरा और बिजनौर समेत राज्य की कई मस्जिदों से विदेशी नागरिक मिले

दैनिक भास्कर

Apr 01, 2020, 09:29 PM IST

लखनऊ. दिल्ली की निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शिरकत करने उत्तर प्रदेश से गए 157 लोगों की तलाश शुरू हुई तो राज्य की मस्जिदों और अन्य स्थानों पर ठहरे बड़ी संख्या में विदेशी नागरिक भी सामने आए। लखनऊ में 23, बहराइच में 17 विदेशी नागरिक पकड़े गए। सीतापुर में 10 और प्रयागराज में 9 जमातियों का पता लगने के बाद इन सभी को क्वारैंटाइन किया गया है। ये लोग इंडोनेशिया, मलेशिया, सूडान, पाकिस्तान, बांग्लादेश, कजाखस्तान और थाईलैंड के रहने वाले हैं। इसके चलते पुलिस प्रदेश के कई जिलों में रातभर छापेमारी करती रही।

इस बीच, उत्तर प्रदेश में बुधवार को गोरखपुर और मेरठ में 2 कोरोना संक्रमितों की मौत के मामले सामने आए। गोरखपुर में युवक की सोमवार को मौत हुई थी। उसकी रिपोर्ट आज पॉजिटिव आई। मेरठ के 72 वर्षीय बुजुर्ग की रविवार को संक्रमित होने की रिपोर्ट आई थी। 4 दिन बाद आज उनकी मौत हो गई। बुजुर्ग के घर अमरवती से संक्रमित दामाद आया था, इसके बाद परिवार के अन्य सदस्य भी पॉजिटिव पाए गए। राहत की बात ये है कि अब तक आगरा 8, गाजियाबाद 2, नोएडा 6 और लखनऊ से 1 समेत 17 मरीज स्वस्थ्य होकर घर भेजे जा चुके हैं।

टूरिस्ट वीजा पर आए 218 विदेशी क्वारैंटाइन
राज्य में 218 विदेशी नागरिकों को मेडिकल क्वारैंटाइन में रखा गया है। ये सभी टूरिस्ट वीजा पर भारत आए थे। लेकिन, स्थानीय थाने में सूचना नहीं दी, इसलिए जो नियम हैं उसके अनुसार अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। पुलिस ने कहा- ये अलग-अलग विदेशी नागरिक अलग-अलग समय में आए हैं। जरूरी नहीं है कि ये तब्लीगी जमात से जुड़े हों। प्रदेश में अब तक कुल 2 लाख से अधिक लोगों को क्वारैंटाइन सेंटर्स में रखा गया। लॉकडाउन का उलंघन करने पर पुलिस ने 6,594 एफआईआर दर्ज की। 20,581 लोगों को जेल भेजा गया। कालाबाजारी, जमाखोरी को रोकने के लिए 94 लोगों के विरुद्ध 58 एफआईआर दर्ज की गईं।

प्रदेश के 1614 लोगों में कोरोना जैसे लक्षण
उत्तर प्रदेश में अब तक 116 कोरोना पॉजिटिव केस मिले। इनमें नोएडा 48, मेरठ 19, आगरा 12, लखनऊ 9, गाजियाबाद 8, बरेली 6, बुलंदशहर 3 और पीलीभीत, वाराणसी में 2-2 और लखीमपुर खीरी, मुरादाबाद, कानपुर, जौनपुर, शामली, बस्ती, बागपत, कानपुर नगर में 1-1 केस सामने आए। अब तक 1,614 लोगों में कोरोना जैसे लक्षण मिले। कोरोना प्रभावित देशों से अब तक 54,156 लोग उत्तर प्रदेश लौटे हैं। 12,414 लोगों को 28 दिन के ऑब्जरवेशन पर रखा गया है।

आगरा और मथुरा की मस्जिदों से काफी संख्या में जमाती मिले

आगरा और मथुरा में मिले जमाती
मथुरा में पुलिस ने जमातियों को एंबुलेंस में बैठाकर क्वारैंटाइन के लिए भेजा।

डीजीपी कार्यालय ने प्रदेश के 157 ऐसे लोगों की सूची जारी की थी कि जिनमें मथुरा निवासी दो भाई भी शामिल थे। पुलिस ने मथुरा की मस्जिदों में से 51 ऐसे लोगों का पता लगाया जो यहां की मस्जिदों में आयोजित जमात में शामिल होने के लिए आए थे। इनमें से 30 लोग निजामुद्दीन भी होकर आए थे। ये लोग 18 मार्च से ही यहां रुके हुए थे। सभी को वृंदावन में क्वारैंटाइन सेंटर भेजकर जांच कराई जा रही है। वहीं, आगरा में 89 लोगों को क्वारैंटाइन किया गया है। यहां की 8 मस्जिदों में 89 लोग आकर रह रहे थे। इनमें से 13 दिल्ली,13 मध्य प्रदेश और बाकी राजस्थान के हैं। इन सभी पर विशेष रूप से नजर रखी जा रही है। सभी को आगरा के सिकंदरा क्षेत्र के मधु रिजॉर्ट मे बने क्वारैंटाइन सेंटर में रखा गया है। स्वास्थ विभाग की टीम ने सभी के सैंपल लिए हैं और पुलिस पूछताछ कर रही है।
मेरठ: बिना सूचना दिए मस्जिद में रुके थे जमाती

मेरठ में बिना सूचना दिए मस्जिद में रुके थे जमाती
मेरठ की मस्जिद में बिना सूचना दिए रुके थे जमाती।

बाहर से आकर जिले में रुके लोगों की सूचना मांगने के बावजूद लोग जानकारी पुलिस को नहीं दे रहे। मेरठ के थाना परतापुर में स्थित काशी गांव में यह मामला सामने आया है। यहां एक मकान में एक विदेशी समेत दूसरे राज्यों के 14 जमाती बिना पुलिस को सूचना दिए बगैर रहते मिले। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर इन लोगों से पूछताछ की और स्वास्थ्य विभाग की टीम को बुलाकर सभी की जांच कराई गई। पुलिस ने सभी जमाती और उन्हें यहां रोकने वाले के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

झांसी: बेवजह घूमने वालों के खिलाफ पुलिस सख्त

झांसी में बिना वजह घूमने वालों के खिलाफ सख्त हुई पुलिस
झांसी के जीवनशाह तिराहे पर लगा पुलिस फोर्स।

झांसी पुलिस के लिए सबसे बड़ी परेशानी का सबब यूपी-एमपी सीमा बन गई है। बॉर्डर सील होने के बावजूद यहां से हर रोज हजारों मजदूर पैदल चलकर उत्तर प्रदेश की सीमा में घुस रहे हैं। उनकी व्यवस्था में बड़ी संख्या में फोर्स लगाई गई है। इस कारण शहर के अंदर व्यवस्थाएं बिगड़ रही हैं और लोग बेवजह सड़कों पर घूमने लगते हैं।

वाराणसी: तब्लीगी जमात से जुडे़ 5 लोग दिल्ली में क्वरैंटाइन

वाराणसी में लॉकडाउन के बाद पसरा सन्नाटा
वाराणसी में लॉकडाउन के बाद भी कुछ लोग सड़क पर दिखे।

वाराणसी के 5 लोग दिल्ली में हुए धार्मिक जलसे में शामिल हुए थे। मौलानाओं और जमात में शामिल लोगों की लिस्ट में इन 5 लोगों का नाम भी शामिल है। देर रात तक जिला प्रशासन इनको ट्रैक करने में लगा था।राहत की बात तब रही जब ये पता चला कि पांचों लोग दिल्ली में ही क्वारैंटाइन किए गए हैं। वहीं, लोगों को सबसे दिक्कत सब्जी मंडियों के बंद होने से रही। 1अप्रैल को व्यापारियों द्वारा मंडी बंद रखी जाती है। चंदुआ सट्टी और पंचकोशी सब्जी मंडी में पूरी तरह सन्नाटा पसरा रहा।

एटा: 132 कैदियों में से 109 रिहा 

एटा में जिला प्रशासन ने कैदियों को रिहा किया
एटा में जिला प्रशासन ने कैदियों को रिहा किया

लॉकडाउन की वजह से प्रदेश सरकार ने जेलों में बंद कैदियों को पैरोल पर रिहा करने का निर्देश दिया था। इसी जिला कारागार में बंद 109 कैदियों को मंगलवार देर शाम को छोड़ दिया गया। जेल अधीक्षक पीपी सिंह ने बताया कि 109 कैदियों को रिहा किया गया है। बाद में 20-25 कैदियों को और रिहा किया जाएगा।

बहराइच: 17 विदेशियों समेत 20 लोग क्वारैंनटाइन

बहराइच में मस्जिद से पकड़े गए जमाती
बहराइच में मस्जिद से पकड़े गए जमाती।

बहराइच की मस्जिद में मिले जमाती थाईलैंड और इंडोनेशिया से होते हुए 17 मौलाना एक महीने पहले ही बहराइच पहुंचे थे। इनके साथ मुंबई और मध्य प्रदेश के दो युवक भी थे। तब्लीगी जमात के ये मौलाना घूम-घूमकर समाज के लोगों को तालीम दे रहे थे। ये सभी दिल्ली से बहराइच पहुंचे थे। निजामुद्दीन औलिया की दरगाह के पास मरकज का मामला सामने आने के बाद प्रशासन हरकत में आया। इसके बाद थाईलैंड के 7 नागरिकों समेत 10 लोगों को मेडिकल कालेज में क्वारैंटाइन किया गया। जबकि, इंडोनेशिया के नागरिकों को एक मस्जिद में आइसोलेट किया।

लखनऊ: बिजली बिल जमा करने की तारीख बढ़ी
कोरोनावायरस के संक्रमण के चलते लगे लॉकडाउन के कारण उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (यूपीपीसीएल) ने एक मार्च से 14 अप्रैल के बीच बने या बनने वाले बिजली बिलों के भुगतान की तारीख बढ़ाकर 30 अप्रैल कर दी है। इस आदेश से उपभोक्ताओं को देय तारीख तक बिजली बिल में मिलने वाली 1% छूट का लाभ मिलेगा, 30 अप्रैल तक लगने वाले विलंब भुगतान सरचार्ज से भी छूट मिलेगी।