Madhya Pradesh News In Hindi : Congress MLAs and ministers in Madhya Pradesh claim to have absolute majority with Kamal Nath government | फ्लोर टेस्ट पर स्पीकर प्रजापति ने कहा- यह सवाल ही काल्पनिक है, इस बारे में आपको कल पता चल जाएगा

Madhya Pradesh News In Hindi : Congress MLAs and ministers in Madhya Pradesh claim to have absolute majority with Kamal Nath government | फ्लोर टेस्ट पर स्पीकर प्रजापति ने कहा- यह सवाल ही काल्पनिक है, इस बारे में आपको कल पता चल जाएगा


  • मध्य प्रदेश में सोमवार को फ्लोर टेस्ट के लिए राज्यपाल के निर्देश, कांग्रेस के विधायक जयपुर से भोपाल पहुंचे
  • भाजपा विधायक 5 दिन से गुड़गांव के रिजॉर्ट में ठहरे, सिंधिया समर्थक कांग्रेस विधायक बेंगलुरु में हैं
  • विधानसभा का बजट सत्र कल से; पहले अभिभाषण और फिर फ्लोर टेस्ट संभव, भाजपा और कांग्रेस ने व्हिप जारी की

दैनिक भास्कर

Mar 15, 2020, 06:27 PM IST

भोपाल. कांग्रेस के 85 विधायक जयपुर से भोपाल पहुंच गए हैं। इस बीच फ्लोर टेस्ट पर असमंजस है। राज्यपाल लालजी टंडन के आदेश पर फ्लोर टेस्ट हो सकता है। लेकिन, स्पीकर एनपी प्रजापति से जब सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि यह सवाल ही काल्पनिक है। उन्होंने मीडिया से कहा कि आपको कल ही इस बारे में पता चलेगा। फैसला लेने से पहले मैं आप लोगों को कुछ नहीं बता पाऊंगा। भोपाल आए विधायकों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है। मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तरुण भनोट से भास्कर ने इस पर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि परीक्षण जरूरी है। फ्लोर टेस्ट के सवाल पर बोले कि भाजपा यह मांग कर रही है और बेंगलुरु में विधायकों को बंधक बनाकर रखा है। उन्होंने कहा कि सदन में विधायकों को आना है। यह कोई डांस फ्लोर थोड़े है, जहां भाजपा नेताओं को डांस करना हो।

शनिवार को स्पीकर प्रजापति ने सिंधिया समर्थक 6 विधायकों के इस्तीफे मंजूर कर लिए थे। 16 पर फैसला बाकी है। अगर इनके इस्तीफे भी मंजूर होते हैं तो कांग्रेस के पास कुल 99 विधायक रह जाएंगे। विधानसभा में कुल विधायकों की संख्या 206 हो जाएगी। बहुमत के लिए 104 का आंकड़ा जरूरी होगा।

विधायक सीधे संपर्क नहीं कर रहे- प्रजापति

प्रजापति ने कहा- मैं लोकतंत्र का संरक्षक हूं। ये आप तय कीजिए कि क्या चल रहा है। जो लोग लोकतंत्र के संरक्षक हैं, उन्हें भी चिंता करनी चाहिए। मैं विधायकों को लेकर चिंतित हूं। विभिन्न माध्यमों से उनके बारे में जानकारी मिल रही है, लेकिन वे मुझसे सीधे संपर्क नहीं कर रहे।

सरकार फ्लोर टेस्ट टालना नहीं चाहती: हरीश रावत 
जयपुर में विधायकों के साथ रुके उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी भोपाल आए। उन्होंने कहा- सरकार फ्लोर टेस्ट टालना बिल्कुल नहीं चाहती है। लेकिन, नियम और कानून अपनी जगह है। हम विधानसभा की नियमावली को फॉलो करेंगे। भाजपा लोकतंत्र की हत्या कर रही है। कांग्रेस सरकार बहुमत में है। हमें भरोसा है कि इसमें जीत हमारी होगी। हम बेचैन नहीं हैं, भाजपा बेचैन है। 

गृह मंत्री बाला बच्चन
बागी विधायक हमारे संपर्क में हैं। हम बहुमत में हैं।

पीसी शर्मा
फ्लोर टेस्ट कराना सरकार की मर्जी पर निर्भर है। पहले भी सरकार ने फ्लोर टेस्ट पास किया है। कांग्रेस विधायकों पर तंत्र-मंत्र भी किया गया है। विधायकों के चेहरे देखकर यह साफ हो जाता है। जो भी विधायक जयपुर, बेंगलुरु और हरियाणा से वापस आएंगे, उनका स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाना चाहिए।

ओमकार सिंह मरकाम
सदन में सोमवार को फ्लोर टेस्ट होगा। इस पूरे घटनाक्रम में भाजपा का चरित्र उजागर हो गया है। वह अनुसूचित जाति और दलितों की कितनी बड़ी विरोधी है, यह बात साबित हो गई है।

मंत्री लाखन सिंह यादव
कोरोना के कारण के हम चाहते हैं कि बजट सत्र को आगे बढ़ाया जाए। अभी इस पर फैसला नहीं हुआ है। कल इस पर अंतिम निर्णय होगा।

मंत्री उमंग सिंघार
कोरोना को लेकर बजट सत्र टाले जाने के सवाल पर कहा- कोरोनावायरस भाजपा में है। कांग्रेस में नहीं। हम बजट सत्र नहीं टालेंगे।

मंत्री प्रदीप जायसवाल
हम फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार हैं। हमारे साथ सारे विधायक हैं। संभव है कि बजट सत्र आगे बढ़ाया जा सकता है। मुख्यमंत्री को निर्णय लेना है। जब तक सारे विधायक नहीं आएंगे, तब तक फ्लोर टेस्ट कैसे हो जाएगा। सरकार पूरी तरह सुरक्षित है।

मंत्री सज्जन सिंह वर्मा
फ्लोर टेस्ट के लिए हम तैयार हैं। लेकिन, ये क्षेत्राधिकार स्पीकार का है, वे इस संबंध में निर्णय लेंगे।

मंत्री लाखन घनघोरिया
कैबिनेट बैठक में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने हमसे साफ तौर पर कहा है कि घबराने वाली कोई बात नहीं है। सारी स्थितियां हमारे नियंत्रण में हैं। बैठक में कोरोना पर भी चर्चा हुई। कोरोना का खतरा बड़ा जरूर है, लेकिन इसके लिए जरूरी चीजों को सरकार टालेगी नहीं।

मंत्री बृजेंद्र सिंह राठौर
ऑल इज वेल। फ्लोर टेस्ट में हमारा कॉन्फिडेंस देख सकते हैं। सरकार के पास पूरा बहुमत है। हम पूरी तरह सुरक्षित हैं।

विधायक कुणाल चौधरी
अगर फ्लोर टेस्ट आज कराया जाता है तो 130 विधायकों का समर्थन मिलेगा। भाजपा अपने विधायकों को सामने क्यों नहीं लाती है। संख्या बल है तो भाजपा सदस्यों को सदन के अंदर लेकर आए। हम 99 हैं और सरकार 100 फीसदी बचेगी।

कांतिलाल भूरिया
हमारे साथ 112 विधायक हैं। भाजपा ने बेंगलुरु में विधायकों को बंधक बनाकर लोकतंत्र की हत्या की है। उन्हें किसी से भी मिलने नहीं दिया जा रहा। यहां तक कि खुद के परिवार से भी वे बात नहीं कर पा रहे हैं।

शोभा ओझा
बेंगलुरु में विधायकों को बंधक बनाकर रखा गया है। भाजपा बार-बार एक ही बात कह रही है कि विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है, यह बात उन्होंने टीवी पर कही है। बंधकों की पीठ के पीछे बंदूक रखवाकर कुछ भी बुलवा सकते हैं। विधायकों को स्पीकर के सामने नहीं लाया जा रहा है। सरकार अल्पमत में नहीं है।

फ्लोर टेस्ट और सत्र टाले जाने पर एक्सपर्ट व्यू
संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप कहते हैं कि संविधान में स्पीकर को ऐसा कोई अधिकार नहीं है कि वे फ्लोर टेस्ट को टाल दें या इसे ना कराने का फैसला लें। उन्हें राज्यपाल द्वारा दी गई तारीख को फ्लोर टेस्ट कराना होता है। अगर किसी वजह से स्पीकर को सदन बार-बार स्थगित करना पड़ रहा है, सदन चल ही नहीं पा रहा हो तो ऐसे में कुछ नहीं कहा जा सकता। फ्लोर टेस्ट टल भी सकता है।
कोरोनावायरस के चलते बजट सत्र के रद्द होने की संभावना पर सुभाष कश्यप कहते हैं कि संविधान में किसी महामारी के चलते सदन टाले जाने का कोई प्रावधान नहीं है। कोरोनावायरस के कारण अगर मध्यप्रदेश में विधानसभा सत्र टलता भी है तो यह वैध कारण नहीं होगा।

Leave a Reply