Madhya Pradesh News In Hindi : Live Kamalnath Government Crisis Updates | जयपुर से भोपाल लाए गए कांग्रेस के 85 विधायकों का टेस्ट हुआ, एक विधायक बोले- दो साथियों में कोरोना जैसे लक्षण


  • कांग्रेस के 85 विधायकों को जयपुर से भोपाल लाया गया, सबसे पहले उनका मेडिकल चेकअप किया गया
  • तराना से विधायक महेश परमार ने कहा- विधायक होकर मजाक नहीं करूंगा, कुछ साथियों का स्वास्थ्य खराब

दैनिक भास्कर

Mar 15, 2020, 08:49 PM IST

भोपाल. 5 दिन से जयपुर में ठहरे 85 विधायकों को रविवार को भोपाल लाया गया। यहां उन्हें होटल मैरियट में ले जाया गया, जहां उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि किसी भी विधायक में कोरोना के लक्षण नहीं पाए गए हैं। हालांकि, तराना से कांग्रेस विधायक महेश परमार ने दावा किया कि एक-दो साथियों में कोरोना के लक्षण दिखाई दिए हैं।

परमार ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘हमारे कुछ साथियों का स्वास्थ्य खराब है। एक-दो विधायकों में कोराेना जैसे लक्षण नजर आ रहे हैं।’ जब उनसे पूछा गया कि वे मजाक तो नहीं कर रहे तो परमार ने कहा, ‘कैसी बात कर रहे हैं? विधायक होकर मजाक करेंगे? भगवान दुश्मन के साथ भी ऐसा न करे।’ 

स्वास्थ्य मंत्री भनोट ने भास्कर से कहा- विधायकों के संक्रमण की जांच जरूरी
वित्त एवं स्वास्थ्य मंत्री तरुण भनोट ने भास्कर से कहा- हमें सभी विधायकों के स्वास्थ्य की चिंता है। पता चला है कि बेंगलुरु के जिस रिजॉर्ट में विधायक में बंधक बनाकर रखे गए हैं, वहां कोरोना के मरीज पाए गए हैं। हरियाणा के मानेसर में जहां भाजपा विधायकों को रखा गया है, वहां भी आईटीबीपी के कैंप में कोरोना संदिग्धों को रखा जा रहा है। परीक्षण जरूरी है। भाजपा फ्लोर टेस्ट की मांग कर रही है, लेकिन विधायकों को बेंगलुरु में बंधक बनाकर रखा है। सदन कोई डांस फ्लोर नहीं है, जहां भाजपा कार्यकर्ताओं को डांस करना हो। यहां विधायकों को आना है, उनके संक्रमण की जांच जरूरी है

मंत्री बोले- अभी तो कोरोना चल रहा है
कमलनाथ सरकार में मंत्री प्रदीप जायसवाल ने कहा,“ हमारे पास बहुमत है। कल फ्लोर टेस्ट हो ये जरूरी नहीं। अभी तो कोरोना चल रहा है।” वहीं, एक अन्य मंत्री उमंग सिंघार ने कहा- बजट सत्र नहीं टाला जाएगा। 

स्पीकर बोले- विधायकों का स्वास्थ्य सबसे जरूरी

विधानसभा स्पीकर एनपी प्रजापति ने कहा कि किसी भी चीज से ज्यादा जरूरी लोगों का स्वास्थ्य होता है। मैं लोकतंत्र का संरक्षक हूं, मुझे सबकी चिंता है। उन्होंने कहा कि जब चिंता का विषय है तभी तो लोग सवाल कर रहे हैं। किसी भी चीज से ज्यादा जरूरी है स्वास्थ्य होता है। सभी को इसकी चिंता है। कल विधानसभा में भी इसके इंतजाम दिखेंगे। हेल्थ से ज्यादा जरूरत कोई दूसरी चीज नहीं है।

कोरोना का हवाला देकर सत्र टालना चाहती है कांग्रेस: नेता प्रतिपक्ष
राज्यपाल से मिलकर लौटे नेता प्रतिपक्ष भार्गव ने कहा कि कमलनाथ सरकार अल्पमत में है। अब कुछ मंत्री कोरोना का हवाला देकर इसे टालने की बात कह रहे हैं। जब संसद चल सकती है तो विधानसभा की कार्यवाही क्यों नहीं हो सकती। कांग्रेस विधायकों की संख्‍या काफी अंतर है इसलिए सरकार तो गिरेगी। बजट सत्र को चलने दें, कोरोना का बहाना नहीं चलेगा। सरकार कुछ दिन और अपने को बचाना चाहती है। 

बेंगलुरु में रुके विधायकों के बारे में भार्गव ने कहा कि दो दिन पहले एयरपोर्ट पर जैसा माहौल था, उससे विधायकों को डर है। सिंधियाजी के दिल्ली लौटने के समय जो घटनाक्रम हुआ, उसको देखकर विधायकों में डर और ज्यादा बढ़ गया है। कांग्रेस के मंत्री और विधायकों के विक्ट्री साइन दिखाने पर कहा कि जो लोग जरूरत से ज्यादा ऐसा करते हैं, कॉन्फिडेंस दिखाने का काम करते हैं तो समझ लो, वो गया। 

नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव और भाजपा नेता नरोत्तम मिश्रा ने राज्यपाल से मुलाकात की।

विधायकों को सुरक्षा मुहैया कराई जाए: नरोत्तम

भाजपा विधायक दल के सचेतक नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि बेंगलुरु गए विधायकों को वापस लौटने के लिए सुरक्षा मुहैया कराया जाना सरकार की जिम्मेदारी है। बेंगलुरु से लौटने पर विधायकों को सीआरपीएफ की सुरक्षा मिलनी चाहिए।

विधायकों को बंधक बनाने के आरोप पर उन्होंने कहा कि हम तो विपक्ष में हैं, आप (कमलनाथ) सरकार में हैं, उन्होंने विधायकों को क्यों बाहर भेजा, बंधक बना कर रखा है किस बात का डर है। फ्लोर टेस्ट पर कहा कि सरकार को फ्लोर टेस्ट तो कराना ही होगा। स्पीकर नहीं कराएंगे तो कोर्ट कराएगा।