Masks at 6 times higher price, many people are preparing houses for earning | कोरोना फैलने के बाद मास्क 6 गुना कीमत में मिल रहे, कमाई के लिए इसे कई लोग घरों में ही बना रहे


  • 5 रुपए का मास्क 30 रुपए में और 100 रुपए का सैनिटाइजर 400 रुपए में बेचा जा रहा
  • मनमानी वसूली की निगरानी करने वाला कोई नहीं, लोगों को नहीं पता कि शिकायत कहां करें

दैनिक भास्कर

Mar 15, 2020, 08:02 PM IST

भास्कर रिसर्च. कोरोनावायरस से लोग दहशत में हैं। इसका फायदा उठाकर हैंड सैनिटाइजर और मास्क मनमाने दामों पर बेचे जा रहे हैं। जो मास्क 5 रुपए में मिलता था, वह कहीं 25 तो कहीं 30 रुपए का मिल रहा है। 100 रुपए वाला 350 से 400 रुपए में बिक रहा है। चौंकाने वाली बात ये है कि हर दुकानदार ने सैनिटाइजर और मास्क के दाम अपने हिसाब से तय कर लिए हैं। न ही कोई मॉनिटरिंग करने वाला है, न ही लोगों को यह पता है कि इस लूटमारी की शिकायत कहां और कैसे करना है। पढ़िए, देश के 7 राज्यों से दैनिक भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट।

अक्षय बाजपेयी, भोपाल से

120 वाला मास्क 350 में, 500 एमएल का हैंड सैनिटाइजर 450 रुपए में

सिंगल यूज मास्क 30 रुपए में बेचा जा रहा है। 

रंगपंचमी पर मार्केट तो बंद है, लेकिन मेडिकल स्टोर्स खुले हैं। ग्राहकों की भीड़ भी है। कई लोग सैनिटाइजर, मास्क खरीदने आ रहे हैं। हम सबसे पहले एमपी नगर जोन-1 में चेतक ब्रिज के नीचे मेडिकल स्टोर पर पहुंचे। हैंड सैनिटाइजर मिल जाएगा क्या? ये पूछने पर दुकानदार ने कहा, हां मिल जाएगा। 100 से लेकर 180 रुपए तक हैं। किस कंपनी का है? बोले, लाइफबॉय, डेटॉल, हिमालया जैसे किसी ब्रांड का नहीं है। दूसरे लोकल ब्रांड हैं, लेकिन वह भी खूब बिक रहे हैं।

क्या कोई डिस्काउंट मिलेगा? बोले, 140 वाला 100 रुपए में दे देंगे, बाकी दो पर डिस्काउंट नहीं है। 140 वाले पर ही डिस्काउंट क्यों दे रहे? इसमें एल्कोहल कंटेंट कम है, इसलिए कम में दे देंगे। बाकी में एल्कोहल ज्यादा है, इसलिए तय रेट में ही मिलेंगे। मास्क कितने का है? तो बोले, मास्क 30 से लेकर 350 रुपए तक का है। 30 वाला मास्क दिखाते हुए बोले ये सिंगल यूज मास्क है।

ये तो आप काफी महंगा दे रहे हो? जवाब में संचालक ने कहा, डिमांड ज्यादा है। पहले तो 5 से 10 रुपए में बेचे हैं ये मास्क, लेकिन अब हमें भी महंगा पड़ रहा है। फिर हम 10 नंबर स्थित मेडिकल स्टोर पर पहुंचे। यहां मास्क के रेट और अलग मिले। जो वहां 30 का था, वह यहां 20 रुपए में दे रहे थे। क्या आपके पास एन-95 मास्क मिल जाएगा? संचालक ने कहा, हां मिल जाएगा। कितने का है? तो बोले 250 का है।

भैया पहले से रेट बहुत ज्यादा बढ़ गया क्या? संचालक ने कहा कि, पहले 120 का था। डिमांड बढ़ने से कंपनी ने रेट बढ़ा दिया। हैंड सैनिटाइजर देखने पर पूछा कि इस पर एमआरपी तो लिखी नहीं? संचालक ने कहा, यह पैकेट में आते हैं। पैकेट पर एमआरपी होती है। हर एक मास्क पर एमआरपी नहीं लिखी जाती। सिर्फ पैकेट पर ही लिखी जाती है।

यहीं नजदीक में दूसरी मेडिकल पर गए तो संचालक से पूछा कि भैया एन-95 मास्क असली या नकली, ये कैसे पता चलेगा? संचालक ने कहा, एन-95 लिखे नकली मास्क बहुत बेचे जा रहे हैं। असली-नकली की तो ऐसे पहचान कर पाना मुश्किल ही है। यहीं पास में स्थित हिमालया कंपनी के आउटलेट संचालक मोहम्मद शाकिब खान ने बताया, पिछले हफ्ते से ही कंपनी ने हैंड सैनिटाइजर नहीं भेजे। पिछले हफ्ते एक ही दिन में हमारे आउटलेट से 27 हजार रुपए के हैंड सैनिटाइजर बिके थे। ऐसी बिक्री मैंने पहले कभी नहीं देखी।

अरेरा कॉलोनी में मेडिकल शॉप पर आए खरीदार राजेंद्र भार्गव ने बताया कि 500 एमएल का सैनिटाइजर 450 रुपए में मिला। यह किसी नाम ब्रांड का भी नहीं है, लेकिन कुछ नहीं से कुछ सही। हिमालया का 500 एमएल का हैंड सैनिटाइजर 300 रुपए में मिलता है, लेकिन अभी उपलब्ध ही नहीं।

विष्णु शर्मा, जयपुर से

घर में मशीनें लगाकर तैयार कर रहे मास्क
50 से 90 रुपए वाला एन-95 मास्क मार्केट से गायब हो चुका है। जो हैं, वे प्राइवेट कंपनियों के एन-95 कैटेगरी के मास्क हैं। वहीं ब्रांडेड सैनिटाइजर भी मार्केट में उपलब्ध नहीं है। एसएमएस अस्पताल के सामने दवा विक्रेता अमित ने बताया कि नॉर्मल सर्जिकल मास्क दो तरह का आता है, टू प्लाई और थ्री प्लाई। कोरोना से पहले थ्री प्लाई को कोई नहीं जानता था। टू प्लाई ही चलता था। अभी थ्री प्लाई की डिमांड ज्यादा है। डिमांड इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि लोगों ने घर में मशीने लगाकर मास्क सिलना शुरू कर दिया है। जो लोकल वेंडर के जरिए मार्केट में बेच रहे हैं।

अमित ने कहा कि हम उन मास्क को नहीं खरीद रहे हैं। क्योंकि वे क्वॉलिटी के नहीं हैं। 15 रुपए एमआरपी है, जो 5 रुपए तक बिकता था। अब एमआरपी पर ही बिक रहा है। वहीं सैनिटाइजर भी लोकल वेंडर के जरिए काफी आ रहे हैं। पहले एक एन-95 मास्क आता था। अब अलग-अलग कंपनियों के एन-95 जैसे कई मास्क आ गए हैं। अगर किसी स्टॉकिस्ट के पास एन-95 कम है तो वह दुकानदार को रेट बढ़ा कर दे रहा है। 

रोज बिक रहे 100 से 150 मास्क
एसएमएस अस्पताल के सामने मेडिकल शॉप मालिक दीपक ने बताया कि कोरोना आने के बाद मास्क की मार्केट में काफी किल्लत हो गई है। 2 रुपए वाला मास्क 10 का हो गया। वहीं, 15 वाला 50 में आ रहा है। रोज करीब 100 से 150 मास्क बिक रहे हैं। जिसमें एन-95 की डिमांड सबसे ज्यादा है। जो उपलब्ध नहीं है। प्राइवेट कंपनी का मास्क 150 रुपए का है, जो पहले 50 रुपए में बिकता था। वहीं, एन-95 तो 300 रुपए में भी नहीं मिल रहा। वहीं, सामान्य मास्क 15 रुपए में बेच रहे हैं। जो 10 से 11 रुपए में हमें पड़ते हैं। कोरोना से पहले यही मास्क 5 रुपए का था, जिसे 8 रुपए में बेचते थे।

एक दूसरे दवा विक्रेता ने बताया कि सैनिटाइजर की काफी शॉर्टेज है। अगर कंपनी से 1000 बोतल मांगते हैं, तो 10 भी नहीं मिल रही। सभी ब्रांडेट सैनिटाइजर की शॉर्टेज चल रही है। वहीं, एन-95 मास्क बिल्कुल नहीं आ रहा। ये 90 रुपए तक बिकता था। अब 300 रुपए में बेच रहे हैं। प्राइवेट कंपनियों के मास्क 150 रुपए तक बिक रहे हैं।

विवेक कुमार, पटना से

दुकानों पर न मास्क, न सैनिटाइजर

शहर में स्थिति यह है कि अधिकतर दवा दुकानों में अब सैनिटाइजर और मास्क नहीं है। जहां मिल भी रहे हैं, वहां पांच से छह गुना कीमत पर। राजीव नगर के ओम मेडिकल में रखे सभी सैनिटाइजर शुक्रवार शाम को ही बिक गए। शनिवार सुबह यहां सिर्फ मास्क बचे थे। यहां एन-95 मास्क की कीमत पहले 250 रुपए बताई गई। फिर कहा, आपके लिए 230 रुपए में लग जाएगा। जबकि, मास्क की कीमत 50-60 रुपए है। दुकानदार ने लोकल मास्क 53 रुपए में बेचा।

वेस्ट बोरिंग कैनाल रोड स्थित मेडिकाना के दो स्टोर पर मास्क और सैनिटाइजर नहीं मिले। इसी तरह ब्लू मेडिक्स में भी मास्क और सैनिटाइजर का स्टॉक नहीं था। बोरिंग रोड में स्थित सन फार्मा में सैनिटाइजर एमआरपी पर और मास्क 120 रुपए में बेचा जा रहा है। इस्ट बोरिंग कैनाल रोड स्थित पटना मेडी केयर्स में सैनिटाइजर नहीं था। मास्क उपलब्ध था। थाईलैंड में बने जिस मास्क को सन फार्मा ने 120 रुपए में बेचा, उसके लिए यहां 250 रुपए वसूल किए गए।

आशीष राय, पुणे से 

हाथ से बना कपड़े का मास्क बेच रहे
पुणे में हमने पांच मेडिकल स्टोर्स पर पड़ताल की। ज्यादातर दुकानों पर लोकल मास्क और हैंड सैनिटाइजर बिक रहे हैं। 40 रुपए वाले मास्क 100 से 200 रुपए के बीच बेचा जा रहा है। हालांकि, एक दुकान पर हमें एमआरपी से भी 9 रुपए कम दाम पर मास्क मिला। पुणे के मांजरी इलाके में स्थित रवि मेडिको पर ‘वी-स्वास’ नाम का एक ब्रांडेड मास्क 90 रुपए में मिला। इसके पैकेट पर एमआरपी 99 रुपए लिखी थी, लेकिन थोड़े से मोलभाव के बाद दुकानदार ने इसे 90 में दे दिया।

मांजरी में स्थित अनुराधा मेडिकल पर ‘सेफ हैण्ड’ नाम का लोकल सैनिटाइजर बिक रहा था। दुकानदार के मुताबिक, सभी ब्रांडेड सैनिटाइजर खत्म हो चुके हैं। इसकी क्वालिटी भी बेहद खराब थी। दुकानदार 50 एमएल की बोतल 80 रुपए में बेच रहा था। जबकि, ब्रांडेड सैनिटाइजर भी इसी कीमत के हैं। गुरुकृपा मेडिकल पर हाथ से बना कपड़े का मास्क 50 रुपए में बेचा जा रहा है। वहीं, मंगल मेडिको में हिक्स कंपनी का मास्क 250 रुपए में और बिना ब्रांड का एन-95 मास्क 100 रुपए में मिल रहा था। हड़पसर के शशांक मेडिकल पर 40 रुपए का मास्क 200 रुपए में बेचा जा रहा है।

आदित्य तिवारी, लखनऊ से/ अमित मुखर्जी, वाराणसी से

सिंगल यूज मास्क 20 रुपए मे बेच रहे
दोपहर 12 बजे हम हजरतगंज स्थित ओम फार्मा मेडिकल स्टोर पर पहुंचे। दुकानदार ने लोकल ब्रांड के दो सैनिटाइजर दिखाए। हमने पूछा क्या ब्रांडेड नहीं मिलेगा, तो दुकानदार ने कहा, यहां ही नहीं पूरे लखनऊ में नहीं मिलेगा। लोकल ब्रांड के दाम पूछे तो 500 एमएल वाला 500 का और उससे छोटा 230 रुपए का था। सिंगल यूज वाला 20 का और वॉशेबल मास्क 80 का है। केसरबाग चौराहे पर खालसा मेडिकल स्टोर पर सैनिटाइजर मांगा तो बताया कि लोकल ही मिल पाएगा। दाम पूछने पर 110 से 550 तक रेट मिला। वहीं, 240 और 350 रुपए वाला मास्क सामने रख दिया। महंगा क्यों हैं, ये पूछने पर कहा कि माल खत्म है कहां से लाएं?

आरजे मेडिकल के संचालक रवि से एन-95 मास्क के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि, 250 और 350 वाला मास्क ही उपलब्ध है। वाराणसी के मेडिकल स्टोर्स से भी एन-95 मास्क गायब हैं, सामान्य मास्क की भरमार है। ब्रांडेड सैनिटाइजर भी नहीं हैं। सुशील मेडिकल पर लोकल मास्क की कीमत 40 रुपए थी। छोटा माल शॉप पर संचालक का दावा है 900 रुपए का मास्क जो पूरी तरह से संक्रमण से लोगों को बचाएगा। यह उसी को बेच रहे हैं। 

सुमन पांडे, रायपुर से

5 रुपए वाला मास्क 50 में 
रायपुर की मेडिकल शॉप में सैनिटाइजर नहीं मिल रहे हैं। ज्यादातर मेडिकल्स पर जवाब मिला- स्टॉक नहीं है। मास्क का भी यही हाल है। कम कीमत के मास्क कुछ जगहों पर ही मिल रहे हैं। 50 से 250 तक के मास्क मिल रहे हैं। मास्क एमआरपी पर बेच रहे हैं। कम कीमत वाले प्रोडक्ट स्टॉक में नहीं है। टिकरापारा स्थित प्रिज्म मेडिकल पर सैनिटाइजर स्टॉक में नहीं हैं। संतोषी नगर के सुमन मेडिकोज में भी नहीं मिला। मास्क 150, 170 और 250 रुपए के ही हैं।

सदर बाजार स्थित अनूप मेडिकल में सैनिटाइजर नहीं मिला। धमतरी शहर के अधिकांश मेडिकल में इसके स्टॉक लगभग खत्म हो गए हैं। जिनके पास हैं, वे मनमानी कीमत पर बेच रहे है। भास्कर ने 3 मेडिकल स्टोर पर जाकर एन-95 मास्क की कीमत पूछी। दुकानदार ने शॉर्टेज के कारण 200 से 300 रुपए तक बढ़े हुए रेट में बेचने की बात कही।

आरती अग्निहोत्री, चंडीगढ़ से

300 रुपए तक मिल रहा है मास्क

2 प्लाई सिंपल मास्क जिसकी कीमत होलसेल में 60 पैसे प्रति मास्क होती थी, वह रिटेल में 20 रुपए से 30 रुपए में बिक रहा है। वहीं, 3 प्लाई मास्क जो 1 रुपए में होलसेल में मिलता है, वह 40 से 50 रुपए तक रिटेल में मिल रहा है। इसी तरह एन-95 मास्क जो होलसेल में 20 रुपए का है, वह रिटेल में 250 से 300 रुपए तक मिल रहा है। हालांकि, एन-95 मास्क की उपलब्धता न के बराबर है। कुमार ब्रदर्स सेक्टर-11 के अश्विनी कुमार कहते हैं कि कोरोना वायरस में अल्कोहल वाले सैनिटाइजर ही फायदेमंद हैं, लेकिन उनकी सप्लाय नहीं है। 

मास्क की कालाबाजारी पर अब 7 साल की सजा
कालाबाजारी रोकने के लिए भारत सरकार ने एन-95 मास्क और हैंड सैनिटाइजर को आवश्यक वस्तु श्रेणी में शामिल कर लिया है। इसका मतलब अब केंद्र और राज्य सरकार कोरोनावायरस से बचाव करने वाले इन प्रोडक्ट के उत्पादन, गुणवत्ता और डिस्ट्रिब्यूशन को नियंत्रित कर सकेंगी। ये आदेश 30 जून तक प्रभावी रहेगा। इसमें मास्क (2 प्लाई और 3 प्लाई सर्जिकल मास्क, एन-95 मास्क) और हैंड सैनिटाइजर्स को आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत रखा गया है। इस अधिनियम का उल्लंघन करने पर 7 साल तक की सजा का प्रावधान है।