Modi talks to 16 social and spiritual institutions, appeals to help the needy | मोदी ने कहा- असाधारण समय में असाधारण समाधान जरूरी, भारतीयों की एकता और सजगता देश का भविष्य सुरक्षित रखेगी


  • पीएम मोदी ने भारतीय मिशनों से दुनियाभर में कोरोना से जंग के लिए इस्तेमाल किए जा रहे नए तरीकों की जानकारी लेने को कहा
  • मोदी ने विदेशों से आर्थिक सहायता हासिल करने के लिए मोदी केयर्स फंड की जानकारी लोगों तक पहुंचाने की अपील भी की

दैनिक भास्कर

Mar 30, 2020, 10:07 PM IST

नई दिल्ली. कोरोना से दुनियाभर में बने हालात की जानकारी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को 130 भारतीय मिशन से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की। उन्होंने फंसे हुए भारतीयों की मदद करने में सभी मिशनों की भूमिका की सराहना की। मोदी ने कहा- असाधारण समय में असाधारण समाधान की जरूरत होती है। भारत ने बीमारी को फैलने से रोकने के लिए तेजी से और अभूतपूर्व कदम उठाए हैं। भारतीयों की एकता और सजगता देश के भविष्य को सुरक्षित रखने में मदद करेगी।

मोदी ने भारतीय मिशनों से कोरोना से मुकाबले के लिए दुनियाभर में उपलब्ध नवाचारों की जानकारी हासिल करने को कहा। साथ ही, कोरोना के असर से दुनिया में हो रहे आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक बदलावों पर भी नजर रखने को कहा। उन्होंने विदेशों से दान के लिए सभी मिशन से नए लॉन्च किए गए पीएम केयर्स फंड की जानकारी लोगों तक पहुंचाने को कहा।

पीएम ने सामाजिक संस्थाओं की भी तारीफ की

इससे पहले, प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करीब 16 सामाजिक और आध्यात्मिक संस्थानों के प्रमुखों और प्रतिनिधियों से कोरोना वायरस को लेकर बात की थी। पीएम ने गरीब और जरूरतमंद लोगों की मदद करने और उनके लिए जरूरी चीजें जुटाने की अपील की। इसके बाद मोदी ने ट्वीट किया- हमारे देश में सामाजिक संस्थाएं सकारात्मक बदलाव लाने में अहम भूमिका निभाती हैं। कोरोना से लड़ाई के क्रम में आज मैंने समाज कल्याण की संस्थाओं से बात की। हमारे यहां लोग सामाजिक संस्थाओं से गहरा जुड़ाव रखते हैं। ये संस्थाएं सेवा कार्य करने में अव्वल हैं। जब हम कोरोना से लड़ रहे हैं, ऐसे समय में उनकी भूमिका बेहद अहम है। संस्था प्रमुखों ने कोरोना से जंग में अपने योगदान की जानकारी दी। वे समाज में जागरुकता फैला रहे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग पर जोर दे रहे हैं। गरीबों को खाना खिला रहे हैं। उनके प्रयास सराहनीय हैं।

आरएसएस समेत 16 संस्थाओं से हुई बातचीत

मोदी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में 16 संगठनों मौजूद थे। इनमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के भैयाजी जोशी, आर्ट ऑफ लिविंग के श्री श्रीरविशंकर, पतंजलि योगपीठ के स्वामी रामदेव,  ईशा फाउंडेशन के संस्थापक सद्गुरु जग्गी वासुदेव, रामकृष्ण मिशन, पटना साहिब, ब्रह्मकुमारीज विश्वविद्यालय. स्वामीनारायण अक्षरधाम, दरगाह अजमेर शरीफ, दाऊदी बोहरा समाज, पुट्टपर्ती सत्यसाईं, कैरिटास, दी क्रिश्चिया कोलिशन, कल्याणजी-आनंदजी और वर्द्धमान सेवा केंद्र शामिल हैं।