Nirbhaya Rapists Pawan Gupta | Nirbhaya Gang Rape Case Convict Pawan Kumar Gupta Latest News Updates On Mandoli Jail Police Constables | दोषी पवन गुप्ता ने दो पुलिसकर्मियों के खिलाफ याचिका लगाई, कोर्ट ने कहा- इससे फांसी की सजा पर असर नहीं पड़ेगा


  • दिल्ली के मजिस्ट्रेट कोर्ट ने दोषी पवन गुप्ता की याचिका स्वीकार की, मंडोली जेल को 8 अप्रैल तक जवाब सौंपने को कहा
  • पवन गुप्ता ने अपनी याचिका में आरोप लगाया है कि दो पुलिसकर्मियों ने उससे मारपीट की, जिससे उसके सिर में गंभीर चोटें आईं

Dainik Bhaskar

Mar 12, 2020, 03:54 PM IST

नई दिल्ली. निर्भया गैंग रेप के दोषियों में से एक पवन गुप्ता ने फांसी की सजा से 10 दिन पहले सजा में देरी करने की एक और चाल चली। हालांकि इससे उसे कोई फायदा नहीं होगा। दरअसल दोषी पवन गुप्ता ने गुरुवार को  एक याचिका दायर कर दो मंडोली जेल के दो पुलिसकर्मियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। उसने आरोप लगाया है कि पुलिसकर्मियों ने उससे मारपीट की, जिससे उसके सिर में गंभीर चोटें आईं। याचिका पर सुनवाई करते हुए मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट प्रियांक नायक ने मंडोली जेल से जवाब मांगा है। हालांकि कोर्ट ने स्पष्ट किया कि इसका दूसरे मामलों पर कोई असर नहीं होगी। दोषी द्वारा दायर की गई इस याचिका का असर उसे सुनाई गई फांसी की सजा पर नहीं होगी। जेल प्रशासन को 8 अप्रैल तक इस मामले में की गई कार्रवाई का विवरण सौंपने को कहा गया है।

निर्भया गैंग रेप मामले के दोषी लगातार अपनी फांसी की सजा टलवाने के लिए पैंतरेबाजी कर रहे हैं। निचली अदालत से सुप्रीम कोर्ट तक ने इन दोषियों की फांसी सजा बरकरार रखी है। हालांकि इसके बावजूद वे फांसी टलवाने के लिए किसी न किसी कानूनी विकल्प का सहारा लेते रहे हैं।  इस साल जनवरी से अब तक इन दोषियों की फांसी 3 बार टल चुकी है। 

20 मार्च को सुबह साढ़े 5 बजे तय हुई है फांसी

निर्भया के दुष्कर्मी मुकेश सिंह ने 5 दिन पहले  ही सजा से बचने के लिए नया पैतरा चला था। उसने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर मुकेश ने कहा कि वकील ने उसे धोखा दिया है इसलिए उसके कानूनी विकल्पों को बहाल किया जाए। मुकेश की क्यूरेटिव पिटीशन और दया याचिका पहले ही खारिज हो चुकी है। ट्रायल कोर्ट ने 6 मार्च को चौथा डेथ वॉरंट जारी कर निर्भया के दोषियों मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय सिंह (31) की फांसी 20 मार्च को सुबह साढ़े 5 बजे तय की है।

16 दिसंबर 2012: 6 दोषियों ने निर्भया से दरिंदगी की थी
दिल्ली में पैरामेडिकल छात्रा से 16 दिसंबर, 2012 की रात 6 लोगों ने चलती बस में दरिंदगी की थी। गंभीर जख्मों के कारण 26 दिसंबर को सिंगापुर में इलाज के दौरान निर्भया की मौत हो गई थी। घटना के 9 महीने बाद यानी सितंबर 2013 में निचली अदालत ने 5 दोषियों राम सिंह, पवन, अक्षय, विनय और मुकेश को फांसी की सजा सुनाई थी। मार्च 2014 में हाईकोर्ट और मई 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने फांसी की सजा बरकरार रखी थी। ट्रायल के दौरान मुख्य दोषी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। एक अन्य दोषी नाबालिग होने की वजह से 3 साल में सुधार गृह से छूट चुका है।