On March 22, from 7 am to 9 pm, the public curfew in the country, know what it means and where it happened before | 22 मार्च को सुबह 7 से रात के 9 बजे तक देश में जनता कर्फ्यू, जानें इसका मतलब और पहले कहां हुआ ऐसा


दैनिक भास्कर

Mar 19, 2020, 08:58 PM IST

नई दिल्ली. कोरोनावायरस के बढ़ते खतरे को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार रात देश को संबोधित करते हुए कहा कि ‘ये संकट ऐसा है, जिसने विश्व भर में पूरी मानवजाति को संकट में डाल दिया है।’ उन्‍होंने कहा कि, बीते कुछ दिनों से ऐसा भी लग रहा है जैसे हम संकट से बचे हुए हैं, सब कुछ ठीक है। वैश्विक महामारी कोरोना से निश्चिंत हो जाने की ये सोच सही नहीं है। पीएम ने लोगों से अपील की कि वे ‘जनता कर्फ्यू’ लगाएं। ये क्‍या है और आम जनता इसे कैसे लागू करेगी, पीएम ने इसके बारे में भी बताया।

क्‍या होता है जनता कर्फ्यू?
पीएम मोदी के मुताबिक, इस रविवार यानि 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक कोई व्‍यक्ति बाहर न निकले। अपने आप से कर्फ्यू जैसे हालात करने हैं। पीएम ने अपील की कि संभव हो तो हर व्यक्ति प्रतिदिन कम से कम 10 लोगों को फोन करके कोरोना वायरस से बचाव के उपायों के साथ ही जनता-कर्फ्यू के बारे में भी बताए। पीएम ने अपील की कि रविवार को ठीक 5 बजे हम अपने घर के दरवाजे पर खड़े होकर 5 मिनट तक ऐसे लोगों का आभार व्यक्त करें जो कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। पीएम ने अस्‍पतालों पर दबाव का जिक्र करते हुए लोगों से कहा कि वे रूटीन चेक-अप के लिए अस्पताल जाने से जितना बच सकते हैं, उतना बचें।

क्यों लगाया जाता है जनता कर्फ्यू?
पीएम मोदी ने बताया कि , ये ‘जनता कर्फ्यू’ कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिए भारत कितना तैयार है, ये देखने और परखने का भी समय है। उन्‍होंने कहा कि ये जनता कर्फ्यू एक प्रकार से भारत के लिए एक कसौटी की तरह होगा। पीएम के मुताबिक, ’22 मार्च को हमारा ये प्रयास हमारे आत्म-संयम, देशहित में कर्तव्य पालन के संकल्प का एक प्रतीक होगा। 22 मार्च को जनता-कर्फ्यू की सफलता, इसके अनुभव, हमें आने वाली चुनौतियों के लिए भी तैयार करेंगे।’

कहां – कहां लगा जनता कर्फ्यू

2013 में दार्जीलिंग हिल्स: पश्चिम बंगाल से अलग गोरखालैंड बनाने के लिए चलाए गए आंदोलन के तहत गोरखा आंदोलनकारियों ने इलाके में जनता कर्फ्यू लगाया और पूरे इलाके में सारी गतिविधियां ठप कर दी थी।

2015 में करणी सेना ने देशभर में: संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत की रिलीज को लेकर करणी सेना ने 25 जनवरी 2015 को देशभर में जनता कर्फ्यू का आह्वान किया था। हालांकि राजस्थान, यूपी और मप्र को छोड़कर बाकी राज्यों में इसका बड़ा असर नहीं देखा गया।

पीएम मोदी ने ब्‍लैक आउट को याद किया
प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा, “आज की पीढ़ी इससे बहुत परिचित नहीं होगी लेकिन पुराने समय में जब युद्ध की स्थिति होती थी तो गांव-गांव में ब्‍लैक आउट किया जाता था। घरों के शीशों पर कागज लगाया जाता था, लाईट बंद कर दी जाती थी, लोग चौकी बनाकर पहरा देते थे।”