Punjab Coronavirus Cases Live | Punjab Coronavirus Outbreak Latest Updates/Corona COVID 19 Cases In Jalandhar Amritsar Ludhiana Pathankot Patiala Hoshiarpur Moga Faridkot Sangrur Latest Today News | राज्य सरकार उद्योगों को पटरी पर लाने की तैयारी में जुटी, 250 अमेरिकी और 50 ऑस्ट्रेलियाई नागरिक भेजे, सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ी


  • पंजाब के 22 में से 19 जिलों में कोरोना संक्रमण के अब तक 230 मामले सामने आए हैं। इनमें 16 की जान भी जा चुकी
  • सबसे ज्यादा मोहाली जिले में 57, दूसरे नंबर पर जालंधर में 41 तो मुक्तसर और फिरोजपुर में सबसे कम एक-एक व्यक्ति संक्रमित

दैनिक भास्कर

Apr 19, 2020, 11:55 AM IST

जालंधर. पंजाब के 22 में से 19 जिलों में कोरोना संक्रमण के अब तक 230 मामले सामने आए हैं। इनमें 16 की जान भी जा चुकी है। सबसे ज्यादा मोहाली जिले में 57 तो दूसरे नंबर पर जालंधर में भी 41 लोग कोरोना संक्रमित हैं। वहीं मुक्तसर और फिरोजपुर में सबसे कम एक-एक व्यक्ति कोरोना संक्रमित हैं। हालांकि राज्यभर में अब तक 28 लोग ठीक भी हो चुके हैं। संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए जारी लॉकडाउन के फेज-2 का रविवार को पांचवां दिन है। पंजाब सरकार ने भी 23 मार्च से लगाया गया कर्फ्यू 3 मई तक बढ़ाया हुआ है। पुलिस प्रशासन की तरफ से रोज अपील की जा रही है कि लोग घरों में ही रहें, कोई बेहद जरूरी काम हो तो ही बाहर निकलें। नहीं मानने पर कार्रवाई भी की जा रही है। हालांकि कहीं-कहीं थोड़ी-बहुत परेशानी लोगों को है भी, लेकिन ज्यादातर लोग सिर्फ मस्ती करने के लिए रोड पर दिखाई दे रहे हैं।

इंडस्ट्री खोलने के लिए लगाई शर्तों में रियायत, श्रमिकों से 12 घंटे काम ले सकेंगे फैक्‍ट्री मालिक
केंद्र सरकार ने 20 अप्रैल से लॉकडाउन की शर्तों में कुछ रियायतें दी हैं। पंजाब सरकार भी उद्योगों को फिर से पटरी पर लाने की तैयारी में जुट गई है। पंजाब में श्रमिकों की कमी है। इस कमी को दूर करने के लिए राज्य सरकार उद्योगों को मजदूरों से 8 की बजाय 12 घंटे काम लेने की छूट देने की तैयारी कर रही है। यह मांग पंजाब के उद्योगपतियों ने पंजाब श्रम विभाग के प्रधान सचिव वीके जंजुआ के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान उठाई थी। श्रमिकों के घर लौटने और कोरोना वायरस के भय से उद्यमियों को श्रमिकों की कमी होने का डर सता रहा है। पीएचडी चैंबर की पंजाब इकाई के चेयरमैन करण गिल्होत्रा ने कहा कि राज्य में गेहूं की कटाई शुरू हो गई है। कृषि क्षेत्र में श्रमिकों की आवश्यकता बढ़ने के कारण भी उद्योगों में कुछ हफ्ते के लिए श्रमिकों की कमी होने की संभावना है। ऐसे में 12 घंटे काम करवाने पर विचार किया गया। बड़े उद्यम जहां कर्मचारियों के रहने की व्यवस्था औद्योगिक परिसर में ही होगी, वहां 12 घंटे काम करना कर्मचारी व नियोक्ता दोनों के हित में होगा।

लुधियाना के फिरोजपुर रोड स्थित होटल पार्क प्लाजा के पास दूतावास की तरफ से भेजी गई बस में सवार होते नआरआई लोग। दिल्ली से ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका की स्पेशल फ्लाइट पकड़ने के लिए ये लोग यहां जमा हुए थे।

लुधियाना: 300 लोगों को यूएस भेजा, बसें देखते ही दौड़ पड़े एनआरआई
अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के दूतावास की तरफ से पंजाब में फंसे अपने नागरिकों को वापस ले जाने के लिए लुधियाना में नौ बसें भेजी। लुधियाना, मोहाली, पटियाला, मोगा, बठिंडा, मानसा, जालंधर समेत पंजाब के अलग-अलग जिलों से 250 अमेरिकी और 50 ऑस्ट्रेलियाई नागरिक लुधियाना में पार्क प्लाजा के पास जुटे। बसों को आते देखकर वे घर वापसी के उत्साह में कोरोना को भूल गए और शारीरिक दूरी के नियमों की जमकर धज्जियां उड़ाई। ऐसा लग ही नहीं रहा था कि प्रदेश में क‌र्फ्यू लगा है और कोरोना की महामारी फैली हुई है। यही नहीं अपने नागरिकों को बसों में बिठाने से पहले दूतावासों से आए प्रतिनिधियों ने भी फिजिकल डिस्टेंस के नियमों का पालन नहीं किया। खास बात यह रही कि स्थानीय पुलिस को इसके बारे में जानकारी ही नहीं दी गई थी कि वहां पर बसों में प्रदेश के एनआरआईज को ले जाया जाएगा। यह बात थाना प्रभारी डिवीजन नंबर पांच की प्रभारी ने खुद कही।

लॉकडाउन का पालन करते हुए जालंधर के अर्बन एस्टेट में शादीकी रस्में पूरी करते एनआरआई दूल्हे मधुरमीत सिंह के परिजन।

जालंधर: बिना बैंड-बाजा और बारात के घर की चारदीवारी में पूरी की शादी की सभी रस्में
जालंधर शहर के विजय नगर की कोठी नंबर 107 में रहने वाले भाटिया परिवार ने क‌र्फ्यू के बीच बेटे की सादगी के साथ शादी करके मिसाल कायम की है। मधुरमीत सिंह 13 मार्च को कनाडा से शहर शादी करवाने के लिए आया था, लेकिन 22 मार्च को लॉक डाउन व 23 मार्च से क‌र्फ्यू लग गया। इसके बाद एक बार फिर क‌र्फ्यू 3 मई तक होने के कारण भाटिया परिवार को यह फैसला लेना पड़ा। दूसरा कारण कनाडा सरकार अब वहां से गए नागरिकों को वापस बुला रही है। ऐसे में मधुरमीत को कभी भी वापस बुलाया जा सकता था। मधुरमीत की शादी की रस्में उनके अर्बन एस्टेट स्थित ससुराल में संपन्न हुईं। गुरुद्वारे में शादी करने की इजाजत न मिलने पर मधुरमीत के ससुर विक्रम सिंह गिल ने घर की चारदीवारी में ही तमाम रस्में पूरी करने का इंतजाम कर दिया। दूसरी ओर स्कूल नहीं खुलने के चलते शिक्षक बच्चों को यूट्यूब, रेडियो, ऐप्प के जरिये पढ़ाई करवा रहे हैं। इतने मददगार साबित हो रहे हैं कि प्रश्नों को वो खुद हल करवा रहे हैं।

अमृतसर के हलका दक्षिण की वार्ड-38 के इलाके न्यू कोट मित्त सिंह की महिलाएं राशन नहीं मिलने के चलते पार्षद के खिलाफ रोष जताते हुए। इनका कहना है कि लिस्ट दिए जाने के बावजूद इन्हें राशन नहीं मिल रहा।

अमृतसर: राशन न मिलने पर प्रशासन व पार्षद के खिलाफ प्रदर्शन
अमृतसर के हलका दक्षिण की वार्ड-38 के इलाके न्यू कोट मित्त सिंह के लोगों ने रविवार को राशन न मिलने पर कांग्रेस नेता सुखराज कौर के नेतृत्व में संबंधित पार्षद के खिलाफ प्रदर्शन किया। परमजीत कौर, हरजीत कौर, बलविदर कौर, राजिदर कौर, जसविदर कौर, बलजिदर कौर, दलजीत कौर, रानी, संदीप कौर, वीना, अमनदीप कौर, कवलजीत कौर, मनजीत कौर, मनप्रीत कौर ने कहा कि वह तथा उनक पति मेहनत मजदूरी करके घर का गुजारा करते हैं, लेकिन क‌र्फ्यू के कारण उनका काम बंद हो गया है। घर में राशन न होने के कारण पूरा परिवार भूखा है। लिस्ट बनाकर पार्षद को भी भेजी गई थी, लेकिन कई दिन बीत जाने के बावजूद न कोई सामाजिक कार्यकर्ता और न ही पार्षद ने उनकी मदद की। इलाकावासियों ने प्रशासन से मांग की कि उन्हें राशन दिया जाए। उधर, पार्षद के पति जतिदर पाल सिंह ने कहा कि उनके वार्ड के लिए प्रशासन द्वारा भेजे जा रहे राशन के अलावा वह अपने खर्चे से भी क्षेत्र में घर-घर लंगर की सेवा कर रहे हैं। जिन घरों को अब तक राशन नहीं मिला है, उन्हें जल्द ही लंगर दिया जाएगा।

गुरदासपुर जिले के गांव खन्ना चमारां में मंडियों में फसल लाए जाने की लिमिट और अन्य परेशानियों को लेकर सरकार के खिलाफ नारे लगाते इलाके के किसान।

डेरा बाबा नानक: मंडियों में 50 क्विटंल गेहूं लाने की लगाई शर्त पर प्रदर्शन
पंजाब सरकार की ओर से मंडियों में 50 क्विंटल ही गेहूं लाने पर लगाई गई शर्त पर किसान संगठनों ने रविवार को गांव खन्ना चमारां में रोष प्रदर्शन किया। धीर सिंह, जोगिदर सिंह व कुलवंत सिंह ने कहा कि पहले ही क‌र्फ्यू के चलते सरकार द्वारा जारी की गई हिदायतों के कारण किसानों को परेशानी हो रही है। अब पंजाब सरकार ने एक किसान पर एक दिन में सिर्फ 50 क्विटंल गेहूं ही मंडियों में लाने की लगाई शर्त से किसानों को और परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने सरकार से मांग की कि प्रति किसान कम से कम 100 क्विंटल गेहूं लेकर आने की अनुमति दी जाए। कटाई के उपरांत गेहूं को मजबूरन घरों में स्टोर करने के बाद मंडी लेकर आने वाले किसानों को प्रति क्विटल 200 रुपए बोनस की अदायगी की जाए और बीमारी से बचाव के लिए मंडियों में गर्म पानी, चाय व बैठने के लिए उचित प्रबंध किया जाए।