Punjab Politics News Update: United Akali Dal Merged Into Shiromani Akali Dal led by MP Sukhdev Singh Dhindsa | शिरोमणि अकाली दल यूनाइटेड का शिरोमणि अकाली दल ढींडसा में विलय

Punjab Politics News Update: United Akali Dal Merged Into Shiromani Akali Dal led by MP Sukhdev Singh Dhindsa | शिरोमणि अकाली दल यूनाइटेड का शिरोमणि अकाली दल ढींडसा में विलय


  • Hindi News
  • National
  • Punjab Politics News Update: United Akali Dal Merged Into Shiromani Akali Dal Led By MP Sukhdev Singh Dhindsa

जालंधर6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पंजाब में शनिवार को बड़ा राजनैतिक घटनाक्रम घटा। पूर्व मेंकी गई घोषणा के बाद आज शिरोमणि अकाली दल यूनाइटेड का राज्यसभा सदस्य सुखदेव सिंह ढींडसा के द्वारा हाल ही में बनाई गई नई शिरोमणि अकाली दल ढींडसा में विलय हो गया। गुरुद्वारा नौवीं पातशाही गुरु तेग बहादुर नगर में आयोजित कार्यक्रम में शिरोमणि अकाली दल यूनाइटेड के प्रधान भाई मोहकम सिंह ने पार्टी के विलय की घोषणा की। भाई मोहकम सिंह ने कहा कि उनके लिए पहले पंथ और पंजाब है उसके बाद पार्टी और राजनीति है। कहा कि बादल परिवार ने पंजाब का नुकसान किया है और अब सिख पंथ को बचाने की लड़ाई लड़नी है। सुखदेव सिंह ढींडसा ने कहा कि बादल परिवार का साथ छोड़ने में देर जरूर हुई है, लेकिन वह बिना दाग के बाहर आए हैं और अब पंजाब के हितों की लड़ाई जोरदार ढंग से लड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले लगातार बड़े हैं और इसमें बादल परिवार की डेरा सिरसा के साथ मिलीभगत भी सामने आई है। उन्होंने कहा कि इसके लिए संगत माफ नहीं करेगी और बादल परिवार का जो हाल हो रहा है वह किसी से छुपा नहीं है। सुखदेव सिंह ढींडसा ने कहा कि वह केंद्र सरकार के किसान विरोधी ऑर्डिनेंस का विरोध करते हैं। केंद्र सरकार को यह ऑर्डिनेंस वापस लेना चाहिए इसके लिए प्रधानमंत्री के नाम पत्र भी लिखा है। सुखदेव सिंह ढींडसा ने कहा कि उनका लक्ष्य पंजाब का हित है और न तो वह किसी पद की इच्छा रखते हैं न ही चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि वह पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि अगर उनके नेतृत्व वाले शिरोमणि अकाली दल की सरकार बनती है तो वह मुख्यमंत्री नहीं बनेंगे। ढींडसा ने कहा कि उनकी पार्टी का राजनीतिक और धार्मिक विंग अलग-अलग होगा, जो धार्मिक क्षेत्र में जाना चाहते हैं और एसजीपीसी के माध्यम से सेवा करना चाहते हैं उन्हें यह शपथ पत्र लेनी होगी कि वह राजनीति नहीं करेंगे और न ही पार्टी में कोई पद लेंगे।

0

Leave a Reply