Rajasthan Crisis: Team Sachin Pilot Releases Video Of Rajasthan MLAs Supporting Him – सचिन पायलट खेमे ने जारी किया उन्हें समर्थन देने वाले विधायकों का VIDEO


जयपुर:

Rajasthan Political Crisis: राजस्थान में आज दिन भर सियासी माहौल काफ़ी गर्म रहा. सचिन पायलट (Sachin Pilot) और अशोक गहलोत (Ashok Gehlot ) खेमा इस बात का दावा करता दिखा कि उनके साथ कितने विधायक हैं. इस बीच पायलट खेमे ने देर रात एक वीडियो जारी किया, जिसमें 15-16 कांग्रेस विधायक साथ बैठे दिख रहे हैं. हालांकि ये नहीं बताया गया है कि तस्वीरें कहां की हैं या ये विधायक कहां रुके हैं. वीडियो में सचिन पायलट भी नजर नहीं आ रहे हैं. बता दें कि बगावत पर उतरे डिप्टी सीएम ने रविवार को दावा किया था कि उनके पास 30 विधायकों का समर्थन है और अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में है.

यह भी पढ़ें

हालांकि अशोक गहलोत ने दावा किया कि सचिन पायलट से उनकी सरकार को कोई ख़तरा नहीं है. गहलोत के आवास पर एक बैठक में कांग्रेस ने दावा किया कि जिन 122 विधायकों के समर्थन से सरकार चलती रही, उनमें से 106 विधायक मौजूद थे, यानी बहुमत से 6 ज़्यादा. हालांकि बैठक से पायलट ने खुद को दूर रखा, लेकिन पार्टी में अब भी असमंजस जैसे हालात हैं और इसे लेकर ही विधायकों को रिसॉर्ट भेजा गया है. उधर, राजस्थान में सत्तारूढ़ कांग्रेस में उठे सियासी बवंडर के बीच पार्टी ने मंगलवार को फिर से विधायक दल की बैठक बुलाई है.  

उधर, सुरजेवाला का कहना है कि परिवार के झगड़े परिवार में ही सुलझा लेने चाहिए. पर गहलोत की मुश्किलें अभी खत्म नहीं हुई हैं. उनका दावा 109 विधायकों के समर्थन का था, लेकिन उनके घर हुई विधायक दल की बैठक में सौ विधायक ही जुटे. कुछ निर्दलीय और अन्य छोटी पार्टियों के विधायकों के समर्थन का भी दावा है. पायलट की ही तरह गहलोत भी अपने विधायकों की खेमेबंदी कर रहे हैं. उन्हें जयपुर के बाहर एक रिजॉर्ट में ले जाया गया है.

वहीं, इस बीच भारतीय ट्राइबल पार्टी (Bharatiya Tribal Party) ने कांग्रेस (Congress) की अशोक गहलोत सरकार से समर्थन वापस ले लिया है. भारतीय ट्राइबल पार्टी के अध्यक्ष महेश भाई वसावा ने अपनी पार्टी के दोनों विधायकों को पत्र लिखकर निर्देश दिया और कहा कि विधानसभा में फ़्लोर टेस्ट के समय वे न तो कांग्रेस को, ना अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को, ना सचिन पायलट (Sachin pilot) को और ना ही बीजेपी (BJP) को वोट करें.

VIDEO: किस करवट बैठेगा राजस्थान का ऊंट?