Rajasthan Jaipur Kota Cases Live | Rajasthan Coronavirus Outbreak Latest Updates/Corona COVID 19 Cases In Jaipur Jodhpur Bhilwara Jaisalmer Bikaner Banswara Ajmer Sikar Latest Today News | 44 नए पॉजिटिव केस सामने आए, कुल 22 लोगों की मौत; गहलोत बोले- जरूरतमंदाें को फ्री में गेहूं दे केंद्र


  • राज्य में संक्रमितों का आंकड़ा 1395 पहुंचा; अब तक 22 की मौत
  • भीलवाड़ा में अब तक 28 केस आए, इनमें 26 ठीक हुए; दो की मौत

दैनिक भास्कर

Apr 19, 2020, 10:33 AM IST

जयपुर. राजस्थान में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। रविवार को भी 44 नए पॉजिटिव केस सामने आए। जिसमें सबसे ज्यादा जोधपुर में 27 पॉजिटिव मिले। वहीं भरतपुर में 8, झालावाड़, जयपुर और कोटा में 2-2 संक्रमित मिले। इसके अलावा जैसलमेर, हनुमानगढ़ और नागौर में एक-एक पॉजिटिव मिला। जिसके बाद राज्य में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 1395 पहुंच गया।

देश के गोदाम भरे, जरूरतमंदाें को फ्री में गेहूं दे केंद्र: गहलोत

सीएम अशाेक गहलाेत ने कहा कि एफसीआई के गोदाम गेहूं से भरे हुए हैं। केंद्र सरकार को ऐसे सभी लोगों को गेहूं उपलब्ध कराए जाने चाहिए जिसकाे जरुरत हाे। भले ही संबंधित व्यक्ति के पास राशन कार्ड हाे या न हाे , जो लोग राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कवर नहीं भी हैं उन्हें भी गेहूं उपलब्ध कराया जाए ताकि किसी को भी भूखा नहीं सोना पड़े। वह शनिवार काे वीसी के जरिए मीडिया से बातचीत कर रहे थे।

कोरोना वाॅरियर्स से दुर्व्यवहार करने पर 191 गिरफ्तार हुए
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोरोना वाॅरियर्स के साथ दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं हाेगा। टोंक में हुई घटना पर कड़ी कार्यवाही करते हुए 8 लोगों को तुरंत गिरफ्तार कराया गया है। पूरे प्रदेश में ऐसे प्रकरणों में 191 लोग गिरफ्तार किए गए हैं। ऐसी घटनाओं की जितनी निंदा की जाए कम है।

प्रदेश के कुल 1351 रोगियों में 40 साल तक की उम्र के 826 लोग, 70 वर्ष से अधिक के 33 पुरुष व महज 7 महिलाएं ही रोगी
प्रदेश में कोरोना से संक्रमितों का ट्रेंड दुनिया के अन्य देशों के विपरीत चल रहा है। प्रदेश में अब तक मिले 1351 पॉजीटिव केस में 62 फीसदी लोग 40 वर्ष तक की आयु के हैं। दुनिया के दूसरे देशों में 60 वर्ष से अधिक आयु के कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं। चौंकाने वाला तथ्य यह सामने आया कि राजस्थान में 60 वर्ष से अधिक आयु के रोगियों का प्रतिशत कुल का 10.88 फीसदी ही है। इससे स्पष्ट हो रहा है कि राजस्थान में बुजुर्ग बहुत कम संक्रमित हुए और युवा वर्ग को कोरोना ने ज्यादा चपेट में लिया। 70 वर्ष से अधिक आयु की महिलाएं तो 1351 रोगियों में से केवल 7 ही पॉजीटिव पाई गई हैं जो कुल का केवल 2.73 फीसदी हैं। करीब 23 फीसदी मरीज अधेड़ उम्र के हैं जो 40 से 59 वर्ष तक की आयु के हैं। राहत की खबर यह है कि प्रदेश में 15 अप्रैल को लाॅक डाउन-2 शुरू होने के बाद से संक्रमितों की वृद्धि दर गिरी है। एसीएस हैल्थ रोहित कुमार सिंह का कहना है कि पूर्व की गति से यदि संक्रमितों में बढ़ोतरी होती तो अब तक 1679 कोरोना केस होते प्रदेश में, लेकिन 18 अप्रैल तक 1351 हैं जो अनुमानित से 328 कम हैं।

कोविड पेशेंट की अंत्येष्टि का विरोध, दो बार श्मशान सेनिटाइज किया, तब माने लोग
महामारी के डर में संवेदनाएं भी हार गई। इसका एक नमूना शनिवार दोपहर को आदर्श नगर श्मशान में देखने को मिला। यहां कोविड-19 से मौत डेडबॉडी लाई गई थी। पीपीई किट, एंबुलेंस और प्रशासन की टीम को देख लोगों ने अंदेशा लगा लिया कि कोरोना के पेशेंट रहे होंगे। इसके बाद लोगों ने डेडबॉडी जलाने पर आपत्ति जताई और विरोध जताने लगे। उनको अंदेशा था कि डेडबॉडी को जलाने से कहीं यहां कोई खतरा नहीं हो जाए। मामला बढ़ा पुलिस कंट्रोल रूम फोन किया गया। इसके बाद आदर्श नगर थाना इंचार्ज और जाप्ता पहुंचा।

लोगों को बताया गया डेडबॉडी का पूरे एहतियात के साथ संस्कार किया जा रहा है। इसके बाद भी कुछ लोगों ने डेडबॉडी को कहीं और ले जाने को कहा। आखिरकार इंचार्ज और मेडिकल टीम ने पूरी समझाइश की। आसपास के माहौल सेनिटाइज किया गया। इसके बाद संस्कार किया गया। ढाई बजे एक और कोविड पेशेंट की डेडबॉडी आई। पुलिस ने सेनिटेशन मशीन मांगी पर वो नहीं पहुंची। न ही प्रशासन का कोई अधिकारी पहुंचा।

तस्वीर धौलपुर की है। जहां की बजरिया रोड पर खरीदारी करने के लिए लोगों भी भीड़ लग गई।

जयपुर: शनिवार को आई रिपोर्ट में एसएमएस की एक महिला डॉक्टर संक्रमित मिली है। वह एनेस्थीसिया विभाग में तैनात थी। दो दिन पहले ही मेडिकल कॉलेज के गर्ल्स हॉस्टल में  शिफ्ट हुई थी। जयपुर में अब तक  523 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें दो डॉक्टर, 5 पुलिसकर्मी, 2 एएनएम, 2 नर्स और 1 वार्ड बॉय शामिल है। वहीं, शहर में अब तक कुल संक्रमित में से करीब 343 संक्रमित एक ही इलाके रामगंज या उसके आसपास के रहने वाले हैं। जयपुर के एसएमएस अस्पताल से शुक्रवार को एक बार फिर कोरोना संदिग्ध ने भागने की कोशिश की। युवक पहली मंजिल से कूदकर बरामदे मे आ गया। इसके बाद अस्पताल स्टाफ ने उसे पकड़कर फिर वार्ड में पहुंचाया। यह वही संदिग्ध है, जो तीन दिन पहले भी खिड़की से कूदकर टीन शेड पर बैठ गया था।

जयपुर परकोटे में तख्तियों पर मैसेज लिख लोगों को गली में आने के लिए मना किया गया। (फोटो- मनोज श्रेष्ठ)

भीलवाड़ा: राजस्थान में कोरोना का एपिसेंटर रहे भीलवाड़ा में सभी कोरोना संक्रमित ठीक हो गए हैं। गत शुक्रवार को हॉस्पिटल में इलाज करा रहे आखिरी मरीज को भी डिस्चार्ज कर दिया गया है। भीलवाड़ा में अब तक कोरोना संक्रमण के 28 केस सामने आए थे, इसमें 26 ठीक हो गए। जबकि दो की मौत हो गई थी। हालांकि, यहां अभी भी सख्ती जारी है। सिर्फ जरूरी सेवाओं को ही कोरोना प्रोटोकॉल के तहत शुरू किया गया है। शहर की सीमाएं सील हैं। किसी को अंदर आने नहीं दिया जा रहा है। साथ ही, इलाके में लगातार सैनेटाइजेशन, स्क्रीनिंग और जांच का काम किया जा रहा है।

जोधपुर: यहां लगातार बढ़ रहा आंकड़ा

जोधपुर में भी रविवार को 27 नए पॉजिटिव केस मिले। इसके बाद यहां कुल संक्रमितों की संख्या 253  (इसमें 46 ईरान से आए) हो गई है। संक्रमितों में एक रेजिडेंट डॉक्टर और होमगार्ड का एक जवान भी है। इससे

पहले शनिवार को 26 नए मरीज मिले थे। राजस्थान सरकार के लिए जयपुर के बाद सबसे बड़ी चिंता जोधपुर बन गया है।

सीकर: पंचकूला में 6 पॉजिटिव मिले, 6 दिन तक सीकर में जमात करके गए थे

चंडीगढ़ के पंचकूला में छह जमाती पाॅजिटिव मिले। ये सभी जमाती छह दिन तक सीकर में रहे थे और सैकड़ों लोग से मिले थे। पंचकूला स्वास्थ्य विभाग ने सीकर प्रशासन को इसकी सूचना दे दी है। छह जमातियों को पंचकूला में क्वारेंटाइन किया गया था। इनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे और इन्हें मौली में शिफ्ट कर दिया गया। 11 अप्रैल को रैहना गांव की पंचायत ने स्वास्थ्य विभाग काे रैहना गांव के 9 लाेगाें काे अलग रखने के लिए भी कहा था। छह जमातियों की ट्रैवल हिस्ट्री पता करने के बाद पता चला कि ये सीकर में जमात लगाकर गए थे। करीब 20 दिन पहले सीकर आए थे और सैकड़ों लोग से मिले थे। इन लोगों ने अभी यह जानकारी नहीं बताई है कि सीकर में किस-किस गांव में यह गए। सीकर से जमात के बाद रेवाड़ी पहुंचे और ट्रेन के जरिए दिल्ली होते हुए पंचकूला पहुंचे थे।

झुंझुनू जिले के 36 पाॅजिटिव में से 21 ठीक, क्वारेंटाइन में भेजा

काेराेना संक्रमण का सामना कर रहे जिले के लिए अच्छी खबर आई। जिले के 36 काेराेना पाॅजिटिव मिले मरीजाें में से 4 पाॅजिटिव केस निगेटिव हाे गए है। अब तक 21 पाॅजिटिव केस निगेटिव हाे चुके है। अब केवल 15 पाॅजिटिव केस का उपचार चल रहा है। इनमें 12 केस का जयपुर और 3 केस का झुंझुनूं में उपचार किया जा रहा है। सीएमएचओ डाॅ. छाेटेलाल गुर्जर ने बताया कि शनिवार काे चार मरीजाें की काेराेना जांच निगेटिव मिली है। इनमें गुढ़ागाैड़जी, मंडावा का एक-एक तथा खेतड़ी के दाे पाॅजिटिव केस निगेटिव हुए है। इनकाे क्वारैंटाइन में भेज दिया गया है। डाॅ. गुर्जर ने बताया कि इससे पहले 13 अप्रैल काे जिले के 10 केस पाॅजिटिव से निगेटिव हाे चुके है। अब गुढ़ागाैड़जी के आठ, नवलगढ़ के चार तथा केशरीपुरा, काेलिंडा और मंडावा का एक-एक पाॅजिटिव केस बचा है।

कोटा: 7 हजार से ज्यादा छात्र निकले, लेकिन अभी हजारों फंसे हुए हैं

कोटा शहर में फंसे कोचिंग छात्रों को लेने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने 252 बसें कोटा भेजी । यहां यूपी के 7 हजार 500 छात्र हैं, जिन्हें बसों से उनके घरों के लिए भेजा गया। राजस्थान और यूपी सरकार ने गुरुवार को यह फैसला लिया था। छात्रों के लिए शुक्रवार को 102 बसें झांसी और 150 बसें आगरा से रवाना हुईं थी। जिसके बाद शनिवार रात तक कोटा से बसों को रवाना किया गया। हालांकि, अभी यहां बड़ी संख्या में दूसरे राज्यों के छात्र फंसे हुए हैं। 

घर जाने की जल्दी में सोशल डिस्टेंसिंग भूले छात्र।

राज्य के  33 जिलों में से अब तक कोरोना 25 तक पहुंच गया है। सबसे ज्यादा जयपुर में 523 (2 इटली के नागरिक) पॉजिटिव मिले हैं। इसके अलावा जोधपुर में 253 (इसमें 46 ईरान से आए), कोटा में 99, टोंक में 95, भरतपुर में 93, बांसवाड़ा में 60, जैसलमेर में 46 (इसमें 14 ईरान से आए), बीकानेर में 35, झुंझुनूं में 36 और भीलवाड़ा में 28 मरीज मिले हैं। उधर, नागौर में 32, झालावाड़ में 20, अजमेर में 18 चूरू में 14, दौसा में 13, अलवर में 7, डूंगरपुर में 5, उदयपुर में 4, करौली में 3, हनुमानगढ़ में 3, प्रतापगढ़, सीकर और पाली में 2-2, जबकि बाड़मेर और धौलपुर में 1-1 व्यक्ति को इस बीमारी ने अपनी चपेट में लिया है।

राजस्थान में कोरोना से अब तक 22 लोगों की मौत हुई। इसमें सबसे ज्यादा 12 मौतें जयपुर में हुई। वहीं, जोधपुर, भीलवाड़ा और कोटा में दो-दो की जान जा चुकी है। इसके अलावा बीकानेर और टोंक में एक-एक की मौत हुई है। इनमें एक 13 साल की बच्ची है बाकी सभी मृतकों की उम्र 47 साल से अधिक थी।