Rajasthan News In Hindi : Jaipur Coronavirus: Jaipur Coronavirus Case Death Today Latest News Updates; Italian tourist Andrey Carly Dies In Rajasthan | इटली के पर्यटक ने दम तोड़ा, लेकिन 5 दिन पहले रिपोर्ट निगेटिव थी; मंत्री बोले- मौत का कारण कोरोना से अलग है


  • 69 साल के एंड्री कार्ली को 29 फरवरी को जयपुर में भर्ती करवाया गया था, 2 मार्च को कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी
  • इलाज के दौरान दोबारा उनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे, जिसकी 15 मार्च को रिपोर्ट निगेटिव आई थी

दैनिक भास्कर

Mar 20, 2020, 02:52 PM IST

जयपुर. देश में कोरोनावायरस के संक्रमित मिले पहले विदेशी पर्यटक की शुक्रवार को जयपुर में इलाज के दौरान मौत हो गई। राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि इटली का पर्यटक रेगुलर स्मोकर था।  कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने पर उसे दूसरी बीमारियों के इलाज के लिए फोर्टिस हॉस्पिटल में शिफ्ट किया गया था। अब मौत का कारण कोरोना से अलग मिला है। इससे पहले भारत में कोरोनावायरस से कर्नाटक के कलबुर्गी, दिल्ली, मुंबई और पंजाब के नवांशहर में मौतें हो चुकी हैं। बड़ी बात यह कि सभी मृतक 60 साल से ज्यादा उम्र के थे।

इटली से आए 69 वर्षीय एंड्री कार्ली 29 फरवरी से सवाई मानसिंह अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे। 2 मार्च को उनकी रिपोर्ट में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। इसके बाद 15 मार्च को रिपोर्ट निगेटिव मिली थी। एंड्री की पत्नी ने इटली दूतावास से उन्हें जयपुर के ही फोर्टिस हॉस्पिटल में भर्ती करने की अनुमति मांगी थी। जहां उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था। एंड्री इटली के उसी पर्यटक दल का हिस्सा थे, जिसके 16 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। एंड्री के बाद उनकी पत्नी की भी कोरोनावायरस रिपॉर्ट पॉजिटिव आई थीं। इलाज के बाद पत्नी की रिपोर्ट भी निगेटिव आई थी। अब वह स्वस्थ बताई जा रही हैं।

1-28 फरवरी तक राजस्थान में घूमता रहा यह दल
इटली के जिस दल में एंड्री आए थे, उसमें 23 विदेशी पर्यटक, एक ड्राइवर, एक हेल्पर और एक गाइड शामिल था। यह दल 21 फरवरी को सबसे पहले राजस्थान के झुंझुनूं पहुंचा। इसके बाद बीकानेर, जैसलमेर, जोधपुर और फिर उदयपुर होते हुए जयपुर पहुंचा था। एंड्री के पॉजिटिव पाए जाने के बाद पूरे दल की जांच की गई, जिसमें 16 विदेशी पर्यटक और एक ड्राइवर समेत 17 लोग पॉजिटिव पाए गए थे। इसके बाद तीन लोग जयपुर में एडमिट थे, जबकि बाकी लोगों को दिल्ली में एडमिट कराया गया था।