Rajasthan News In Hindi : MP ‘Sarkar’ came to Rajasthan asylum for 3 reasons; 40 MLAs from Maharashtra were saved from cross voting, now 81 MLAs from Madhya Pradesh are guests | 3 कारणों से राजस्थान की शरण में आई एमपी ‘सरकार’; महाराष्ट्र के 40 विधायक क्रॉस वोटिंग से बचाए थे


Dainik Bhaskar

Mar 12, 2020, 03:25 AM IST

जयपुर. राजस्थान के सियासी धोरों के बीच मध्यप्रदेश के 81 विधायकों की अभेद्य बाड़ाबंदी की गई है। बुधवार को दोपहर 2:20 बजे सीएम अशाेक गहलाेत सांगानेर एयरपाेर्ट पर पहुंचे और विधायकाें का वेलकम किया। दिवाली के बाद महाराष्ट्र में सियासी सरगर्मियों के बीच वहां के 40 कांग्रेसी विधायकों को क्रॉस वोटिंग से बचाए रखने के बाद अब फिर से मध्यप्रदेश के 81 विधायकों को राजस्थान के सेफ हाउस में रखा गया है। मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार होने के बावजूद राजस्थान की शरण में क्यों आई एमपी सरकार… सवाल का जवाब सीएम गहलोत का मिस्टर भरोसेमंद की छवि है। वहीं, मध्यप्रदेश के सरकार विरोधी माहौल और लोकल कनेक्ट से होने वाले ब्रेन वॉश से बचाने के लिए ही कांग्रेस ने रिसोर्ट ट्यूरिज्म का दांव चला है। वहीं, महाराष्ट्र का लकी फैक्टर भी एक वजह है।

मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार फिर भी राजस्थान के सियासी धोरों में ही अभेद्य बाड़ाबंदी क्यों?

1. लाेकल कनेक्ट से ब्रेन वॉश न हो
मध्यप्रदेश के सरकार विरोधी माहौल से 600 किलोमीटर दूर जयपुर में कांग्रेस सरकार है। भोपाल में खतरा था कि लोकल कनेक्ट की वजह से विधायक किसी विरोधी के संपर्क में न रहें।
 

2. सीएम गहलोत मिस्टर भरोसेमंद
सीएम अशाेक गहलाेत की सादगी से इन विधायकाें के मन में कांग्रेस के प्रति पनप रही नकारात्मकता काे खत्म करेंगे। गहलाेत व अन्य नेताअाें के अनुभवाें से विधायकाें का भटकाव राेकेंगे। 
 

3. महाराष्ट्र का लकी फैक्टर
राजस्थान ने दिवाली बाद महाराष्ट्र की सियासी उठापठक के दौरान 40 कांग्रेसी विधायकों को क्रॉस वोटिंग से बचाया था। अब होली बाद एमपी के 81 विधायक जयपुर की शरण में हैं।

मप्र के विधायक बाेले- भाजपा वाले गुरुग्राम घूमने गए, हम भी आए हैं, सरकार सुरक्षित

जयपुर एयरपोर्ट से बस में होटल आते हुए कांग्रेस के विधायक।

एयरपाेर्ट पर मध्य प्रदेश के कांग्रेसी विधायकाें ने बीजेपी के खिलाफ नारे लगाए। सज्जन वर्मा सहित कई कांग्रेसियाें ने कमलनाथ सरकार सुरक्षित रहने का दावा किया। विधायकाें के अलग मत थे।  इनमें कुछ विधायक कांग्रेस के साथ 112 ताे काेई 94 तक आंकड़ा गिना रहे थे। कुछ विधायकाें ने खुद की बाड़ेबंदी पर कहा कि जिस तरह से बीजेपी वाले गुरुग्राम घूमने गए थे। ठीक उसी तरह से हम भी राजस्थान आए हैं। 

किले बने दोनों रिसोर्ट, आम लोगों के लिए नो एंट्री, पहले हो चुकी बुकिंग भी कैंसिल कीं

  • जयपुर पहुंचे विधायकों को दिल्ली हाईवे पर दो रिसाेर्ट में रखा है। ब्यूना विस्टा और ट्री हाउस रिसोर्ट किला बन चुके हैं।
  • एयरपोर्ट से ब्यूना विस्टा रिसाेर्ट 23 किमी व ट्री हाउस 47 किमी दूर है। दोनों की दूरी 22 किमी है। 
  • हेरिटेज स्टाइल में बने हैं रिसोर्ट। ब्यूना विस्टा में एक कमरे का किराया 19 से 21 हजार रुपए प्रतिदिन है। ट्री हाउस में रेंट 10 हजार है।
  • दोनों रिसोर्ट में फिलहाल आम लोगों के लिए बुकिंग कैंसिल है

सियासी पारा ऑलटाइम हाई: भोपाल से जयपुर स्पेशल विमान से विधायक पधारे म्हारे देस :

बस के सारथी महेंद्र चौधरी और महेश जाेशी

  • बुधवार दाेपहर 2:20 बजे सीएम अशाेक गहलाेत ने सांगानेर एयरपाेर्ट पर पहुंचकर विधायकों का स्वागत किया। 
  • शाम 4 से 5:15 बजे तक सीएम अशाेक गहलाेत खुद दाेनाें रिसाेर्ट में जाकर विधायकाें से मिलते रहे।
  • दोपहर 2:55 बजे विधायक 3 बसों से रवाना हुए। महेंद्र चाैधरी बस में विधायकाें काे मिठाई बांटते रहे। महेश जोशी भी मौजूद रहे।
  • दाेपहर 3:40 तक सभी विधायक रिसाेर्ट पहुंचे। ब्यूना विस्टा रिसाेर्ट में महेंद्र चाैधरी अाैर ट्री हाउस में मंत्री प्रताप सिंह अाैर मुख्य सचेतक महेश जाेशी ने माेर्चा संभाला।
     

उत्तराखंड में सरकार बचाने वाले रावत भी जयपुर में

  • कांग्रेस आलाकमान ने उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत को भी मोर्चे पर लगाया गया है। 2016 में भी उत्तराखंड की हरीश रावत सरकार को बीजेपी ने अस्थिर करने की कोशिश की थी तो उन्होंने विधानसभा में विश्वास मत हासिल किया था। एयरपोर्ट पर प्रदेश का पुलिस-प्रशासन अमला बुधवार काे दिनभर मुस्तैद रहा।
  • संगठन के रणनीतिकार और महासचिव मुकुल वासनिक भी जयपुर में हैं। उन्हें ब्यूना विस्टा रिसोर्ट में मध्यप्रदेश के विधायकों के साथ रखा गया है। 8 मार्च को ही मुकुल वासनिक ने 60 साल की उम्र में शादी की है।