Rajasthan Political Crisis: Congress Did Not Expel Sachin Pilot, Math behind it?  – कांग्रेस ने सचिन पायलट को पार्टी से नहीं निकाला, क्या है इसके पीछे का गणित?


माना जा रहा है कि सचिन पायलट को 17 विधायकों का समर्थन प्राप्त है, जिसमें खुद और तीन निर्दलीय शामिल हैं. इसका मतलब यह होगा कि अगर 17 विधायकों को निष्कासित किया जाता है तो संसद के नियमों के तहत वे एक अलग मोर्चा भी बना सकते हैं और यहां तक कि BJP में भी शामिल हो सकते हैं. इसके साथ-साथ विधानसभा में विश्वास मत के दौरान सरकार के खिलाफ वोट करने का भी उन्हें अधिकार होगा.

लेकिन अगर पार्टी उन्हें विश्वास मत से पहले डिस्क्वालिफाई करती है तो इससे बहुमत का आंकड़ा कम हो जाएगा, जो वर्तमान में 101 है. वहीं, अगर 17 बागी विधायकों को दलबदल विरोधी कानून के तहत अयोग्य ठहराया जाता है, तो बहुमत का आंकड़ा 92 तक पहुंच जाएगा. अकेले कांग्रेस के पास कम से कम 90 विधायक होने की उम्मीद है और दो सीपीएम विधायकों के समर्थन से गहलोत विश्वास मत जीत सकते हैं.

राजस्थान संकट पर जयपुर में कल सुबह 11 बजे BJP की अहम बैठक, वसुंधरा राजे भी रहेंगी मौजूद

इस स्थिति में उन्हें 10 निर्दलीय विधायकों में से किसी एक या भारतीय ट्राइबल पार्टी के दो विधायकों के समर्थन की भी जरूरत नहीं होगी, जिसने कांग्रेस से समर्थन वापस ले लिया है. कांग्रेस ने पहले ही पायलट और विधायकों पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया है, साथ ही यह भी कहा है कि अब भी बातचीत के लिए ‘दरवाजे खुले हैं.’ पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल व्यक्तियों को दलबदल विरोधी कानून के तहत स्पीकर द्वारा अयोग्य ठहराया जा सकता है.

राजस्थान में सियासी घमासान के बीच सचिन पायलट ने किया एक और Tweet – ‘साथ खड़े लोगों को कहा शुक्रिया’

नियमों के तहत, विधायक दल के नेता को अयोग्यता की कार्यवाही शुरू करने के लिए अध्यक्ष के पास शिकायत दर्ज करनी होती है. विधायकों को नोटिस जारी किया जाता है, जिन्हें अपनी प्रतिक्रिया दाखिल करने के लिए समय दिया जाता है. अंतिम निर्णय अध्यक्ष का होता है. हालांकि यह विकल्प अभी के लिए अशोक गहलोत सरकार को बचा सकता है, लेकिन सरकार के पास जो आंकड़ा रहेगा वह बहुमत के बेहद करीब रहेगा और आने वाले समय में इससे दिक्कत हो चुकी है.

राजस्‍थान में गहलोत सरकार पर ‘संकट’ के बीच AAP ने यूं साधा कांग्रेस और बीजेपी पर निशाना..

कार्यवाही पर निगाह रखने वाली भाजपा पहले ही विश्वास मत की बात कर रही है. पायलट ने रविवार को 30 विधायकों के समर्थन का दावा किया था और कहा था कि अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में है. कांग्रेस ने शुरुआत में 109 विधायकों के समर्थन का दावा किया था और फिर 107. सोमवार को हुई कांग्रेस की बैठक में 106 विधायकों ने भाग लिया था. देर रात, भारतीय ट्राइबल पार्टी (BTP) ने कहा कि विश्वास मत के दौरान वह न तो सरकार और न ही भाजपा का समर्थन करेंगे. वहीं, आज तीन और विधायक कांग्रेस के खेमे से गायब दिखे.

देर शाम सचिन पायलट ने अपने साथ खड़े लोगों का आभार जताया. सचिन पायलट ने ट्वीट किया, ‘आज जो मेरे समर्थन में आए उनका तहे दिल से शुक्रिया व आभार. राम राम सा!

VIDEO: सीएम की विधायकों के साथ बैठक के बाद लिया गया पायलट को बर्खास्त करने का फैसला