Ranchi News In Hindi : Ranchi Dhanbad Coronavirus Lockdown Live | Read Corona Virus Lockdown Day 6 {Curfew} In Jharkhand Ranchi Jamshedpur Dhanbad (COVID-19) Cases News and Updates | रोज सुबह सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रहे लोग, बंगाल से आ रहे हजारों मजदूरों को प्रशासन ने रोका


  • बॉर्डर पर रोके गए मजदूरों की खाने की व्यवस्था थाने में की गई है
  • धनबाद के बाजारों में लापरवाही बरत कर खरीदारी कर रहे लोग

दैनिक भास्कर

Mar 30, 2020, 01:50 PM IST

रांची/धनबाद/जमशेदपुर. लॉकडाउन के दौरान रोजाना सुबह सब्जी खरीदारी के दौरान लोग सोशल डिस्टेंसिंग को भूल जा रहे हैं और मंडियों में लोगों की भारी भीड़ उमड़ रही है। लॉकडाउन के छठे दिन गढ़वा के बाजार समिति और पलामू के हरिहरगंज और हैदरनगर के बाजारों में मेले जैसी भीड़ देखने को मिली। गढ़वा के बाजार समिति में सब्जी व खाद्य समाग्री की खरीदारी के दौरान न तो लोग सजग दिखे और न प्रशासन। वहीं, पलामू जिला के हरिहरगंज और हैदरनगर में सुबह आठ बजे से सब्जी लेने के लिए बाजार में भीड़ पहुंची। यहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होता नहीं दिखा। इस दौरान बाजारों में पुलिस-प्रशासन का भी कोई अधिकारी-अफसर मौजूद नहीं था।

उधर, एसबीआई की हैदरनगर शाखा के सामने सुबह आठ बजे से ही लोगों की भीड़ जुट गई। बैंक खुलने के पहले ही लोग जमा हो गए। भीड़ में मौजूद लोगों में सोशल डिस्टेंसिंग की जागरूकता का आभाव दिखा। इस दौरान आसपास के लोग काफी परेशान और भयभीत दिखे। लोगों का कहना था कि अगर इनमें से कोई एक भी कोरोना का पॉजेटिव हुआ तो कई लोगों की जान खतरे में पड़ जाएगी।

21 दिन के लॉकडाउन के छठे दिन सोमवार को भी पड़ोसी राज्य बंगाल से मजदूरों का झारखंड आना जारी है। इन मजदूरों में कुछ बिहार के तो कुछ यूपी के हैं। ये एनएच-2 के जरिए ट्रकों में सवार होकर घरों की ओर निकले। लेकिन, इन्हें बंगाल-झारखंड के मैथन बॉर्डर पर ही पुलिस-प्रशासन ने रोक लिया। फिलहाल, मजदूरों के मैथन थाना में ही खाने-पीने की व्यवस्था की गई है।

 झारखंड-बंगाल बॉर्डर पर ट्रक में सवार मजदूर।

उधर, धनबाद के गोविंदपुर के सब्जी मंडी में रोजाना की तरह भीड़ दिखी। यहां न सोशल डिस्टेंसिंग का महत्व समझा जा रहा है न हीं पुलिस समझाने की जहमत उठा रही है। सोमवार सुबह सब्जी मंडी में स्थानीय लोग सोशल डिस्टेंसिंग न बनाकर ऐसे ही खरीदारी करते दिखे। अधिकतर लोगों ने मास्क भी नहीं लगाया था। इस दौरान बाजार में पुलिस की पीसीआर वैन खड़ी जरुर थी लेकिन उनमें से अधिकतर पुलिसकर्मी गाड़ी के अंदर ही बैठे रहे।

जमशेदपुर: मॉर्निंग वॉक पर निकले लोगों को पुलिस ने पकड़ा

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने सोमवार को जमशेदपुर में एमजीएम अस्पताल में ऑक्सीजन गैस पाइपलाइन का उद्घाटन किया

शहर के टेल्को में सोमवार सुबह मॉर्निंग वॉक के लिए निकले लोगों को टेल्को पुलिस पकड़कर थाना ले गई और इस बारे में टेल्को प्रभारी अखिलेश मंडल ने उनके परिजनों को सूचना दी। सूचना के बाद थाना पहुंचे परिजनों व मॉर्निंग वॉकर्स को हिदायत दी गई और फिर उन्हें कोरोना से बचने की सलाह देकर छोड़ा गया। वहीं, शहर के कई सब्जी मंडियों में ग्रामीण इलाकों से सब्जी बेचने आई महिलाओं को घर लौटने में परेशानियों का सामना करना पड़ा। महिलाओं को घर लौटने के लिए कोई वाहन नहीं मिला जिससे वे पैदल ही घर की ओर निकल गई। रोजाना की तरह शहर के मानगो पुल पर लोगों की आवाजाही देखी गई। इधर, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने सोमवार को जमशेदपुर में एमजीएम अस्पताल में ऑक्सीजन गैस पाइपलाइन का उद्घाटन किया। ऑटोमेटिक ऑक्सीजन प्लांट से गैस की आपूर्ति होगी। अबतक ऑक्सीजन सिलेंडर से मुहैया कराया जाता था। उद्घाटन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का का बेहद खयाल रखा गया। 

रांची के मांडर प्रखंड के मेशाल गांव में लॉकडाउन हो जाने के कारण लोग घर में ही धान कूट कर चावल बना रहे हैं।

पाकुड़: वापस लौटै मजदूरों को क्वारैंटाइन किया
सरकार द्वारा लॉक डाउन को सख्ती से पालन करने के आदेश के बावजूद पाकुड़ व साहेबगंज के लिए प्रतिदिन रांची व अन्य स्थानों से सैकड़ों मजदूर वापस लौट रहे हैं। पुलिस-प्रशासनिक महकमा द्वारा वापस लौट रहे मजदूरों की स्क्रीनिंग की जा रही है और उन्हें होम क्वारैंटाइन का निर्देश भी दिया जा रहा है। सोमवार को ऐसे मजदूरों से भरी बस को पाकुड़ पुलिस-प्रशासन द्वारा सीमा पर रोका गया और उनकी जांच की गई। जानकारी के मुताबिक, उनके पास बस से परिचालन करने का आदेश भी है जो प्रशासनिक लापरवाही का उदाहरण है।

गोड्डा: सीमाएं सील की
गोड्डा जिले की सीमा से सटे बिहार के भागलपुर जिले में कोरोना के 4 मरीज मिले हैं। इसलिए गोड्डा एसपी शैलेंद्र वर्णवाल ने बॉर्डर सीलिंग (सीमाबंदी) को सख्ती से लागू करने का फैसला किया है। गोड्डा के साथ सटे सभी अन्तर्राजिय जिले तथा दूसरे राज्य (बिहार) की सीमा से सटे सभी रास्तों को बंद कर दिया गया है। बॉर्डर पर क्वारैंटाइन सेंटर भी बनाए गए हैं जहां बाहर से आए लोगों को जांच के बाद 14 दिनों तक उसमें रखना है। उसके बाद ही उन्हें उनके गंतव्यों तक जाने की अनुमति दी जाएगी।

लोहरदगा: प्रशासन की सख्ती से घरों में रह रहे लोग
जिले में लागू किए गए 21 दिनों के लॉकडाउन के दौरान शुरुआती दौर की तुलना में अब लोगों में कोरोना महामारी को लेकर गंभीरता देखने को मिल रही है। प्रशासन द्वारा निरंतर सख्ती बरते जाने के बाद लोग अब अपने दुकानों व प्रतिष्ठानों को बंद रखते हुए घरों पर रह रहे हैं। वहीं सुबह शुरुआती दौर में बाजारों में अब भी सोशल डिस्टेंसी का पूर्ण रूप से पालन नहीं हो रहा था।

देवधर: प्राइवेट डॉक्टर्स से मदद की अपील

उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी नैंसी सहाय ने कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के बाद चिकित्सकों व स्वास्थ्यकर्मियों की आवश्यकता को देखते हुए जिला के सभी निजी व सरकारी क्षेत्र में प्रैक्टिस करने वाले तथा सेवानिवृत्त चिकित्सकों व स्वास्थ्यकर्मियों से अपील की है कि वे स्वेच्छा से आगे आयें और जरूरत के इस समय में समाज की मदद करें। उन्होंने कहा कि वॉलेंटियर, डॉक्टर के रूप में सहयोग करने हेतु कोई भी इच्छुक व्यक्ति जिला प्रशासन के दूरभाष संख्या- 9771935367 पर सम्पर्क कर सकते हैं एवं कोरोना से इस जंग में अपना सहयोग दे सकते हैं।

अब तक 196 की जांच, 190 निगेटिव, 6 की रिपोर्ट पेंडिंग
झारखंड में अब तक कोई भी कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने नहीं आया है। राज्य में 196 लोगों का टेस्ट किया गया है, इनमें से 190 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। जबकि 6 लोगों की रिपोर्ट आना बाकी है। जिन लोगों का टेस्ट किया गया उनमें से 78 लोगों के सैंपल राज्य के विभिन्न जिलों से सदर अस्पतालों ने भेजे। बाकी खुद रिम्स या एमजीएम जांच के लिए पहुंचे।