Sachin Pilot Jyotiraditya Scindia BJP Offer Update | BJP Jammu Kashmir Lt. Governor Post Offer to Rajasthan Deputy CM Sachin Pilot, All You Need To Know In Question and Answer | जब सिंधिया बागी हुए, भाजपा ने पायलट को तभी कश्मीर के उपराज्यपाल का पद ऑफर किया था, लेकिन तब वे नहीं माने

Sachin Pilot Jyotiraditya Scindia BJP Offer Update | BJP Jammu Kashmir Lt. Governor Post Offer to Rajasthan Deputy CM Sachin Pilot, All You Need To Know In Question and Answer | जब सिंधिया बागी हुए, भाजपा ने पायलट को तभी कश्मीर के उपराज्यपाल का पद ऑफर किया था, लेकिन तब वे नहीं माने


  • ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 11 मार्च को मध्यप्रदेश के 22 विधायकों के साथ भाजपा जॉइन कर ली थी

सुनील चौधरी

Jul 13, 2020, 07:39 PM IST

जोधपुर. जब मार्च में मध्यप्रदेश कांग्रेस में बगावत हुई थी, उसी वक्त भाजपा ने सचिन पायलट से भी संपर्क किया था। दरअसल, उनकी मौजूदा बगावत को भी ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने से जोड़कर देखा जा रहा है। भाजपा पायलट को अपने पाले में करने की अब तक तीन बार कोशिश कर चुकी है, लेकिन कामयाबी नहीं मिली।

1. भाजपा की पहली कोशिश: पायलट को कश्मीर का ऑफर दिया
जब सिंधिया बगावत कर कांग्रेस से अलग हुए थे, तभी भाजपा ने पायलट से संपर्क किया था। सूत्रों ने भास्कर को बताया कि भाजपा ने पायलट को जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल पद का ऑफर दिया था। इसके पीछे सोच यह थी कि पायलट वहां के पूर्व सीएम फारुक अब्दुल्ला के दामाद हैं, इसलिए वे वहां स्थिति को संभाल लेंगे। सूत्र बताते हैं कि तब पायलट ने राजस्थान छोड़ने से इनकार कर दिया था। 

2. भाजपा की दूसरी कोशिश: राज्यसभा चुनाव
पायलट के कश्मीर का ऑफर ठुकराने के बाद भी भाजपा लगातार कोशिश करती रही। राज्यसभा चुनाव में भी भाजपा ने पायलट को अपने पाले में करने की कोशिश की थी, लेकिन तब भी बात नहीं बन पाई थी। पायलट ठीक-ठाक संख्याबल नहीं जुटा पाए थे।

3. भाजपा की तीसरी कोशिश: इस बार भी जफर इस्लाम का कनेक्शन
सूत्रों के मुताबिक, रविवार दोपहर ज्योतिरादित्य सिंधिया की अपने पुराने साथी सचिन पायलट से दिल्ली में मुलाकात हुई। इसके बाद भाजपा प्रवक्ता जफर इस्लाम ने पायलट से संपर्क किया। इस चर्चा के बाद जफर इस्लाम ने लगातार भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को अपडेट दिया। जफर इस्लाम वही नेता हैं, जिन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा में शामिल करने में अहम भूमिका निभाई थी।

मार्च में सिंधिया भाजपा में शामिल हुए थे
11 मार्च को ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भाजपा जॉइन की थी। उनके साथ कांग्रेस के 22 विधायकों ने भी पार्टी छोड़ दी थी। मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा और बहुमत परीक्षण से पहले ही सीएम कमलनाथ को इस्तीफा देना पड़ा। इस तरह प्रदेश में भाजपा की फिर से सरकार बनी। भाजपा ने सिंधिया को अपने कोटे से राज्यसभा भेज दिया।

राजस्थान के सियासी घटनाक्रम पर आप ये भी खबरें पढ़ सकते हैं…
1. क्या कमजोर पड़ रहे सीएम? गहलोत खेमे का दावा- बैठक में 102 विधायक पहुंचे; हकीकत- पायलट खेमे के 18 कांग्रेस एमएलए नहीं आए

2. कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद विधायकों को 4 बसों से होटल भेजा गया, बैठक में गहलोत के समर्थन में रेजोल्यूशन पास

3. गहलोत के करीबी कांग्रेस नेताओं के 24 ठिकानों पर इनकम टैक्स के छापे, कांग्रेस ने कहा- डराने के इरादे से की गई कार्रवाई

4. वॉट्सऐप काॅलिंग के जरिए गहलोत सरकार काे अल्पमत में लाने की प्लानिंग बनी, रात तक पायलट समर्थक एमएलए के फाेन ऑफ आते रहे

Leave a Reply