The first lockdown in India was first in the US for three days after the 9/11 incident. | भारत में पहली बार लॉकडाउन, सबसे पहले अमेरिका में 9/11 की घटना के बाद तीन दिन के लिए हुआ था


  • दवा, किराना, मीडिया, पुलिस, बैंकिंग और चिकित्सा जैसी जरूरी सेवाएं छोड़कर सब कुछ बंद रहेगा।
  • 2013 में बोस्टन को आतंकियों की खोज और 2015 में पेरिस हमले के बाद ब्रुसेल्स लॉकडाउन था

दैनिक भास्कर

Mar 23, 2020, 11:04 AM IST

नई दिल्ली. भारत के इतिहास में पहली बार लॉकडाउन किया गया है। यानी दवा, किराना, मीडिया, पुलिस, बैंकिंग और चिकित्सा जैसी जरूरी सेवाएं छोड़कर सब कुछ बंद रहेगा। ऐसा भी पहली बार हो रहा है, जब किसी महामारी की वजह से देश में लॉकडाउन किया गया है। दुनिया में सबसे पहला लॉकडाउन अमेरिका ने 9/11 आतंकी हमले के बाद तीन दिन के लिए किया गया था। इसके बाद 2013 में बोस्टन को आतंकियों की खोज और 2015 में पेरिस हमले के बाद संदिग्धों को पकड़ने के लिए ब्रुसेल्स लॉकडाउन किया गया था।

इन सवालों से समझें कि रोजमर्रा की किन चीजों पर असर पड़ेेगा

  • लॉकडाउन मतलब क्या?
  • लॉकडाउन में लोगों को घरों से निकलने की अनुमति नहीं होती। उन्हें सिर्फ दवा, अनाज या फिर बैंक व एटीएम से पैसा निकालने जैसी जरूरी चीजों के लिए बाहर आने की इजाजत मिलती है। 
  • क्या लोग अपने वाहन से बाहर जा सकेंगे?
  • अति-आवश्यक काम जैसे मेडिकल इमरजेंसी की जरूरत में एंबुलेंस की सेवाएं ली जा सकती हैं। या काेई अन्य आपातकाल हाे ताे आपकाे सुरक्षा व्यवस्था से जुड़े प्रशासन के लाेगाें से मदद लेनी हाेगी। अपने निजी वाहन से घूमने फिरने की अनुमति नहीं होगी।
  • क्या राेजमर्रा की जरूरतें उपलब्ध होंगी?
  • सब्जी- फल, किराना, दूध, दवाएं आदि राेज काम आने वाली जरूरी वस्तुएं इस लाॅकडाउन के दायरे से बाहर रहेंगी।
  • दिनचर्या का क्या? मैं पार्क में वाॅक कर सकूंगा?
  • यह लाॅकडाउन आपकी जिंदगी काे सुरक्षित बनाने के लिए है। यदि आप घर से बाहर जाएंगे ताे दूसराें के संपर्क में आ जाएंगे, जाे आपकी सेहत के लिए जानलेवा भी हाे सकता है। लाॅकडाउन इसीलिए है। अति आवश्यक हाेने जैसे अस्तपताल, बैंक में पैसा निकालने, किराना-डेयरी का सामान खरदीने आदि के लिए ही    आपकाे अपने घर से बाहर निकलना हाेगा।
  • वैवाहिक या अन्य कार्यक्रमाें का क्या हाेगा? 
  • अभी काेराेनावायरस से वैसे ही हालात खराब है। ऐसे में किसी भी सामूहिक सामाजिक कार्यक्रम के आयाेजन की अनुमति नहीं है। यदि आवश्यक ही हाे ताे इसकी मंजूरी प्रशासन से लेनी हाेगी।
  • लाॅकडाउन में सरकारी-प्राइवेट संस्थान बंद हैं?
  • सब बंद हैं। सिर्फ जरूरी आपातकालीन सेवाओं से जुड़े विभाग के ऑफिस ही खुले रहेंगे।
  • क्या पेट्रोल, घरेलू गैस और इंटरनेट मिलेगा?
  • पेट्रोल-सीएनजी और घरेलू गैस और इंटरनेट सेवाओं को इससे अलग रखा गया है। जरूरत पड़ने पर वाहन में पेट्रोल-सीएनजी भरवा सकते हैं। नंबर लगाने के बाद सामान्य दिनों की भांति आपके घर गैस पहुंचेगी। इंटरनेट चालू रहेगा।
  • निजी अस्पताल में चिकित्सीय सेवाएं मिलेगी?
  • निजी अस्पताल में भी सेवाएं मिलती रहेंगी। छोटी-मोटी परेशानी के लिए अपने फैमिली डॉक्टर से बात कर सकते हैं।