Vikas Dubey connection: Jai Vajpayee arrested with job of four thousand rupees, close people are also under investigation | गैंगस्टर विकास दुबे का खास गुर्गा जयकांत वाजपेयी गिरफ्तार; अब काली कमाई का राज खुल सकता है, बेनामी खातों की तलाश शुरू

Vikas Dubey connection: Jai Vajpayee arrested with job of four thousand rupees, close people are also under investigation | गैंगस्टर विकास दुबे का खास गुर्गा जयकांत वाजपेयी गिरफ्तार; अब काली कमाई का राज खुल सकता है, बेनामी खातों की तलाश शुरू


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Vikas Dubey Connection: Jai Vajpayee Arrested With Job Of Four Thousand Rupees, Close People Are Also Under Investigation

कानपुर19 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के सहयोगी जय वाजपेयी (बाएं) को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पहले उससे हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही थी। जय, विकास को कारतूस सप्लाई करता था।

  • 2 जुलाई की घटना के बाद कानपुर में काकदेव पुलिस ने तीन अज्ञात गाड़ियां बरामद की थीं
  • आरोपी जयकांत वाजपेयी पर विकास की मदद करने का आरोप, पैसे और कारतूस देने बिकरु गया था

बिकरू के गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद कानपुर के ब्रह्मनगर में रहने वाले कारोबारी जयकांत उर्फ जय वाजपेयी को पुलिस ने रविवार देर रात गिरफ्तार कर लिया। उस पर विकास को कारतूस सप्लाई करने की पुष्टि हुई है। इसके साथ मुठभेड़ में मारे गए बऊआ मिश्रा के जीजा प्रशांत शुक्ला उर्फ डब्बू को भी पकड़ा है। दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। पुलिस जय को हिरासत में लेकर कई दिनों से पूछताछ कर रही थी।

पुलिस ने बताया कि 3 जुलाई की रात बिकरु गांव में दबिश देने गई पुलिस की टीम पर विकास और उसके साथियों ने फायरिंग की थी। इसमें 8 पुलिसवाले मारे गए थे। 7 अन्य पुलिसवाले जख्मी हो गए थे।

जयकांत पर विकास की मदद करने का आरोप 
इस घटनाक्रम को लेकर थाना चौबेपुर में एक केस दर्ज किया गया था। जांच में पाया कि जयकांत और उसके साथी प्रशांत ने घटना से पहले विकास की मदद की थी। 1 जुलाई को विकास ने जयकांत को फोन करके कुछ रुपए के साथ कारतूस की मांग की थी।  

2 जुलाई को गांव पहुंचकर जय ने विकास को 2 लाख रुपए नकद और 25 हजार रुपए के कारतूस दिए थे। घटना को अंजाम देने के बाद विकास और उसके साथियों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए जय 3 लग्जरी गाड़ी लेकर भी जा रहा था, लेकिन पुलिस की सक्रियता के चलते तीनों गाड़ियों को थाना काकादेव इलाके में छोड़कर चला गया था। लंबी पूछताछ और सबूतों के आधार पर पुलिस ने जयकांत और प्रशांत पर केस दर्ज करके गिरफ्तार कर लिया।

मुठभेड़ के बाद काकदेव पुलिस ने बरामद की थी तीन अज्ञात गाड़ियां
घटना के बाद कानपुर में पुलिस को सड़क पर तीन अज्ञात गाड़ियां खड़ी होने की जानकारी मिली थी। जांच करते हुए काकदेव पुलिस जयकांत तक पहुंच गई। घटना के एक दिन बाद से ही जयकांत पुलिस की हिरासत में था। पुलिस पहले ही दिन से जयकांत को विकास का खजांची होने का दावा कर रही थी।

बेनामी खातों की तलाश शुरू
विदेशों में संपत्ति की जांच कर रही टीम को इस बात का अंदेशा है कि यह सौदा बेनामी खातों और हवाला नेटवर्क के जरिए किया गया है। आयकर टीम उन खातों और हवाला रैकेट तक पहुंचने की कोशिश करेगी। छानबीन में छोटा-सा सुराग हाथ लगते ही फेमा के तहत कारवाई की तैयारी भी की जा रही है। विभाग इस बात की जांच कर रहा है कि विदेशों में यदि संपत्ति खरीदी गई तो पैसे कैसे ट्रांसफर किए गए। अभी तक जय के बैंक खातों से इस बात के सबूत नहीं मिले हैं कि पैसे विदेशों में भेजे गए हों। अधिकारियों को आशंका है कि विदेशों में पैसा खपाने के लिए हवाला रैकेट का इस्तेमाल किया गया।

0

Leave a Reply